फ़िरोज़पुर या फिरोज़पुर (पंजाबी; ਫ਼ਿਰੋਜ਼ਪੁਰ) भारत के राज्य पंजाब के फ़िरोज़पुर ज़िले में स्थित एक नगर और जिला मुख्यालय है। सतलुज नदी के किनारे बसे इस नगर की स्थापना सुल्तान फिरोज शाह तुगलक (1351-88) ने की, जो तुगलक वंश का एक शासक था और जिसने 1351 से 1388 तक दिल्ली की सल्तनत पर शासन किया था।[4][5][6][7]

फिरोज़पुर
शहीद भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरु की याद में हुसैनीवाला में बनाया गया राष्ट्रीय शहीद स्मारक।
शहीद भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरु की याद में हुसैनीवाला में बनाया गया राष्ट्रीय शहीद स्मारक।
फिरोज़पुर की पंजाब के मानचित्र पर अवस्थिति
फिरोज़पुर
फिरोज़पुर
पंजाब में अवस्थिति, भारत
फिरोज़पुर की भारत के मानचित्र पर अवस्थिति
फिरोज़पुर
फिरोज़पुर
फिरोज़पुर (भारत)
फिरोज़पुर की एशिया के मानचित्र पर अवस्थिति
फिरोज़पुर
फिरोज़पुर
फिरोज़पुर (एशिया)
निर्देशांक: 30°55′00″N 74°36′00″E / 30.9166°N 74.6°E / 30.9166; 74.6निर्देशांक: 30°55′00″N 74°36′00″E / 30.9166°N 74.6°E / 30.9166; 74.6
देशभारत
राज्यपंजाब
ज़िला फ़िरोज़पुर
संस्थापकफिरोज शाह तुगलक
नाम स्रोतफिरोज शाह तुगलक
शासन
 • प्रणालीलोकतांत्रिक
 • सांसदसुखबीर बादल (शिअद)
 • विधायक (शहरी)परमिंदर सिंह पिंकी ( कांग्रेस)
 • विधायक (ग्रामीण)सतकार कौर ( कांग्रेस[1]
ऊँचाई182 मी (597 फीट)
जनसंख्या (2011)[2]
 • कुल1,10,313
 • घनत्व380 किमी2 (1,000 वर्गमील)
वासीनामफिरोज़पुरी, फिरोज़पुरिया
भाषाएँ
 • आधिकारिकपंजाबी[3]
समय मण्डलभामास (यूटीसी+5:30)
PIN152001
UNLOCODEIN FIR
दूरभाष कोड91-1632
वाहन पंजीकरणPB 05
लिंगानुपात885/1000[कृपया उद्धरण जोड़ें] /
साक्षरता69.80%
लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र फिरोज़पुर
विधानसभा निर्वाचन क्षेत्रफिरोजपुर सिटी
आयोजना अभिकरणपुडा
मुख्य राजमार्गNH-95, SH-15, SH-20
जलवायुCw (कोपेन)
औसत ग्रीष्म तापमान29.7 °से. (85.5 °फ़ै)
औसत शीत तापमान16.9 °से. (62.4 °फ़ै)
बारिश731.6 मिलीमीटर (28.80 इंच)
वेबसाइटwww.ferozepur.nic.in

1947 में भारत के विभाजन के बाद, यह भारत के स्वतंत्रता सेनानियों के स्मारकों के साथ भारत-पाकिस्तान सीमा पर एक सीमावर्ती शहर बन गया।

इतिहाससंपादित करें

फिरोजपुर एक प्राचीन शहर है जो वर्तमान भारत-पाकिस्तान सीमा के करीब स्थित है। यह माना जाता है कि 14 वीं शताब्दी में इसे फिरोज शाह तुगलक द्वारा स्थापित किया गया था, जबकि कुछ लोग मानते हैं कि इसे फिरोज़ खान नामक एक भट्टी प्रमुख द्वारा स्थापित किया गया था। हालाँकि, तुगलक द्वारा स्थापना को अधिक व्यापक रूप से स्वीकार किया गया है क्योंकि फिरोजशाह तुगलक को नए शहरों की स्थापना और पुराने शहरों का नाम विशेष रूप से अपने नाम पर बदलने का शौक था।

देश के उत्तर-पश्चिम में फिरोजपुर की रणनीतिक स्थिति के कारण इस क्षेत्र में कई लड़ाइयां लड़ी गयीं। 1845 में प्रथम आंग्ल-सिख युद्ध के दौरान, फिरोजपुर में ब्रिटिश कमांडर की लापरवाही के कारण खालसा ने बिना किसी विरोध के सतलुज नदी पार कर ली थी। जब लॉर्ड हार्डिंग ने सिखों से युद्ध की घोषणा की, तो पहली लड़ाई फ़िरोज़पुर के 20 मील दक्षिण-पूर्व में स्थित मुदकी में लड़ी गई थी। 1838 में रिस्त आंग्ल-अफगान युद्ध के दौरान, फिरोजपुर वह केंद्र था जहां से ब्रिटिश सैनिक काबुल पहुंचे।

भारत के स्वतंत्रता संग्राम के तीन वीर शहीद भगत सिंह और उनके साथी शहीद राजगुरु और शहीद सुखदेव का फ़िरोज़पुर में सतलुज नदी के तट पर अंतिम विश्राम स्थल है। 23 मार्च, 1931 को जनता के विरोध के बावजूद, इन तीनों सेनानियों को लाहौर में फाँसी दे दी गयी और रात के अंधेरे में चुपके से इन तीनों का अंतिम संस्कार फिरोजपुर में सतलुज नदी के तट पर कर दिया गया।

आज इस स्थान पर तीनों शहीदों का एक स्मारक स्थापित है और हर साल 23 मार्च को हजारों लोग इन महान नायकों को श्रद्धांजलि देने के लिए यहाँ इकट्ठा होते हैं। फिरोजपुर में एक और ऐतिहासिक स्मारक, सारागढ़ी गुरुद्वारा है, जो बलूचिस्तान में सारागढ़ी के 21 सिख सैनिकों के बलिदान का स्मरण करता है। हर साल 12 सितंबर को लोग इन वीर सैनिकों को श्रद्धांजलि देने और सारागढ़ी दिवस मनाने के लिए यहां इकट्ठा होते हैं। स्मारक सेवा पूर्व सैनिकों को पुनर्मिलन का अवसर भी प्रदान करती है।

जनसाँख्यिकी और धर्मसंपादित करें

2011 की भारतीय जनगणना के अनुसार, फिरोज़पुर की कुल जनसंख्या 110,313 थी, जिनमें 58,451 पुरुष थे और 51,862 महिलाएँ थीं। 0 से 6 वर्ष की आयुवर्ग में जनसंख्या 11,684 थी। फिरोजपुर में कुल साक्षरों की संख्या 78,040 थी जो जनसंख्या का 70.7% है। पुरुष साक्षरता दर 73.3% और महिला साक्षरता दर 67.9% थी। प्रभावी साक्षरता दर (7 वर्ष और उससे अधिक की जनसंख्या) 79.1% थी, जिसमें पुरुष साक्षरता दर 82.3% और महिला साक्षरता दर 75.6% थी। 2011 में फिरोजपुर में 22263 घर थे।[2] दलितों की जनसंख्या 27,395 थी।

भारतीय जनगणना के अनुसार 1991 में फिरोजपुर की जनसंख्या 78,738 थी जो 2001 में बढ़ कर 95,451 हो गयी।[8] पुरुषों की आबादी का प्रतिशत 53 % जबकि महिलाओं की जनसंख्या 47 % है। औसत साक्षरता दर 71 प्रतिशत थी, जो राष्ट्रीय औसत 59.5 प्रतिशत से अधिक थी: पुरुष साक्षरता 73 प्रतिशत और महिला साक्षरता 68 प्रतिशत थी। 11 फीसदी आबादी 6 साल से कम उम्र की थी।

2011 की जनगणना के अनुसार, हिन्दू और सिख धर्म क्षेत्र के मुख्य धर्म हैं। अल्पसंख्यकों में ईसाई धर्म, इस्लाम, बौद्ध धर्म और जैन धर्म शामिल हैं।

फिरोजपुर में धर्म[9]
धर्म %
हिन्दू धर्म
  
70.47%
सिख धर्म
  
26.25%
ईसाई धर्म
  
2.35%
इस्लाम
  
0.31%
अन्य
  
0.61%

विख्यात व्यक्तिसंपादित करें

इन्हें भी देखेंसंपादित करें

सन्दर्भसंपादित करें

  1. "Assembly elections 2017: Only 6 women legislators make entry into Punjab Assembly". Hindustan Times. अभिगमन तिथि 31 January 2018.
  2. "Census of India: Firozpur". censusindia.gov.in. अभिगमन तिथि 2 January 2020.
  3. "52nd REPORT OF THE COMMISSIONER FOR LINGUISTIC MINORITIES IN INDIA" (PDF). Nclm.nic.in. Ministry of Minority Affairs. पृ॰ 32. मूल (PDF) से 25 May 2017 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 30 August 2019.
  4. "Economic Transformation of a Developing Economy: The Experience of Punjab, India," Edited by Lakhwinder Singh and Nirvikar Singh, Springer, 2016, ISBN 9789811001970
  5. "Regional Development and Planning in India," Vishwambhar Nath, Concept Publishing Company, 2009, ISBN 9788180693779
  6. "Agricultural Growth and Structural Changes in the Punjab Economy: An Input-output Analysis," G. S. Bhalla, Centre for the Study of Regional Development, Jawaharlal Nehru University, 1990, ISBN 9780896290853
  7. "Punjab Travel Guide," Swati Mitra (Editor), Eicher Goodearth Pvt Ltd, 2011, ISBN 9789380262178
  8. "Census of India 2001: Data from the 2001 Census, including cities, villages and towns (Provisional)". Census Commission of India. मूल से 16 June 2004 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 1 November 2008.
  9. "C-1 Population By Religious Community - Firozpur City". census.gov.in. अभिगमन तिथि 1 January 2020.