आठवें आदित्य विवस्वान हैं- ये अग्निदेव हैं। इनमें जो तेज व ऊष्मा व्याप्त है वह सूर्य से है। कृषि और फलों का पाचन, प्राणियों द्वारा खाए गए भोजन का पाचन इसी अग्नि द्वारा होता है। ये आठवें मनु वैवस्वत मनु के पिता हैं। और ऋषि कश्यप के पुत्र हैं ।

विवस्वान भगवान श्रीराम के गौत्र भी हैं ।