ये महर्षि कश्यप की पहली पत्नी अदिति से उत्पन्न हुऐ थे और इनकी गणना बारह आदित्यों में की जाती है इसको सूर्यदेव के नाम से भी जाना जाता है। इनके सौतेले भाई दैत्य , दानव , राक्षस , नाग , सर्प , पतंगें , पक्षी , गरुड़ और अरुण , अश्व , गंधर्व आदि थे। जो महर्षि कश्यप की अन्य सोलह पत्नियों से उत्पन्न हुए थे।[कृपया उद्धरण जोड़ें]


33 कोटि (प्रकार) देवी देवताओं में १२ आदित्य हैं ,जो इस प्रकार हैं-

नामसंपादित करें

  1. इंद्र
  2. विवस्वान्
  3. पर्जन्य
  4. त्वष्टा
  5. पूषा
  6. अर्यमा
  7. भग-आदित्य
  8. धाता
  9. मित्र
  10. अंशुमान्
  11. वरुण
  12. वामन

सन्दर्भसंपादित करें

माता - पितासंपादित करें

इनके पिता महर्षि कश्यप थे, व माता अदिति थीं।