"कैथी" के अवतरणों में अंतर

12 बैट्स् जोड़े गए ,  8 वर्ष पहले
छो
Bot: अंगराग परिवर्तन
छो (Bot: अंगराग परिवर्तन)
<ref>अंशुमान पांडे. 2006. [http://www-personal.umich.edu/~pandey/kaithi.pdf Proposal to Encode the Kaithi Script in Plane 1 of ISO/IEC 10646]</ref>। । इसे "कयथी" या "कायस्थी", के नाम से भी जाना जाता है। पूर्ववर्ती [[उत्तर-पश्चिम प्रांत]], [[मिथिला]], [[बंगाल]], [[उड़ीसा]] और [[अवध]] में। इसका प्रयोग खासकर न्यायिक, प्रशासनिक एवं निजी आँकड़ों के संग्रहण में किया जाता था।
 
== उत्पत्ति ==
 
'कैथी' की उत्पत्ति '[[कायस्थ]]' शब्द से हुई है जो कि उत्तर [[भारत]] का एक सामाजिक समूह (हिन्दू जाति) है। इन्हीं के द्वारा मुख्य रूप से व्यापार संबधी ब्यौरा सुरक्षित रखने के लिए सबसे पहले इस लिपी का प्रयोग किया गया था। कायस्थ समुदाय का पुराने रजवाड़ों एवं ब्रिटिश औपनिवेशिक शासकों से काफी नजदीक का रिश्ता रहा है। ये उनके यहाँ विभिन्न प्रकार के आँकड़ों का प्रबंधन एवं भंडारण करने के लिये नियुक्त किये जाते थे। कायस्थों द्वारा प्रयुक्त इस लिपि को बाद में कैथी के नाम से जाना जाने लगा।
 
== इतिहास ==
 
कैथी एक पुरानी लिपि है जिसका प्रयोग कम से कम 16 वी सदी मे धड़ल्ले से होता था। [[मुगल सल्तनत]] के दौरान इसका प्रयोग काफी व्यापक था। 1880 के दशक में [[ब्रिटिश राज]] के दौरान इसे प्राचीन [[बिहार]] के न्यायलयों में आधिकारिक भाषा का दर्जा दिया गया था। इसे [[खगड़िया]] जिले के न्यायालय में वैधानिक लिपि का दर्ज़ा दिया गया था।
 
== कैथी के विलोप का खतरा ==
अभी भी बिहार समेत देश के उत्‍तर पूर्वी राज्‍यों में इस लिपि में लिखे हजारों अभिलेख हैं। समस्‍या तब होती है जब इन अभिलेखों से संबंधित कानूनी अडचनें आती हैं। [[दैनिक जागरण]] के [[पटना]] संस्‍करण में नौ सितंबर 2009 को पेज बीस पर बक्‍सर से छपी कंचन किशोर की एक खबर का संदर्भ लें तो इस लिपि के जानकार अब उस जिले में केवल दो लोग बचे हैं। दोनों काफी उम्र वाले हैं। ऐसे में निकट भविष्‍य में इस लिपि को जानने वाला शायद कोई न बचेगा और तक इस लिपि में लिखे भू-अभिलेखों का अनुवाद आज की प्रचलित लिपियों में करना कितना कठिन होगा इसका सहज अंदाजा लगाया जा सकता है। भाषा के जानकारों के अनुसार यही स्थिति सभी जगह है। ऐसे में जरूरत है इस लिपि के संरक्षण की।
 
== यूनिकोड ==
कैथी लिपि को सन २००९ में [[यूनिकोड]] मानक 5.2 में शामिल किया गया। कैथी का यूनिकोड में स्थान U+11080 से U+110CF है। इस सीमा में कुछ खाली स्थान भी है जिनके कोड बिन्दु निर्धारित नहीं किए गए हैं।
 
{{कैथी का यूनिकोड}}
 
== संदर्भ ==
 
<references/>
 
== वाह्य सूत्र ==
* [http://www.in.jagran.yahoo.com/news/local/bihar/4_4_8908293.html गुमनामी के अंधेरे में गुम हो गई कैथी]
* [http://www.inextlive.jagran.com/Kaithi-albhabet-is-in-danger-201203140011 कहीं पन्नों में दफन न हो जाए कैथी]
* [http://www-personal.umich.edu/~pandey/kaithi.pdf Proposal to Encode the Kaithi Script in ISO/IEC 10646]
* [http://www.unicode.org/charts/PDF/U11080.pdf कैथी का यूनिकोड] (PDF ; अंग्रेजी में)
 
[[श्रेणी:भारत की लिपियाँ|कैथी]]
74,334

सम्पादन