मुख्य मेनू खोलें

सदस्य वार्ता:अनुनाद सिंह

अनुक्रम

सहायतासंपादित करें

क्या आप मेरे सदस्य पृष्ठ पर जाकर जो साँचा विकीपीडिया पर रहने का समय बताता है उसमें परिवर्तन करके ये लिख सकते हैं कि मैं विकीपीडिया पर 13 दिन से हूँ।Dr Samkiv Kumar (वार्ता) 02:44, 15 जनवरी 2019 (UTC)

पुरानी वार्तासंपादित करें

श्रीनिम्बार्काचार्य पृष्ठसंपादित करें

नमस्कार आपने श्रीनिम्बार्काचार्य पृष्ठ को क्यों परिवर्तित किया हैं। आपको उसमें क्या आपत्तिजनक लगा। Nimbarkparishad (वार्ता) 08:52, 27 नवम्बर 2018 (UTC)

@Nimbarkparishad: नमस्ते जी। मैने देखा कि एक ही विषय पर दो लेख बन गए हैं, निम्बकाचार्य और श्रीनिम्बार्काचार्य । इसलिए मैने नए नाम को पुराने नाम पर प्रेषित कर दिया और उसमें सारी सामग्री भी डाल दी है। मुझे आपके लिखे में प्रथमदृष्ट्या कोई आपत्तिजनक चीज नहीं दिख रही है। आपने जो कुछ लिखा है, वे किस ग्रन्थ से लिए गये हैं, यह भी लिखा है। वह अपने आप में सन्दर्भ माना जाना चाहिए। मैने कुछ सुधार भी किया है। आप भी उसमें सुधार कर दीजिए। हो सके तो इसे कुछ संक्षिप्त कर दीजिए। इसके साथ आप द्वैताद्वैत पर भी प्रामाणिक सामग्री डालने का कष्ट करें। -- अनुनाद सिंह (वार्ता) 09:18, 27 नवम्बर 2018 (UTC)


अनुनाद जी कृपया आप न लेखक सामग्री लेख में जोड़े। लेखक का उद्देश्य केवल प्रचार का है जिसके कारण इतनी लम्बी बिना सन्दर्भ दिए पोथी जोड़ रहे हैं। लेख में ऐसे पाठों का कोई स्थान नहीं है। धन्यवाद!-- गॉड्रिक की कोठरीमुझसे बातचीत करें 09:16, 27 नवम्बर 2018 (UTC)

गोड्रिक की कोठरी जी, लेखक ने कोई प्रचार सामग्री नहीं जोड़ी है। उन्होने अनेकानेक ग्रन्थों का सन्दर्भ दिया है। ऐसे लोगों को लिखने के लिए प्रोत्साहित करना अच्छा रहेगा। यह विष्य भी मामूली नहीं है।--अनुनाद सिंह (वार्ता) 09:22, 27 नवम्बर 2018 (UTC)
मुझे तो दूसरी परिचय हेडिंग से अंत तक की सामग्री विकिस्रोत लायक दिख रही है। विकिपीडिया पर किसी ग्रंथ का वर्णन नहीं प्रकाशित किया जाता है।-- गॉड्रिक की कोठरीमुझसे बातचीत करें 09:27, 27 नवम्बर 2018 (UTC)
विकिस्रोत में किसी ग्रन्थ की सम्पूर्ण सामग्री अपने मूल रूप में (जहाँ तक सम्भव हो) रखी जाती है। यहाँ किसी बात के प्रमाण के रूप में विभिन्न ग्रन्थों से उद्धरण दिए गए हैं।--अनुनाद सिंह (वार्ता) 09:34, 27 नवम्बर 2018 (UTC)
कहाँ दिये गए हैं? मुझे तो पृष्ठ में कोई सन्दर्भ नज़र नहीं आ रहा है। वर्तमान सामग्री स्पैम की श्रेणी में आती है। जिसे एक साथ निम्बार्क से सम्बंधित पृष्ठों में जोड़ा जा रहा है। अगर आपको आपत्ति न हो तो मैं नेहल दवे जी द्वारा सम्पादित सामग्री पर लेख को पूर्ववत कर देता हूँ।-- गॉड्रिक की कोठरीमुझसे बातचीत करें 09:40, 27 नवम्बर 2018 (UTC)
क्षमा करें यह पाठ यहाँ से कॉपी किया गया है। यह कॉपीराइट उल्लंघन है इसलिये विकीनीतियों के अनुसार पाठ को मुझे तत्काल प्रभाव से हटाना पड़ेगा।-- गॉड्रिक की कोठरीमुझसे बातचीत करें 09:52, 27 नवम्बर 2018 (UTC)
@Godric ki Kothri: जी, सम्भव है कि यह सामग्री कहीं से कॉपी करके यहाँ चिपकायी गयी हो किन्तु आपके द्वारा दिए गए लिंक में तो नहीं दिख रही है। यदि यह सीधे-सीधे कॉपी की गयी है तो हमारा भी दायित्व है कि उन्हें समझाएँ कि उस सामग्री को ज्यों का त्यों कॉपी न करें बल्कि उसको समुचित रूप से बदलकर हिन्दी विकि पर रखें। हम भी अपने अनुभव का लाभ दिखाते हुए उसमें कुछ बदलाव करके उस सामग्री को बचा सकते हैं। हमारा उद्देश्य सामग्री को बढ़ाना है, हटाना नहीं। --अनुनाद सिंह (वार्ता) 10:00, 27 नवम्बर 2018 (UTC)

अनुनाद सिंह जी

"डॉ. अमरप्रसाद भट्टाचार्य द्वारा लिखित "निम्बार्क ओ द्वैताद्वैत दर्शन" में प्रदत्त गुरुपरम्परा की तालिका में हंस भगवान से लेकर अब तक ५६ आचार्यों का उल्लेख किया है।"

यह भ्रमपूर्ण तथ्य तो विकिपीडिया को स्वीकार हैं की निम्बार्क सम्प्रदाय में 56 आचार्य हुए हैं, जबकि सम्प्रदाय में अभी तक 48 आचार्यों का ही काल पूर्ण हुआ हैं। परन्तु जब गोड़रिक जी जैसे प्रबंधक नए तथ्यों को समझना ही स्वीकार न करके चर्चा को व्यक्तिगत लेकर नये सदस्य का पृष्ठ ही स्थाई रूप से हटा दें तो इंटरनेट पर हिन्दी का भविष्य तथा भारतीय तथ्यों के प्रस्तुतिकरण को समझा जा सकता हैं। सादर

चूंकि आप निम्बार्क सम्प्रदाय से निकट से जुड़े हुए हैं, इसलिए आपको इस सम्प्रदाय की बहुत सी सूक्ष्म बातों का ज्ञान होगा। इसलिए यह अच्छा ही है कि आप जैसे लोग इन विषयों पर योगदान करें। किन्तु इसके साथ यह भी ध्यान रखना होगा कि विकिपीडिया के लेखों के लिए निर्धारित सिद्धान्तों का भी बहुत अधिक उल्लंघन न हो। मैं जानता हूँ कि जो नए लोग आते हैं वे विकिपीडिया के सिद्धान्तों से अनभिज्ञ होते हैं। इसलिए जो लोग यहाँ बहुत दिनों से कार्यरत हैं (और विशेषकर, प्रबन्धकगण) उनमें इतनी क्षमता होनी चाहिए कि नवागन्तुकों के गुणदोषों के झट से पहचान जाँय और प्यार से उनके दोषों को हटाने के बारे में बताएँ। अच्छा तो हो कि कुछ सुधार करके उदाहरण प्रस्तुत करें और बताएँ कि आप अमुक-अमुक बात को अमुक तरीके से करें।
जहाँ तह ५६ आचार्यों के उल्लेख की बात है, उसे दूसरे तरह से मैं यह कहूँगा कि विकिपीडिया की दृष्टि से वह वाक्य उत्तम है। यहाँ यह विचार नहीं रखा गया है कि डॉ अमरप्रसाद भट्टाचार्य ने जो लिखा है वही सही है। बस यह कहा गया है कि अमुक लेखक की अमुक पुस्तक में अमुक विचार है। यदि किसी को लगता है कि उससे भिन्न विचार भी हैं (और अधिक तर्कसंगत या अधिक तथ्यसम्मत हैं) तो उपरोक्त विचार के साथ उससे भिन्न विचार को भी उद्धृत करना चाहिए, जो आप जैसे लोग कर सकते हैं।
मुझे लगता है कि आप विकिपीडिया पर लिखने के लिए गम्भीर हैं और आपको सही सुधार की सही सलाह नहीं दी गयी और न ही सुधार का समय दिया गया। आपके वार्ता पृष्ट पर जो सन्देश लिखा गया, उससे अच्छा तो एक रोबोट लिख सकता है। इसलिए आप चौपाल पर अपनी बात लिखिए और साधिकार कहिए कि आपको पर्याप्त मौका दिए हुए हड़बड़ी में, तथा दुर्भावनावश प्रतिबन्धित किया गया है। फिर देखिए क्या होता है। रही, एक-दो लेखों की, तो आप हममे से किसी को सामग्री दे सकते हैं जिसकी भाषा-शैली को मामूली परिवर्तन के साथ हम लेखों में परिवर्धित/परिवर्तित कर देंगे। --अनुनाद सिंह (वार्ता) 03:06, 28 नवम्बर 2018 (UTC)
मैंने जो कार्य किया वह नियमों के अनुसार किया। मैंने 3 चेतावनी भी दी (जबकि नियम केवल 1 चेतावनी का है) तब भी सदस्य कॉपीराइट उल्लंघन और अपनी साइट से छापना छोड़ा नहीं। आपके लगने से विकिपीडिया नहीं चलेगी। नियमों से चलेगी। आप चाहे तो इस चोरी और फिर सीनाजोरी के समर्थन में मेरे खिलाफ अभियान चला सकते हैं। और हाँ आपने जो वार्ता पृष्ठ पर संदेश उसके बारे में भी बता दूं कि कोई सन्दर्भ नहीं दिया गया था। ऐसे तो मैं भी कह सकता हूँ कि जनरल माउन्टबेटन के गुर्जर को सबसे महान जाति बताया, लेकिन इसका तब कोई अर्थ नहीं है जब तक मैं सन्दर्भ के साथ अपनी बात न लिखूं। चूंकि आप पुनरीक्षण कार्य करते नहीं हैं इसलिये आपको पता ही नहीं है चालुक्य से लेकर सोलंकी और राजा भोज तथा राजपूतों को (और अब कुषाणों को भी) गुर्जर घोषित कर दिया जाता है।-- गॉड्रिक की कोठरीमुझसे बातचीत करें 04:04, 28 नवम्बर 2018 (UTC)
@Godric ki Kothri: जी, आप दो बिलकुल अलग-अलग मुद्दों को मिलाकर उत्तर क्यों लिख रहे हैं? दोनों को अलग-अलग लिखिए, चर्चा में घालमेल नहीं होगा। मुझे आपकी क्षमताओं का अच्छा ज्ञान है। इसलिए पता है कि आप क्या-क्या कर सकते हैं और क्या चाहकर भी नहीं कर सकते। प्रबन्धक का काम केवल आँख मूँदकर हण्टर चलाना नहीं है। बाकी बातें मैं तब लिखूंगा यदि सदस्य:Nimbarkparishad चौपाल पर या अन्यत्र अपनी पीड़ा लिखेंगे।---अनुनाद सिंह (वार्ता) 04:22, 28 नवम्बर 2018 (UTC)
उसी तरह से आपका भी यह कार्य नहीं है कि कॉपीराइट चोरों के साथ "महागठबंधन" बनाकर प्रबंधक को धमकी दो। मैं कॉपीराइट चोरी बर्दाश्त नहीं करूंगा चाहे मुझे आप कितना भी ज़लील करें। आप एक बार भी यह नहीं बता पा रहे कि मैंने कब नियमों का उल्लंघन किया? मुझे भी आपके अतीत का बहुत अच्छे से भान है।-- गॉड्रिक की कोठरीमुझसे बातचीत करें 04:55, 28 नवम्बर 2018 (UTC)
@Godric ki Kothri: जी, ये 'विकिपीडिया प्रबन्धक' कोई अलौकिक प्राणी नहीं है जिसके नाम से लोग घबराते हैं। विकिपीडिया की पहली आवश्यकता लोगों को पुचकारकर बुलाना है और उन्हें सुविधा देना है ताकि वे कुछ योगदान कर सकें। योगदान नहीं होगा तो सारे नियम धरे रह जाएँगे। विकिपीडिया ने आपको यहाँ लोगों को डराने के लिए नहीं बुलाया है। इतनी क्षमता नहीं है कि पता कर सकें कि 'हाडी' नाम से या इससे मिलते-जुलते नाम से दूसरी विकियों में कोई लेख है या नहीं। उल्टे उस लेख के सम्पादक को डराने-धमकाने लग गए। ठाट-बाट इतना और मालगुजारी साढ़े तीन पैसा? --अनुनाद सिंह (वार्ता) 09:18, 28 नवम्बर 2018 (UTC)
खुद को एक्सपोज़ के लिये धन्यवाद! बड़े बदतमीज़ आदमी हो तुम। वैसे एक बात जरूर पूछूंगा तुम्हे कैसे पता चला कि वो आदमी साधू है? तुम विकि एकाउंट से आधार कार्ड लिंक करने का धंधा खोले हो क्या? कॉपीराइट चोरों का महागठबंधन बना कर युद्ध करते रहो। लेकिन एक बात का वादा करता हूँ कि तुम्हारी और तुम्हारे साथी चोरों के गिरोह को चोरी करके यहाँ सामग्री नहीं डालने दूंगा। सीना पीटों या पैर पीटों! बस यही मेरे अंतिम अंतिम शब्द हैं। शुभकामनाएं!-- गॉड्रिक की कोठरीमुझसे बातचीत करें 10:46, 28 नवम्बर 2018 (UTC)
प्रबन्धक महोदय, लगता है कि 'साधु' का मतलब भी पता नहीं है। और एक बात, 'पीटों' नहीं, 'पीटो' सही है। 'प्रबन्धक साहब', ईश्वर आपको दीर्घायु करे, अभी 'अन्तिम शब्द' मत निकालिए। --अनुनाद सिंह (वार्ता) 12:46, 28 नवम्बर 2018 (UTC)
क्या करें हम आप जैसे बुद्धिमान नहीं हैं जो सदस्यपृष्ठ को सदस्यपृष्ट लिख दें। (यहाँ देखें) न ही हम इस कदर चालक और चालबाज़ हैं कि किसी सदस्य को परेशान करने के लिए कॉपीराइट चोरों के कंधों पर रखकर बन्दूक चलायें। मुझे आपसे अब कोई उम्मीद नहीं है। अब तक मैं आपका इसलिये सम्मान करता था कि आपके हिन्दी विकि पर सबसे ज्यादा योगदान हैं लेकिन इस विवाद से वह खत्म हो गया और हाँ छोटी इ और बड़ी ई में अंतर न कर पाने वालों से और सदस्यपृष्ट लिखने वालों से व्याकरण सीखने की आवश्यकता नहीं है। अब आप अपने रास्ते चले और मैं अपने रास्ते!-- गॉड्रिक की कोठरीमुझसे बातचीत करें 13:38, 28 नवम्बर 2018 (UTC)

भारत का संक्षिप्त इतिहास (स्वतंत्रता-पूर्व) पृष्ठ का हटाने हेतु चर्चा के लिये नामांकनसंपादित करें

नमस्कार, भारत का संक्षिप्त इतिहास (स्वतंत्रता-पूर्व) को विकिपीडिया पर पृष्ठ हटाने की नीति के अंतर्गत हटाने हेतु चर्चा के लिये नामांकित किया गया है। इस बारे में चर्चा विकिपीडिया:पृष्ठ हटाने हेतु चर्चा/लेख/भारत का संक्षिप्त इतिहास (स्वतंत्रता-पूर्व) पर हो रही है। इस चर्चा में भाग लेने के लिये आपका स्वागत है।

नामांकनकर्ता ने नामांकन करते समय निम्न कारण प्रदान किया है:

अनावश्यक पृष्ठ। भारत के इतिहास से संबंधित पहले ही बहुत से पेख हैं।

कृपया इस नामांकन का उत्तर चर्चा पृष्ठ पर ही दें।

चर्चा के दौरान आप पृष्ठ में सुधार कर सकते हैं ताकि वह विकिपीडिया की नीतियों पर खरा उतरे। परंतु जब तक चर्चा जारी है, कृपया पृष्ठ से नामांकन साँचा ना हटाएँ। गॉड्रिक की कोठरीमुझसे बातचीत करें 10:49, 30 नवम्बर 2018 (UTC)

गोस्वामी समाज के प्रश्नों में छेड़छाड़ हेतुसंपादित करें

माननीय महोदय से निवेदन है कि गोस्वामी समाज से जुड़े किसी भी प्रश्न में किसी भी प्रकार का छेड़छाड़ संपादन करने का कष्ट ना करें क्योंकि उनमे मूलभूत रूप से सही जानकारी दी गई है जबकि आपके द्वारा उसमें छेड़छाड़ की गई है इसलिए आपसे विनम्र अनुरोध है कि इन प्रश्नों में या गोस्वामी शीर्षक के किसी भी प्रश्न में किसी भी प्रकार का संपादन ना करें Ranjeet Goswami (वार्ता) 15:44, 9 दिसम्बर 2018 (UTC)

इसमें प्रश्न की जगह पृष्ठ शब्द पढ़ा जाए Ranjeet Goswami (वार्ता) 15:45, 9 दिसम्बर 2018 (UTC)

A barnstar for you!संपादित करें

  The Special Barnstar
This barnstar is awarded you in appreciation for creating an Hindi Wikipedia article about Sindhi Cultural Day. JogiAsad (वार्ता) 10:23, 19 दिसम्बर 2018 (UTC)

हस्तक्षेप का अनुरोधसंपादित करें

आदरणीय अनुनाद सिंह जी, पिछले कुछ समय से मैं लगातार एक पूर्व प्रबंधक की बदतमीज़ी झेल रहाँ हूँ। प्रबंधक सूचना पट और चौपाल की तो चर्चाएँ आप देख ही सकते हैं। अब तो वे माता पिता पर गालियाँ दे रहे हैं। इस परिस्थिति का एक समाधान तो सदस्य द्वारा क्षमाप्राथी होना था। परन्तु उसने इनकार कर दिया है और भविष्य में भी विभिन्न पक्षियों से समानता जोड़ने और व्यक्तगत हमलों को जारी रखने से की प्रतिज्ञा है। अत: आप से अनुरोध है कि हस्तक्षेप करें और विकि में शिष्टाचर बनाए रखने के लिए उस पर अवरोध का समर्थन करें। --मुज़म्मिल (वार्ता) 08:15, 26 दिसम्बर 2018 (UTC)

सदस्य "अनुनाद सिंह" के सदस्य पृष्ठ पर वापस जाएँ