"अनेकांतवाद" के अवतरणों में अंतर

1,821 बैट्स् जोड़े गए ,  5 वर्ष पहले
सम्पादन सारांश रहित
{{आधार}}
'''अनेकान्तवाद''' [[जैन धर्म]] के सबसे महत्वपूर्ण और मूलभूत सिद्धान्तों में से एक है। मौटे तौर पर यह विचारों बहुलता का सिद्धान्त है। अनेकावान्त की मान्यता है कि भिन्न-भिन्न कोणों से देखने पर सत्य और वास्तविकता भी अलग-अलग समझ आती है। अतः एक ही दृष्टिकोण से देखने पर पूर्ण सत्य नहीं जाना जा सकता।
 
==परिचय==
अनेकान्तवाद के अनुसार प्रत्येक वस्तु में अनन्त विरोधी युगल एक साथ रहते हो। एक समय में एक ही धर्म अभिव्यक्ति का विषय बनता है
। प्रधान धर्म व्यक्त होता है और शेष गौण होने से अव्यक्त रह जाते हैं। वस्तु के किसी एक धर्म के सापेक्ष ग्रहण व प्रतिपादन की प्रक्रिया है
'नय'। सन्मति प्रकरण में [[नयवाद]] और उसके विभिन्न पक्षों का विस्तार से विचार किया गया है। वस्तुबोध की दो महत्त्वपूर्ण दृष्टियां हैं-
द्रव्यार्थिक और पर्यायार्थिक। द्रव्यार्थिक दृष्टि वस्तु के सामान्य अंश का ग्रहण करती है जबकि पर्यायार्थिक दृष्टि वस्तु के विशेष अंगों का ग्रहण करती है। [[बहगवतीसूत्र|भगवती]] आदि प्राचीन [[आगम (जैन)|आगमों]] में द्रव्यार्थिक और पर्यायार्थिक इन दोनों दृष्टियों का उल्लेख मिलता है।
 
==इन्हें भी देखें==
* [[स्यादवाद]]
* [[नयवाद]]
* [[सिद्धसेन]]
 
==बाहरी कड़ियाँ==