"खनिजों का बनना" के अवतरणों में अंतर

131 बैट्स् जोड़े गए ,  5 वर्ष पहले
सम्पादन सारांश रहित
छो (बॉट: चिप्पि में date प्राचल जोड़ा।)
{{स्रोतहीन|date=अप्रैल 2015}}
{{wikify}}
 
[[खनिज|खनिजों]] का बनना (formation) अनेक प्रकार से होता है। बनने में [[उष्मा]], [[दाब]] तथा [[जल]] मुख्य रूप से भाग लेते हैं। निम्नलिखित विभिन्न प्रकारों से खनिज बनते हैं :
 
(१) '''मैग्मा का मणिभीकरण''' (Crystallization from magma) - [[पृथ्वी]] के आभ्यंतर में [[मैग्मा]] में अनेक तत्व आक्साइड एवं सिलिकेट के रूपों में विद्यमान हैं। जब मैग्मा ठंडा होता है तब अनेक यौगिक खनिज के रूप में मणिभ (क्रिस्टलीय) हो जाते है और इस प्रकार खनिज निक्षेपों (deposit) को जन्म देते हैं। इस प्रकार के मुख्य उदाहरण [[हीरा]], [[क्रोमाइट]] तथा [[मोनेटाइट]] हैं।
 
(२) '''ऊर्ध्वपातन''' (Sublimation)- पृथ्वी के आभ्यंतर में उष्मा की अधिकता के कारण अनेक वाष्पशील यौगिक [[गैस]] में परिवर्तित हो जाते हैं। जब यह गैस शीतल भागों में पहुँचती है तब द्रव दशा में गए बिना ही ठोस बन जाती है। इस प्रकार के खनिज [[ज्वालामुखी]] द्वारों के समीप, अथवा धरातल के समीप, शीतल आग्नेय पुंजों (igneous masses) में प्राप्त होते हैं। [[गंधक]] का बनना [[उर्ध्वपातन]] क्रिया द्वारा ही हुआ है।
(३) '''आसवन''' (Distillation) - ऐसा समझा जाता है कि समुद्र की तलछटों (sediments) में अंतर्भूत (imebdded) छोटे जीवों के कायविच्छेदन के पश्चात्‌ तैल उत्पन्न होता है, जो आसुत होता है और इस प्रकार आसवन द्वारा निर्मित वाष्प [[पेट्रोलियम]] में परिवर्तित हो जाता है अथवा कभी-कभी [[प्राकृतिक गैस|प्राकृतिक गैसों]] को उत्पन्न करता है।
(५) ''''गैसों, द्रवों एवं ठोसों की पारस्परिक अभिक्रियाएँ''' - जब दो विभिन्न गैसें पृथ्वी के आभ्यंतर से निकलकर धरातल तक पहुँचती हैं तथा परस्पर अभिक्रिया करती हैं तो अनेक यौगिक उत्पन्न होते है उदाहरणार्थ :
 
''': 2H<sub>2</sub>S+SO<sub>2</sub>=3S+2H<sub>2</sub>O'''
 
इसी प्रकार गैसें कुछ विलयनों पर अभिक्रिया करती हैं। फलस्वरूप कुछ खनिज अवक्षिप्त हो जाते हैं। उदाहरण के लिए, जब हाइड्रोजन सल्फाइड गैस ताम्र-सल्फेट-विलयन से पारित होती है तब ताम्र सल्फाइड अवक्षिप्त हो जाता है। कभी ये गैसें ठोस पदार्थ से अभिक्रिया कर खनिजों को उत्पन्न करती हैं। यह क्रिया अत्यंत महत्वपूर्ण है, क्योंकि अनेक खनिज सिलिकेट, आक्साइड तथा सल्फाइड के रूप में इसी क्रिया द्वारा निर्मित होते हैं। किसी समय ऐसा होता है कि पृथ्वी के आभ्यंतर का उष्ण आग्नेय शिलाओं से पारित होता है एवं विशाल संख्या में अयस्क कार्यों (ore bodies) को अपने में विलीन कर लेता है। यह विलयन पृथ्वी तल के समीप पहुँच कर अनेक धातुओं को अवक्षिप्त कर देता है। स्वर्ण के अनेक निक्षेप इसी प्रकार उत्पन्न हुए हैं।
 
(९) '''उपरूपांतरण''' (Metamorphism)-कुछ निक्षेप पूर्ववर्ती तलछटों के उपरूपांतरणों द्वारा निर्मित होते हैं। उदाहरण के लिए, [[चूना पत्थर]] संगमरमर को तथा कुछ मृत्तिकाएँ और सिलिका निक्षेप सिलोमनाइट को उत्पन्न करते हैं।
 
==इन्हें भी देखें==
*[[खनिज]]
*[[खनन]]
*[[खान]]
*[[धातुकर्म]]
 
[[श्रेणी:खनिज]]