"विलियम जेम्स": अवतरणों में अंतर

56 बाइट्स जोड़े गए ,  4 वर्ष पहले
सम्पादन सारांश नहीं है
No edit summary
No edit summary
}}
'''विलियम जेम्स''' (William James ; 11 जनवरी, 1842 – 26 अगस्त, 1910) अमेरिकी दार्शनिक एवं मनोवैज्ञानिक थे जिन्होने चिकित्सक के रूप में भी प्रशिक्षण पाया था। इन्होंने [[मनोविज्ञान]] को [[दर्शनशास्त्र]] से पृथक किया था, इसलिए इन्हें मनोविज्ञान का जनक भी मन जाता है।
विलियम जेम्स ने मनोविज्ञान के अध्ययन हेतु एक पुस्तक लिखी जिसका नाम "प्रिंसिपलप्रिंसिपल्स ऑफ़ साइकोलॉजी" है। इसका भाई [[हेनरी जेम्स]] प्रख्यात [[उपन्यास]]कार था।
 
आकर्षक लेखनशैली और अभिव्यक्ति की कुशलता के लिये जेम्स विख्यात हैं।
 
विलियम जेम्स का जन्म ११ जनवरी १८४२ को [[न्यूयार्क]] में हुआ। जेम्स ने [[हार्वर्ड]] मेडिकल स्कूल में [[शरीरविज्ञानचिकित्साविज्ञान]] का अध्ययन किया और वहीं १८७२ से १९०७ तक क्रमश: शरीरविज्ञान, मनोविज्ञान और दर्शन का प्राध्यापक रहा। १८९९ से १९०१ तक [[एडिनबराएडिनबर्ग विश्वविद्यालय]] में [[प्राकृतिक धर्म]] पर और १९०८ में [[ऑक्सफर्ड विश्वविद्यालय]] में दर्शन पर व्याख्यान दिए। २६ अगस्त, १९१० को उसकी मृत्यु हो गई।
 
१८९० में उसकी पुस्तक '''प्रिंसिपिल्स ऑव् साइकॉलाजी''' प्रकाशित हुई, जिसने मनोविज्ञान के क्षेत्र में क्रांति सी मचा दी, और जेम्स को उसी एक पुस्तक से जागतिक ख्याति मिल गई। अपनी अन्य रचनाओं में उसने दर्शन तथा धर्म की समस्याओं को सुलझाने में अपनी मनोवैज्ञानिक मान्यताओं का उपयोग किया और उनका समाधान उसने अपने [[फलानुमेयप्रामाणवाद]] (Pragmatism) और [[आधारभूत अनुभववाद]] (Radical Empiricism) में पाया। फलानुमेयप्रामाणवादी जेम्स ने 'ज्ञान' को बृहत्तर व्यावहारिक स्थिति का, जिससे व्यक्ति स्वयं को संसार में प्रतिष्ठित करता है, भाग मानते हुए 'ज्ञाता' और 'ज्ञेय' को जीवी (Organism) और परिवेश (Environment) के रूप में स्थापित किया है। इस प्रकार सत्य कोई पूर्ववृत्त वास्तविकता (Antecedent Reality) नहीं है, अपितु वह प्रत्यय की व्यावहारिक सफलता के अंशों पर आधारित है। सभी बौद्धिक क्रियाओं का महत्व उनकी व्यावहारिक उद्देश्यों की पूर्ति की क्षमता में निहित है।