"प्राथमिक चिकित्सा" के अवतरणों में अंतर

सम्पादन सारांश रहित
* अस्थिभंग (fracture) वाले स्थान को पटरियों तथा अन्य उपायों से अचल बनाए बिना रोगी को स्थानांतरित न करें।
 
* चोट के स्थान से यदि रक्तस्त्राव हो रहा हो तो प्रथमत:प्रथमतः उसका उपचार करें।
 
* बड़ी चौकसी के साथ बिना बल लगाए, अंग को यथासाध्य अपने स्वभाविक स्थान पर बैठा दें।
 
== डूबने, फाँसी, गलाघुटने तथा बिजली लगने का प्राथमिक उपचार ==
डूबे हुए व्यक्ति को [[कृत्रिम श्वसन|कृत्रिम रीति]] से सर्वप्रथम श्वास कराएँ तथा गीले कपड़े उतारकर उसका शरीर सूखे वस्त्रों में लपेटें। इसके पश्‍चात उसके पेट तथा फेफड़ोंंफेफड़ों से पानी निकालने की प्रक्रिया शुरू करना चाहिए। कृत्रिम श्‍वास देने के लिए उसे पेट के बल सूखी जमीन पर लिटाकर अपने शरीर के भार उसके पीठ पर पर दबाव डालें। रोगी की पीठ पर दबाव पड़ने से उसके पेट तथा फेफड़ोंंफेफड़ों में भ्‍ारा पानी बाहर निकल जाएगा। अब प्राथमिक चिकित्‍सा करने वाले को रोगी को कृत्रिम श्‍वास देने की प्रक्रिया तब तक करते रहना चाहिए जब तक कि रोगी की श्‍वास प्रक्रिया स्‍वाभाविक रूप से चालू न हो जाए।
 
फाँसी लगाए हुए व्यक्ति के नीचे के अंगों को पकड़कर तुरंत शरीर उठा दें, ताकि उसके गले की रस्सी का कसाव कम हो जाए। रस्‍सी का कसाव कम हाने पर रस्सी काटकर गला छुड़ा दें। फिर कृत्रिम श्वास लिवाएँ। गला घुटने की अवस्था में पीठ पर स्कैपुला (scapula) के बीच में जोरोंंजोरों से मुक्का मारेंंमारें और फिर गले में उँगली डालकर उसे [[वमन]] कराने की चेष्टा करें। इसी प्रकार विषैली गैसों से दम घुटने पर दरवाजे, खिड़कियाँ, रोशनदान आदि खोलकर कमरे का गैस बाहर निकाल दें और रोगी को अपने मुंह के श्वास द्वारा आक्सीजन देने का प्रयास करें। बिजली का शॉक मारने पर तुरंत बिजली का संबंध तोड़कर रोगी को कृत्रिम श्वास दिलाएँ तथा उत्तेजक पदार्थों का सेवन कराएँ।
 
== विष (जहर) का प्राथमिक उपचार ==
{{मुख्य|विष}}
 
* [[==विश्व प्राथमिक चिकित्सा दिवस]]==
प्रतिवर्ष '''८ सितम्बर''' को मनाया जाता है।
 
== इन्हें भी देखें ==
* [[सर्पदंश]]
* [[जलना (चिकित्सा)]]
* [[विश्व प्राथमिक चिकित्सा दिवस]]
* [[प्राथमिक चिकित्सा किट]]
* [[चिकित्सा आपात]] (मेडिकल इमर्जेन्सी)
 
== बाहरी कड़ियाँ ==