"लोक संगीत" के अवतरणों में अंतर

3 बैट्स् नीकाले गए ,  1 वर्ष पहले
छो
बॉट: वर्तनी सुधार: गुफ़ाएँ
छो (बॉट: वर्तनी सुधार: गुफ़ाएँ)
राष्ट्रपिता [[महात्मा गांधी]] ने कहा था कि लोकगीतों में धरती गाती है, पर्वत गाते हैं, नदियां गाती हैं, फसलें गाती हैं। उत्सव, मेले और अन्य अवसरों पर मधुर कंठों में लोक समूह लोकगीत गाते हैं।
 
स्व० [[रामनरेश त्रिपाठी]] के शब्दों में जैसे कोई नदी किसी घोर अंधकारमयी गुफ़ागुफा में से बहकर आती हो और किसी को उसके उद्गम का पता न हो, ठीक यही दशा लोकगीतों के बारे में विद्वान मनीषियों ने स्वीकारी है।
 
[[आचार्य रामचंद्र शुक्ल]] इस प्रभाव को स्वीकृति देते हुए कहते हैं जब-जब शिष्टों का काव्य पंडितों द्वारा बंधकर निश्चेष्ट और संकुचित होगा तब-तब उसे सजीव और चेतन प्रसार देश के सामान्य जनता के बीच स्वच्छंद बहती हुई प्राकृतिक भाव धारा से जीवन तत्व ग्रहण करने से ही प्राप्त होगा।