"राजनीति विज्ञान" के अवतरणों में अंतर

178 बैट्स् नीकाले गए ,  10 माह पहले
Trikutdas (वार्ता) द्वारा सम्पादित संस्करण 4418389 पर पूर्ववत किया। (ट्विंकल)
छो (157.47.185.189 (Talk) के संपादनों को हटाकर 2405:204:A4A5:B911:1F86:FB53:5652:C83 के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया)
टैग: प्रत्यापन्न
(Trikutdas (वार्ता) द्वारा सम्पादित संस्करण 4418389 पर पूर्ववत किया। (ट्विंकल))
टैग: किए हुए कार्य को पूर्ववत करना
आधुनिक युग में जब संसार प्रत्येक विषय के वैज्ञानिक व व्यवस्थित अध्ययन की ओर झुक रहा है, राज्य से सम्बंधित विषयों का अध्ययन '''राजनीति शास्त्र''' अथवा '''राजनीति विज्ञान''' कहा जाता है। परम्परागत राजनीति विज्ञान के विद्वानों ने राजनीति विज्ञान की भिन्न-भिन्न परिभाषाएॅ दी हैं। इन परिभाषाओं की निम्नांकित शीर्षकों के अन्तर्गत व्याख्या की जा सकती हैः-
 
'''(१) राजनीति विज्ञान राज्य का अध्ययन है'''- अनेक राजनीतिशास्त्रियों की मान्यता है कि प्राचीन काल से ही राजनीति विज्ञान [[राज्य]] नामक संस्था के अध्ययन का विषय है। विद्वानों की मान्यता है कि प्राचीन काल से आधुनिक काल तक राजनीति विज्ञान का ’केन्द्रीय तत्व’ [[राज्य]] ही रहा है। अतः राजनीति विज्ञान में राज्य का ही अध्ययन किया जाना चाहिये। प्रसिद्ध राजनीतिशास्त्री ब्लुंशली के अनुसार राजनीति शास्त्र वह विज्ञान है जिसका संबंध राज्य से है और जो यह समझने का प्रयत्न करता है कि राज्य के आधारभूत तत्व क्या है, उसका आवश्यक स्वरूप क्या है, उसकी किन-किन विविध रूपों में अभिव्यक्ति होती है तथा उसका विकास कैसे हुआ।’ जर्मन लेखक गैरिस का कथन है कि राजनीति शास्त्र में, शक्ति की संस्था के रूप में, राज्य के समस्त संबंधों, उसकी उत्पत्ति, उसके मूर्त रूप (भूमि एवं निवासी), उसके प्रयोजन, उसके नैतिक महत्व, उसकी आर्थिक समस्याओं, उसके अस्तित्व की अवस्थाओं उसके वित्तीय पहलू, उद्धेश्य आदि पर विचार किया जाता है। डाक्टर गार्नर के अनुसार ’’राजनीति शास्त्र का प्रारंभ तथा अन्त राज्य के साथ होता है।’’ डाक्टर जकारिया का कथन है कि ’’राजनीति शास्त्र व्यवस्थित रूप में उन आधारभूत सिद्धान्तों का निरूपण करता है जिनके अनुसार समष्टि रूप में राज्य का संगठन होता है और प्रभुसत्ता का प्रयोग किया जाता है।’
राज्य के साथ होता है।’’ डाक्टर जकारिया का कथन है कि ’’राजनीति शास्त्र व्यवस्थित रूप में उन आधारभूत सिद्धान्तों का निरूपण करता है जिनके अनुसार समष्टि रूप में राज्य का संगठन होता है और प्रभुसत्ता का प्रयोग किया जाता है।’
 
उपर्युक्त सभी परिभाषाओं से स्पष्ट है कि राजनीति विज्ञान का केन्द्रीय विषय राज्य है। इसका कारण [[प्लेटो]] व [[अरस्तू]] के समय से चली आ रही यह मान्यता है कि राज्य का अस्तित्व कुछ पवित्र लक्ष्यों की प्राप्ति के लिये है।
 
==बाहरी कड़ियाँ==
*[https://politicalinhindi.blogspot.com/2019/02/What-is-The-Meaning-of-Politics.html राजनीति का अर्थ और परिभाषा क्या है]
*[http://hindu.onetourist.in/2012/09/rajnitishastra.html राजनीतिशास्त्र का उदय]
*[https://books.google.co.in/books?id=shm4DQAAQBAJ&printsec=frontcover#v=onepage&q&f=false राजनीति विज्ञान] (गूगल पुस्तक)