"कृषि का इतिहास" के अवतरणों में अंतर

21 बैट्स् नीकाले गए ,  10 वर्ष पहले
 
शुनं वाहा: शुनं नर: शुनं कृषतु लाङ्‌गलम्‌।
 
शनुं वरत्रा बध्यंतां शुनमष्ट्रामुदिङ्‌गय।।
 
शुनासीराविमां वाचं जुषेथां यद् दिवि चक्रयु: पय:।
 
तेने मामुप सिंचतं।
 
अर्वाची सभुगे भव सीते वंदामहे त्वा।
 
यथा न: सुभगाससि यथा न: सुफलाससि।।
 
इन्द्र: सीतां नि गृह्‌ णातु तां पूषानु यच्छत।
 
सा न: पयस्वती दुहामुत्तरामुत्तरां समाम्‌।।
 
शुनं न: फाला वि कृषन्तु भूमिं।।
 
शुनं कीनाशा अभि यन्तु वाहै:।।
 
शुनं पर्जन्यो मधुना पयोभि:।
 
शुनासीरा शुनमस्मासु धत्तम्‌
 
 
एक अन्य [[ऋचा]] से प्रकट होता है कि उस समय जौ हल से जोताई करके उपजाया जाता था-
 
एवं वृकेणश्विना वपन्तेषं
 
दुहंता मनुषाय दस्त्रा।
 
अभिदस्युं वकुरेणा धमन्तोरू
 
ज्योतिश्चक्रथुरार्याय।।
 
 
व्राहीमतं यव मत्त मथो
 
माषमथों विलम्‌।
 
एष वां भागो निहितो रन्नधेयाय
 
दन्तौ माहिसिष्टं पितरं मातरंच ।।
 
 
संजग्माना अबिभ्युषीरस्मिन्‌
 
गोष्ठं करिषिणी।
 
बिभ्रंती सोभ्यं।
 
मध्वनमीवा उपेतन ।।