मुख्य मेनू खोलें

श्रीपति (१०१९ - १०६६) भारतीय खगोलज्ञ तथा गणितज्ञ थे। वे ११वीं शताब्दी के भारत के सर्वोत्कृष्ट गणितज्ञ थे।

जीवन परिचयसंपादित करें

श्रीपति के पिता का नाम नागदेव था (कहीं कहीं 'नामदेव' भी मिलता है) तथा उनके दादा का नाम केशव था। खगोलशास्त्र, ज्योतिष तथा गणित में श्रीपति लल्ल के अनुयायी थे। गणित पर किये गये उनके कार्य खगोल में उपयोग को ध्यान में रखकर किये गये थे। उदाहरण के लिये, गोलों का अध्ययन खगोलिकी में उपयोग को दृष्टिगत रखकर ही किया गया था। खगोलिकी से सम्बन्धित उनके कार्य, उनके ज्योतिष (astrology) के कार्यों को आधार प्रदान करने के लिये किये गये थे।

कृतियाँसंपादित करें

  • धिकोटिदाकरण -१०३९ में रचित ; २० श्लोकों से युक्त ; सूर्यग्रहण तथा चन्द्रग्रहण से सम्बन्धित हैं।
  • ध्रुवमानस - १०५६ में रचित ; १०५ श्लोक ; ग्रहों के रेखांश (longitudes), ग्रहण तथा मार्ग (transits) की गणना दी गयी है।
  • सिद्धान्तशेखर - खगोलिकी से सम्बन्धित १९ अध्यायों वाला वृहद ग्रन्थ ;
  • गणिततिलक - अपूर्ण अंकगणितीय ग्रन्थ, जिसमें १२५ श्लोक हैं। यह श्रीधराचार्य के ग्रन्थों पर आधारित है।

इन्हें भी देखेंसंपादित करें

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें