मुख्य मेनू खोलें

श्री गोविन्दराम सेकसरिया प्रौद्योगिकी एवं विज्ञान संस्थान

श्री गोविन्दराम सेकसरिया प्रौद्योगिकी एवं विज्ञान संस्थान (Shri Govindram Seksaria Institute of Technology and Science (SGSITS)), इन्दौर ही नहीं वरन् मध्य प्रदेश का प्रमुख अभियांत्रिकी महाविद्यालय है। इसकी स्थापना सन् १९५२ में हुई थी। यह स्वशासी संस्थान है और विश्वविद्यालय की उपाधि की प्राप्ति के लिये प्रयासरत है। अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद (एआईसीटीई), नई दिल्ली और विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी), नई दिल्ली ने १९८९ में एक स्वायत्त संस्थान का दर्जा दिया था। इस स्थिति के तहत, संस्थान यूजी और पीजी स्तर दोनों में अपनी परीक्षाएं आयोजित करता है तथा एसजीएसआईटीएस एक शासक मंडल के प्रशासन के तहत परिचालित हो गया।

श्री गोविन्दराम सेकसरिया प्रौद्योगिकी एवं विज्ञान संस्थान
Shri Govindram Seksaria Institute of Technology and Science (SGSITS)
SGSITS Indore.png

आदर्श वाक्य:आचारः प्रथमो धर्मः (आचार प्रथम धर्म है।)
स्थापित1952
प्रकार:प्रौद्योगिकी संस्थान
निदेशक:प्राध्यापक राकेश सक्सेना
कर्मचारी संख्या:२८०
स्नातक:२६४०
स्नातकोत्तर:३००
अवस्थिति:इन्दौर, मध्य प्रदेश, भारत
परिसर:नगरीय
जालपृष्ठ:www.sgsits.ac.in

सम्प्रति इस संस्थान में ९ स्नातकस्तरीय एवं १७ परास्नातक-स्तरीय पाठ्यक्रम चल रहे हैं जिनमें क्रमश: ६५० एवं १५० छात्र लिये जाते हैं। इसके अतिरिक्त यह संस्थान अंशकालिक स्नातक पाठयक्रम भी चलाता है।

अनुक्रम

इतिहाससंपादित करें

स्थापित होने पर इसे श्री गोविंद्राम सेकसरिया कला भवन के रूप में जाना जाता था। एक तकनीकी संस्थान की स्थापना के लिए इंदौर के प्रमुख उद्योगपतियों के एक समूह के लिए प्रधान मंत्री जवाहरलाल नेहरू द्वारा व्यक्त की गई इच्छा के परिणामस्वरूप यह संस्थान अस्तित्व में आया।

शहर के एक उद्यमी, सेठ श्री कुदीलाजी सेकसरिया ने अपने दिवंगत पिता सेठ श्री गोविन्दराम सेकसरिया के नाम पर संस्था को शुरू करने के लिए प्रारंभिक राशि दान दी थी। १९५६ में इसे जनपद अभियांत्रिकी (सिविल इंजी.) में पाठ्यक्रम के साथ एक उपाधि महाविद्यालय में परिवर्तित कर दिया गया था और इसका नाम बदलकर श्री गोविन्दराम सेकसरिया प्रौद्योगिकी संस्थान, इंदौर कर दिया गया था। अनुप्रयुक्त विज्ञान में एमएससी की शुरूआत के साथ संस्थान का नाम अपने वर्तमान नाम में बदल दिया गया। वर्ष १९८९ में संस्थान को विश्वविद्यालय अनुदान आयोग और एआईसीटीई द्वारा स्वायत्तता प्रदान की गई थी। वर्ष २०१२ में प्रबंधन अध्ययन विभाग की स्थापना की गई थी।

उपलब्धियांसंपादित करें

संस्थान को ५० वर्ष पूर्ण करने पर २२ दिसंबर २००२ को उत्सव आयोजित किया गया, जिसे अब एसजीएसआईटीएस दिवस कहा जाता है। भारतीय महामहिम राष्ट्रपति डॉ ए॰ पी॰ जे॰ अब्दुल कलाम मुख्य अतिथि थे। राष्ट्रपति ने समारोह को चिह्नित करने के लिए उन्नत प्रौद्योगिकी केंद्र की आधारशिला का अनावरण किया और बाद में छात्रों और संकाय को संबोधित किया। स्वर्ण जयंती वर्ष मनाने के लिए शैक्षिक और सांस्कृतिक गतिविधियों का आयोजन किया गया।

जब भी भारत सरकार विश्व बैंक की सहायता से अपनी तकनीकी शिक्षा गुणवत्ता सुधार कार्यक्रम (टीईक्यूआईपी) लागू कर रही थी तब संस्थान को भी मदद मिली। संस्थान ने भारत सरकार और विश्व बैंक से १० करोड़ रुपये प्राप्त किए। इस निधि का उपयोग उन्नत प्रौद्योगिकी केंद्र के निर्माण, केंद्रीय पुस्तकालय के निर्माण के नवीकरण, अंतर्जाल से संयोजकता के साथ परिसरों के व्यापक संजाल की स्थापना, केंद्रीय पुस्तकालय के आधुनिकीकरण, विभागीय प्रयोगशालाओं के आधुनिकीकरण और पहल आदि के निर्माण के लिए निधि का उपयोग किया गया था वीडियो दूर-सम्मेलन द्वारा स्नातकोत्तर शिक्षा और सूचना प्रौद्योगिकी के ऊष्मायन केंद्र का उद्घाटन किया गया।[1] हाल ही में संस्थान को टीईक्यूआईपी चरण -2 के तहत 12.5 करोड़ रुपये का अनुदान मिला है। यह अनुदान मुख्य रूप से संस्थान में स्नातकोत्तर शिक्षा के उन्नयन के लिए है।

कैम्पससंपादित करें

संस्थान इंदौर के केंद्र में स्थित है, नए पार्क रोड पर रेलवे और बस स्टेशनों से कुछ मिनट संस्थान के भूमि क्षेत्र साँचा:कनवर्ट जबकि भवन क्षेत्र 85,000 वर्ग मीटर है संस्थान में दो खंड हैं। एक आवासीय खंड है, जहां कर्मचारियों के रहने के लिए कमरे और छात्रावास, एक अतिथि गृह स्थित है। दूसरा अकादमिक खंड, जहां सभी विभाग स्थित हैं कर्मचारियों के रहने के लिए कमरे:

  • १ निर्देशक तिमाही
  • ६ प्राध्यापक के रहने के लिए कमरे
  • २४ व्याख्याता के रहने के लिए कमरे
  • १४ पाठकों के रहने के लिए कमरे
  • तृतीय और चतुर्थ श्रेणी के कर्मचारियों के लिए ३० कमरे
  • तृतीय श्रेणी के कर्मचारियों के लिए २४ क्वार्टर (२०१५)
  • दो अतिथि गृह
  • दो स्वल्पाहार गृह और एक जलपान गृह
 
ATC block
  • चार बालक छात्रावास (६०० स्थान)
    • प्रथम वर्ष के स्नातक छात्रों के लिए विश्वेश्वरिया छात्रावास(छात्रावास क्रमांक-४)
    • दूसरे वर्ष के स्नातक छात्रों के लिए होमी जहांगीर भाभा छात्रावास (छात्रावास क्रमांक-३)
    • तृतीय वर्ष के स्नातक छात्रों के लिए जे.सी। बोस छात्रावास (छात्रावास क्रमांक-१)
    • सीवी। अंतिम वर्ष के स्नातक छात्रों के लिए रमन छात्रावास(छात्रावास क्रमांक-२)
  • तीन बालिका छात्रावास (२५० स्थान)
  • शोध विद्वानों, व्याख्याताओं और प्रायोजित छात्रों (जैसे, क्यूआईपी कार्यक्रम) के लिए एक पारगमन छात्रावास (२४ कमरों का समूह)

प्रत्येक छात्रावास में अपनी खुद का भोजनालय है।


२० व्यक्तियों के लिए अतिथि गृह है, संस्थान में फुटबॉल और क्रिकेट मैदान, बास्केटबॉल, और वॉलीबॉल प्रांगण हैं। इसमें एक खेल संकुल भी है जिसमें बैडमिंटन और टेबल टेनिस प्रांगण हैं। संस्थान में दल-१९८६ (लीजेंड '८६ ) द्वारा उपहार में दी गई व्यायामशाला भी है।

संकाय शक्तिसंपादित करें

संस्थान में १०६ स्थायी संकाय और ११० संकाय हैं।

  • प्राध्यापक -- ३६
  • सहभागी प्राध्यापक -- १५
  • सहायक प्राध्यापक -- ५५ (स्थायी) और ११० (अनुबंध संकाय) संकाय

शैक्षणिक विभागसंपादित करें

वर्तमान समय में यह संस्थान ९ स्नातक एवं १७ परास्नातक पाठ्यक्रम संचालित करता है जिनमें क्रमशः ६६० तथा ३७५ छात्र लिये जाते हैं जिसमें अनुप्रयुक्त विज्ञान और भेषज विज्ञान में स्नाकोत्तर सम्मिलित है। २०००-२००१ से एम.सी.ए। पाठ्यक्रम भी चल रहा है जिसमें ६० विद्यार्थी लिये जाते हैं। यहाँ पर ५ अंशकालिक उपाधि पाठ्यक्रम भी चलाये जते हैं जिनमें प्रत्येक में ३० विद्यार्थी लिए जाते हैं। संस्थान नौ स्नातक पाठ्यक्रम प्रदान करता है।

यहाँ १७ परास्नातक पाठ्यक्रम संचालित होते हैं। मानव संसाधन विकास मन्त्रालय ने इसके जनपद अभियांत्रिकी विभाग को पीएचडी के लिये गुणवत्ता उन्नयन केन्द्र के रूप में चिह्नित किया है। इसी तरह, विद्युत अभियांत्रिकी को अभियांत्रिकी में स्नाकोत्तर उपाधि के गुणवत्ता उन्नयन केन्द्र के रूप में चिह्नित किया है।

इस संस्थान में निम्नलिखित विभाग हैं-

केंद्र और कक्ष हैं:

  • संगणक केंद्र
  • सतत शिक्षा कार्यक्रम के लिए केंद्र
  • उद्यमिता विकास कक्ष
  • प्रशिक्षण और स्थानन कक्ष
  • केन्द्रीय कार्यशाला और प्रबंधन कक्ष
  • नैनो प्रौद्योगिकी के लिए केंद्र
  • केंद्र के लिए लेजर और तंतु प्रकाशिकी
  • वीएलएसआई रचना के लिए केंद्र उद्यमिता विकास
  • उन्नत स्वचालन के लिए कक्ष केंद्र
  • उद्योग-संस्थान पारस्परिक विचार-विमर्श के लिए केंद्र
  • सुदूर संवेदन कक्ष

सन्दर्भसंपादित करें

इन्हें भी देखेंसंपादित करें

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें