श्रेया गुप्तो एक भारतीय अभिनेत्री हैं जो मुख्य रूप से तमिल, हिंदी फिल्मों और वेब शो में काम करती हैं।[1][2][3] वह वर्णम आयराम (2008), मथियाल वेल और दरबार (2020) में अपनी भूमिकाओं के लिए जानी जाती हैं।[4]

श्रेया गुप्तो
जन्म 28 नवम्बर 1995 (1995-11-28) (आयु 28)
कोलकाता, पश्चिम बंगाल , भारत
पेशा
  • अभिनेत्री
  • model
कार्यकाल 2006–present

प्रारंभिक जीवन

संपादित करें

श्रेया गुप्ता का जन्म कोलकाता, पश्चिम बंगाल में हुआ और पालन-पोषण चेन्नई, तमिलनाडु में हुआ।[5] उन्होंने बेंगलुरु में पोस्ट ग्रेजुएशन पूरा किया। श्रेया को पामर हाइपरहाइड्रोसिस है।

श्रेया गुप्तो ने अनुपम खेर के एक्टिंग स्कूल 'एक्टर प्रिपेयर्स' को जॉइन किया, जिसके बाद उन्हें विज्ञापन के मौके मिलने लगे। उन्होंने 2022 तक लगभग 25 विज्ञापनों में काम किया। श्रेया ने अपने करियर की शुरुआत बाल कलाकार के रूप में वरणम अयिरम, पल्लीकूडम, थिरुविलैयादल आरामबम जैसी तमिल फिल्मों से की। बाद में उन्होंने तमिल फिल्मों अर्रंबम, रोमियो जूलियट में अभिनय किया।[5] श्रेया वेब श्रृंखला रागिनी एमएमएस: रिटर्न्स में मुख्य पात्रों में से एक थीं।[5] 2019 में रिलीज़ जूम स्टूडियो की ओरिजिनल वेब सीरीज़ मॉम एंड कंपनी में श्रेया मुखर्जी की भूमिका के लिए उनकी प्रशंसा की गई।[6][7] उन्होंने वेब सीरीज़ फ़र्स्ट्स में रितु की भूमिका निभाई, जो 2020 में रिलीज़ हुई।[8] उन्होंने वेब सीरीज़ गोइंग वायरल में भी काम किया, जो अमेज़न प्राइम पर रिलीज़ हुई थी। श्रेया गुप्तो अन्य वेब शो जैसे व्हेन यू मीट योर एक्स में आयुष मेहरा के साथ तान्या की भूमिका में दिखाई दीं। उन्होंने जूली और आफ्टर लाइफ जैसी लघु फिल्मों में भी काम किया।

फिल्मोग्राफी

संपादित करें

इन्हें भी देखें

संपादित करें
  1. "Shreya Gupto Who Took The Digital Arena By Storm Has A Superb Cameo In Rajinikanth's Darbar".
  2. "Being on Camera is a Great Stress Buster: Shreya Gupto".
  3. "The Lockdown Diary: Shreya Gupta".
  4. Suthar, Manisha (4 February 2019). "Shreya Gupto and Vishal Vashishtha in Filter Copy's sketch 'Why To Date Bengali Guy'". मूल से 4 June 2019 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 4 June 2019.
  5. "Exclusive: Chennai girl Shreya Gupta to work with Riya Sen in Ragini MMS 2.2".
  6. "shreya".
  7. "'Characters are made queer so that makers feel progressive'".
  8. "Stories On Lesbian Relationships Without Any Male Protagonists Sharing the Spotlight".

बाहरी कड़ियाँ

संपादित करें