षट्कर्म शरीर के अलग-अलग भाग की शुद्धि के लिए बनाए गए हैं
नौलि
कपालभाति

षट्कर्म (अर्थात् 'छः कर्म') हठयोग में बतायी गयी छः क्रियाएँ हैं। षटकर्म द्वारा सम्पूर्ण शरीर की शुद्धि होती है एवं देह निरोग रहता है। ये षटकर्म निम्नलिखित हैं-

नेति, धौति, नौलि, बस्ति, कपालभाति, त्राटक [1][2]

नेतिसंपादित करें

नेति : नेति के दो प्रकार होते हैं -

1. जलनेति

2. सूत्रनेति

अन्य: 1-तेलनेति 2-दुग्धनेेति ।

धौतिसंपादित करें

धौति : धौति (धोना) बारह प्रकार की होती है -

1. वातसार धौति

2. वारिसार धौति

3. बहिव्सार धौति

4.बहिष्कृत धौति

5.दन्तमूल धौति

6.जिव्हामूल धौति

7.कर्णरन्ध्र धौति

8.कपाल रन्ध्र धौति

9. दण्ड धौति

10. वमन धौति

11. वस्त्र धौति

12. मूलशोधन धौति

नौलिसंपादित करें

बस्तिसंपादित करें

कपालभातिसंपादित करें

त्राटकसंपादित करें

सन्दर्भसंपादित करें

  1. Muktibodhananda, Swami. (1985). Hatha Yoga Pradipika. New Delhi India: Thomson Press India, for The Yoga Publications Trust.
  2. These techniques and their practice are outlined in considerable detail by Swami Rama in his two volume set: Rama, Swami. (1988). Path of Fire and Light, Volume I: Advanced Practices of Yoga; Volume II: A Practical Companion to Volume I. Honesdale, Pennsylvania. Himalayan Institute Press.

इन्हें भी देखेंसंपादित करें

  • पंचकर्म -- आयुर्वेद में पाँच कर्म : वमन, विरेचन, अनुवासन बस्ति, निरूह बस्ति तथा नस्य

बाहरी कीड़ेसंपादित करें