सनम तेरी कसम (1982 फ़िल्म)

1982 की नरेन्द्र बेदी की फ़िल्म

सनम तेरी कसम 1982 में बनी हिन्दी भाषा की फ़िल्म है। इसका निर्देशन नरेन्द्र बेदी द्वारा किया गया। मुख्य कलाकार कमल हासन और रीना रॉय हैं।[1] इस फिल्म का निर्माण रीना की बहन बरखा रॉय ने किया। यह फिल्म अपने सुपर हिट गाने, विशेष रूप से "निशा, निशा, निशा" के लिए भी जाना जाती है। अन्य गीत "शीशे के घरों में" और "कितने भी तू कर ले सितम" भी हिट थे। आर॰ डी॰ बर्मन को इस फिल्म में संगीत के लिये उनका पहला सर्वश्रेष्ठ संगीतकार का फिल्मफेअर पुरस्कार दिया गया था।

सनम तेरी कसम
सनम तेरी कसम.jpg
सनम तेरी कसम का पोस्टर
निर्देशक नरेन्द्र बेदी
निर्माता बरखा रॉय
लेखक कादर खान (संवाद)
अभिनेता कमल हसन,
रीना रॉय,
जगदीप,
कादर ख़ान,
रंजीत
संगीतकार आर॰ डी॰ बर्मन
प्रदर्शन तिथि(याँ) 14 मई, 1982
देश भारत
भाषा हिन्दी

संक्षेपसंपादित करें

सनम तेरी कसम सुनील (कमल हासन) की कहानी है जो अपने पिता की खोज में है। जब सुनील सिर्फ एक बच्चा था जब वह कहीं कहीं चले गए थे। वह निशा (रीना रॉय) से मिलता है जो उसे अपने पिता रामलाल शर्मा (कादर खान) की ओर ले जाती है। लेकिन दुर्भाग्यवश, किसी रॉबिन्सन (रंजीत)) ने पहले ही जीवन द्वारा सुनील के रूप में किसी को लगा दिया है और इसलिए रामलाल न तो अपने असली बेटे को पहचानता है, न ही उसे निशा से मिलने की अनुमति देता है। अंत में, हर बाधा हट जाती है और सब ठीक होता है।

मुख्य कलाकारसंपादित करें

संगीतसंपादित करें

सभी गीत गुलशन बावरा द्वारा लिखित; सारा संगीत आर॰ डी॰ बर्मन द्वारा रचित।

क्र॰शीर्षकगायकअवधि
1."कितने भी तू कर ले सितम"किशोर कुमार4:37
2."जाने जा ओ मेरी जाने जा"आर॰ डी॰ बर्मन, आशा भोंसले6:45
3."कितने भी तू कर ले सितम"आशा भोंसले4:32
4."जाना ओ मेरी जाना"आर॰ डी॰ बर्मन5:40
5."देखता हूँ कोई लड़की हसीन"किशोर कुमार6:22
6."शीशे के घरों में"किशोर कुमार4:09

नामांकन और पुरस्कारसंपादित करें

वर्ष नामित कार्य पुरस्कार परिणाम
1983 आर॰ डी॰ बर्मन फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ संगीतकार पुरस्कार जीत

सन्दर्भसंपादित करें

  1. "बॉलीवुड आए साउथ के ये 15 सुपरस्टार, कोई हुआ Hit तो कोई Superflop". दैनिक भास्कर. 31 दिसम्बर 2017. मूल से 20 अगस्त 2018 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 19 अगस्त 2018.

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें