मुख्य मेनू खोलें
पंडित सामता प्रसाद और शाहिद परवेज खान

पण्डित सामता प्रसाद (20 जुलाई 1921 – 31 मई 1994) भारत के शास्त्रीय संगीतकार एवं तबला-वादक थे। वे बनारस घराने के थे। उन्होंने अनेकों हिन्दी फिल्मों में तबला-वादन किया था, जिनमें से कुछ फिल्मों, जैसे - झनक झनक पायल बाजे, मेरी सूरत तेरी आंखें, बसंत बहार और शोले प्रमुख हैं। प्रसिद्ध फ़िल्म संगीतकार राहुल देव बर्मन उनके ही शिष्य थे।

पं. सामता प्रसाद को जीवन में अनेक मान-सम्मान मिले। उनमें से कुछ मुख्य हैं - "ताल शिरोमणि", "ताल मार्तण्ड" तथा संगीत नाटक अकादमी पुरस्कार

भारत सरकार द्वारा इन्हें कला के क्षेत्र में सन् १९७२ में पद्मश्री तथा १९९१ में पद्मभूषण से सम्मानित किया था।

सन्दर्भसंपादित करें

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें