साँचा:मुखपृष्ठ आज का आलेख

अंतरमहाद्वीपीय प्रक्षेपण प्रक्षेपास्त्र
अंतरमहाद्वीपीय प्रक्षेपण प्रक्षेपास्त्र
अप्रसार समीक्षा (द नॉन प्रोलिफरेशन रिव्यू) में छपे एक प्रतिवेदन के अनुसार, १९९५ की सर्दियों में, सूर्या भारत का विकसित किया जा रहा प्रथम अंतरमहाद्वीपीय प्रक्षेपण प्रक्षेपास्त्र का कूटनाम है। माना जाता है की रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डी.आर.डी.ओ) ने १९९४ में इस परियोजना को आरंभ कर दिया है। इस प्रतिवेदन की २००९ तक किसी अन्य स्रोत से पुष्टि नहीं की गई है। भारत सरकार के अधिकारियों ने बार-बार इस परियोजना के अस्तित्व का खण्डन किया है।प्रतिवेदन के अनुसार, सूर्या एक अंतरमहाद्वीपीय-दूरी का, सतह पर आधारित, ठोस और तरल प्रणोदक (प्रोपेलेंट) प्रक्षेपास्त्र है। प्रतिवेदन में आगे कहा गया है कि सूर्या भारत की सबसे महत्वाकांक्षी एकीकृत नियंत्रित प्रक्षेपास्त्र विकास परियोजना है। सूर्या की मारक क्षमता ८,००० से १२,००० किलोमीटर तक अनुमानित है। विस्तार में...