सुरसा ( असुर माता )

सुरसा दक्ष प्रजापति की कन्या और राक्षसों की माता थीं

कथासंपादित करें

दक्ष प्रजापति की ८४ कन्याओं में से १७ कन्याओं का विवाह महर्षि कश्यप के साथ किया गया था जिनमें से एक सुरसा भी थीं। सुरसा ने राक्षसों को जन्म दिया था जो देवताओं के विरुद्ध उठ खड़े हुए थे। सुरसा के पुत्रों के रूप में प्रसिद्ध राक्षस हेती , प्रहेति तथा मधु और कैटभ का जन्म हुआ था। सुरसा की गलत शिक्षाओं के कारण ही राक्षस देवताओं के विरुद्ध उठ खड़े हुए थे। सुरसा अपने पुत्रों को अपनी बड़ी बहिन अदिति के पुत्र आदित्यों से श्रेष्ठ और महान बनाना चाहती थी। सुरसा के पुत्र के रूप में राक्षस सुमाली का भी जन्म हुआ जिसकी पुत्री कैकसी हुई और उसका पुत्र रावण हुआ।