मुख्य मेनू खोलें

यह तो भावभावना की एक अवस्था है जो मन के राग और द्वेष से मुक्त होने पर ही होती है। सेवाभाव से चित्त निर्मल होता है। सेवा की सरलता ही मनुष्य को मुक्त अवस्था तक पहुंचाती है।