स्थिरवैद्युत जनित्र

स्थिरविद्युत जनित्र, या इलेक्ट्रोस्टैटिक मशीन, एक विद्युत-यांत्रिक जनित्र है जो उच्च वोल्टता उत्पन्न करती है। स्थैतिक विद्युत का ज्ञान आरम्भिक सभ्यताओं के काल से ही है लेकिन हजारों वर्षों तक यह केवल एक रोचक और रहस्यमय घटना बना रहा, और इस व्यवहार की व्याख्या करने के लिए कोई सिद्धान्त प्रदिपादित नहीं किया गया। १७वीं शताब्दी के अंत तक, शोधकर्ताओं ने घर्षण द्वारा विद्युत पैदा करने के व्यावहारिक साधन विकसित कर लिए थे, लेकिन इलेक्ट्रोस्टैटिक मशीनों का विकास 18 वीं शताब्दी तक शुरू नहीं हो सका था। १८वीं शताब्दी में स्थिरविद्युतजनित्रों का विकास हुआ और उनका उपयोग स्थिर विद्युत के अध्ययन के लिए एक उपकरण के रूप में होने लगा।

Large metal sphere supported on a clear plastic column, inside of which a rubber belt can be seen. A smaller sphere is supported on a metal rod. Both are mounted to a baseplate, on which there is a small driving electric motor.
कक्षा में प्रदर्शन करने के लिए निर्मित एक वॉन डी ग्रैफ जनित्र

यह सभी देखेंसंपादित करें

संदर्भसंपादित करें