पैगम्बर हारुन की एक रूसी चित्र

हारून, इब्राहीमी धर्मों के धर्मशास्त्रों के अनुसार, ईश्वर के एक पैग़म्बर हैं, जो मूसा की माँसी के पुत्र थे।[1][2][3][4][5] इब्राहीमी परंपरा के अनुसार हारुन ने हज़रत मूसा को कई विकट परिस्थितियों में साथ निभाया तथा जब लोगों ने हज़रत मूसा का अधिक्षेप किया तब उन्हों ने उनका साथ न छोड़कर अपना सखा-सम्बन्ध प्रमाणित किया था।[6] यहूदी मान्यता के अनुसार, हारुन, यहूदी धर्म के सबसे पहले मुख्य काहुन (प्रमुख पुरोहित) थे। तथा ईश्वर द्वारा भेजे गए तौरात में हारून और उनके वंश को यहूदी पौरोहित्य सौंपा गया था।[7]

इन्हें भी देखेंसंपादित करें

सन्दर्भसंपादित करें

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें