कोरोनावायरस एक प्रकार के आरएनए वायरस होते हैं

आरएनए वायरस (virus) ऐसा वायरस (विषणु) होता है जिसका अनुवांशिक जीनोम का निर्माण आरएनए नाभिकीय अम्ल से हुआ हो। यह नाभिकीय अम्ल आमतौर पर एक रेशे में संगठित होता है, यानि एकरेशीय आरएनए (single-stranded RNA, ssRNA) होता है, हालांकि कुछ आरएनए वायरस में द्विरेशीय आरएनए (double-stranded RNA, dsRNA) भी मिलता है। आरएनए वायरस जातियों द्वारा मानवों में उत्पन्न रोगों में इबोला वायरस रोग, सार्स, रेबीज़, ज़ुकाम, इनफ़्लुएंज़ा, हेपेटाइटिस सी, हेपेटाइटिस ई, पोलियो, खसरा और वूहान कोरोनावायरस रोग शामिल हैं।[1][2]

इन्हें भी देखेंसंपादित करें

सन्दर्भसंपादित करें

  1. MeSH, retrieved on 12 April 2008.
  2. Drake JW, Holland JJ (November 1999). "Mutation rates among RNA viruses". Proc. Natl. Acad. Sci. U.S.A. 96 (24): 13910–13. PMC 24164. PMID 10570172. डीओआइ:10.1073/pnas.96.24.13910. बिबकोड:1999PNAS...9613910D.