एडवर्ड सईद

साहित्य के अध्यापक और एक सार्वजनिक बौद्धिक

एडवर्ड सईद (अरबी: إدوارد سعيد‎), पूरा नाम एडवर्ड वदी सईद (1 नवम्बर 1935 - 25 सितम्बर 2003) न्यू यॉर्क स्थित कोलम्बिया विश्वविद्यालय में अंग्रेज़ी और तुलनात्मक साहित्य के प्रोफ़ेसर थे। वे संयुक्त राज्य अमेरिका में फ़िलिस्तीनी की स्वतंत्रता के सर्वोच्च अधिवक्ताओं में से थे।[7] सईद के रचनात्मक कार्यों ने उत्तर औपनिवेशिक अध्ययन के विकास में बुनियादी भूमिका निभाई है।[8][9]

एडवर्ड सईद
Edward Said Crop.jpg
जन्म 1 नवम्बर 1935[1]
यरुशलम[2]
मृत्यु 25 सितंबर 2003,[3] 24 सितंबर 2003,[4] 25 नवम्बर 2003[5]
न्यूयॉर्क नगर[6]
मृत्यु का कारण रक्त का कैंसर
नागरिकता संयुक्त राज्य अमेरिका
शिक्षा हार्वर्ड विश्वविद्यालय, प्रिंसटन विश्वविद्यालय
व्यवसाय लेखक, पत्रकार, दार्शनिक, संगीतशास्त्रज्ञ
नियोक्ता कोलंबिया विश्वविद्यालय

प्रारंभिक जीवन व शिक्षासंपादित करें

सईद का जन्म यरूसलम में 1 नवम्बर 1935 को आर्थिक रूप से समृद्ध एक फ़िलिस्तीनी परिवार में हुआ था। सईद के पिता वदी सईद ईसाई धर्म के अनुयायी थे। वे 1911 में प्रथम विश्व युद्ध से पहले संयुक्त राज्य अमेरिका चले गए थे। उन्होंने 1917 में फ्रांस में अमेरिकी एक्स्पिडिश्नरी फ़ोर्स सहित युद्ध में भाग लिया। उसके बाद 1920 में वे एक अमेरिकी नागरिक एवं व्यवसायिक के रूप में फ़िलिस्तीन लौटे।[7][10] इसके बाद वे कैरो चले गए जहाँ उन्होंने नाज़रेथ की एक महिला हिल्डा से विवाह किया।[7][11] सईद और उनकी बहनें काहिरा में पले-बढ़े जहाँ सईद को अंग्रेज़ों द्वारा संचालित एक विद्यालय में शिक्षा प्रदान की गयी। इसके बाद सईद को 1951 में अमेरिका में मैसाचूसिट्स के एक निजी विद्यालय भेज दिया गया। तत्पश्चात उन्होंने प्रिंसटन और फिर हारवर्ड में पढ़ाई की।[10][12]

कैरियरसंपादित करें

1963 में सईद कोलम्बिया विश्वविद्यालय में सहायक प्रोफ़ेसर बने।[12] 1977 में उन्हें फ़िलिस्तीनी राष्ट्रीय परिषद का सदस्य चुना गया। वे फ़िलिस्तीनी-इज़राइली समस्या के "दो-राष्ट्र समाधान" के शुरूआती समर्थकों में से थे। 1991 में उन्होंने परिषद से इस्तीफ़ा दे दिया।[7]

1990 में सईद की माँ की मौत ल्यूकेमिया से हुई। 1991 में उन्हें ये पता लगा के वे भी ल्यूकेमिया से ग्रस्त हैं। मध्य-पूर्व छोड़ने के बाद से 1992 में वे पहली बार फ़िलिस्तीन आए और 1993 में काहिरा आए।[13] 2003 में उनकी मौत हुई।[10][14]

रचनाएँसंपादित करें

राजनीतिसंपादित करें

1967 में, छह-दिवसीय युद्ध (5–10 जून 1967) के परिणामस्वरूप, सैद एक सार्वजनिक बुद्धिजीवी बन गए, जब उन्होंने रूढ़िबद्ध गलत बयानी (तथ्यात्मक, ऐतिहासिक, सांस्कृतिक) का मुकाबला करने के लिए राजनीतिक रूप से कार्य किया, जिसके साथ यू.एस. समाचार मीडिया ने अरब-इजरायल युद्धों की व्याख्या की; रिपोर्ताज मध्य पूर्व की ऐतिहासिक वास्तविकताओं, सामान्य रूप से, और विशेष रूप से फिलिस्तीन और इज़राइल से तलाकशुदा है। इस तरह के प्राच्यवाद को संबोधित करने, समझाने और सही करने के लिए, सईद ने "द अरब पोर्ट्रेट" (1968) प्रकाशित किया, जो "अरब" की छवियों के बारे में एक वर्णनात्मक निबंध है जो लोगों की ऐतिहासिक और सांस्कृतिक वास्तविकताओं की विशिष्ट चर्चा से बचने के लिए है (यहूदी, ईसाई, मुस्लिम) जो मध्य पूर्व के हैं, पत्रकारिता (प्रिंट, फोटोग्राफ, टेलीविजन) और कुछ प्रकार की छात्रवृत्ति (विशेषज्ञ पत्रिकाओं) में चित्रित हैं।[18]

फिलिस्तीन मेंसंपादित करें

3 जुलाई 2000 को, अपने बेटे, वादी के साथ मध्य पूर्व का दौरा करते हुए, ब्लू लाइन लेबनान-इज़राइल सीमा पार एक पत्थर फेंकते हुए सईद की तस्वीर ली गई थी, आतंकवाद के साथ एक जन्मजात, व्यक्तिगत सहानुभूति का प्रदर्शन करने वाली उनकी इस कार्रवाई के लिए इस तस्वीर की राजनीतिक गलियारों में बहुत आलोचना की गई; और, कमेंट्री पत्रिका में, पत्रकार एडवर्ड अलेक्जेंडर ने इज़राइल के खिलाफ आक्रामकता के लिए सईद को "आतंक का प्रोफेसर" बताया।[19] सईद ने स्पष्ट किया कि यह पत्थर फेंकना एक दोतरफा कार्रवाई थी, व्यक्तिगत और राजनीतिक; एक पिता और उसके बेटे के बीच कौशल की प्रतियोगिता, दक्षिणी लेबनान पर इज़रायल के कब्ज़े (1985-2000) के अंत पर एक अरब आदमी की खुशी का इज़हार: "यह एक कंकड़ था, वहां कोई भी नहीं था। गार्डहाउस कम से कम आधा मील दूर था।"[20]

इस बात से इनकार करने के बावजूद कि उन्होंने एक इज़रायली गार्डहाउस पर निशाना साधते हुए पत्थर फेंका था, बेरूत के अखबार अस-सफ़ीर (राजदूत) ने बताया कि लेबनान के एक स्थानीय निवासी ने सूचना दी कि सईद दो मंज़िला गार्डहाउस में तैनात इज़रायली रक्षा बल (IDF) के सैनिकों से दस मीटर (लगभग 30 फीट) की दूरी पर थे,[21] बहरहाल, अमेरिका में, कोलंबिया विश्वविद्यालय में दक्षिणपंथी छात्रों और बनाई ब्रिथ इंटरनेशनल (मित्र राष्ट्र) की अपवाद विरोधी लीग द्वारा राजनीतिक हंगामे के बावजूद विश्वविद्यालय के परिषद् अध्यक्ष ने एक शिक्षक की अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के रूप में सईद की कार्रवाई का सर्मथन करते हुए पांच पन्नों का एक पत्र प्रकाशित किया: "मेरी जानकारी के मुताबिक, वह पत्थर किसी को निशाना बनाकर नहीं फेंका गया; कोई भी कानून नहीं तोड़ा गया; कोई अभियोग नहीं लगाया गया; प्रोफेसर सईद के खिलाफ कोई भी आपराधिक या सिविल कार्रवाई नहीं की गई है।"[22]

सन्दर्भसंपादित करें

  1. इण्टरनेट मूवी डेटाबेस, IMDb अभिज्ञापक nm0756429, अभिगमन तिथि 16 अक्टूबर 2015Wikidata Q37312
  2. German National Library; Berlin State Library; Bavarian State Library; Austrian National Library, एकीकृत प्राधिकरण फ़ाइल, अभिगमन तिथि 11 दिसम्बर 2014Wikidata Q36578
  3. http://www.columbia.edu/cu/news/03/09/edwardSaid_2.html.
  4. इण्टरनेट मूवी डेटाबेस, IMDb अभिज्ञापक nm0756429, अभिगमन तिथि 28 नवम्बर 2019Wikidata Q37312
  5. https://cs.isabart.org/person/137729; प्राप्त करने की तिथि: 1 अप्रैल 2021.
  6. German National Library; Berlin State Library; Bavarian State Library; Austrian National Library, एकीकृत प्राधिकरण फ़ाइल, अभिगमन तिथि 31 दिसम्बर 2014Wikidata Q36578
  7. Malise Ruthven (26 सितम्बर 2003). "Obituary - Edward Said - Controversial literary critic and bold advocate of the Palestinian cause in America" [श्रद्धांजली - एडवर्ड सईद - विवादास्पक साहित्यिक समालोचक और अमेरिका में फ़िलिस्तीनी स्वतंत्रता के प्रमुख अधिवक्ता]. द गार्डियन. मूल से 28 सितंबर 2013 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 26 सितंबर 2013.
  8. एडवर्ड सईद, अमृतजीत सिंह, ब्रूस जी. जॉनसन, संपा॰ (2004). Interviews with Edward W. Said. University Press of Mississippi. पृ॰ xi. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9781578063666. मूल से 11 अक्तूबर 2013 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 28 सितंबर 2013. अंग्रेज़ी: His work has played a foundational role in the development of postcolonial studiesसीएस1 रखरखाव: एक से अधिक नाम: editors list (link)
  9. गायत्री स्पिवाक (2003). "In Memoriam: Edward W. Said". Comparative Studies of South Asia, Africa and the Middle East. 23. अंग्रेज़ी: I had written the words that follow on the day before the death of my friend and ally, the founder of postcolonial studies, Edward W. Said.
  10. Joshua Muravchik (2013). "Enough Said: The False Scholarship of Edward Said" [बहुत कहा: एडवर्ड सईद का झूठा पांडित्य]. World Affairs. मूल से 4 दिसंबर 2015 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 26 सितंबर 2013.
  11. मॅककार्थी 2010, पृ॰ 10.
  12. मॅककार्थी 2010, पृष्ठ 4
  13. इस्कंदर, रुस्तम 2010, पृ॰ 4.
  14. मॅककार्थी 2010, पृ॰ 8.
  15. मॅककार्थी 2010, पृ॰ 15.
  16. मॅककार्थी 2010, पृष्ठ 7
  17. मॅककार्थी 2010, पृष्ठ 2
  18. "III. For and Againstc the Other Germany}", In Exile, University of Pennsylvania Press, 1971-01-31, अभिगमन तिथि 2021-11-07
  19. Julian Vigo. Edward Said and the Politics of Peace: From Orientalism to Terrorology (2004) (English में).सीएस1 रखरखाव: नामालूम भाषा (link)
  20. Smith, Dinitia (2001-03-10). "A Stone's Throw Is a Freudian Slip". The New York Times (अंग्रेज़ी में). आइ॰एस॰एस॰एन॰ 0362-4331. अभिगमन तिथि 2021-11-24.
  21. "Edward Said Accused of Stoning in South Lebanon - Columbia Spectator". Columbia Daily Spectator. अभिगमन तिथि 2021-11-26.
  22. Arenson, Karen W. (2000-10-19). "Columbia Debates a Professor's 'Gesture'". The New York Times (अंग्रेज़ी में). आइ॰एस॰एस॰एन॰ 0362-4331. अभिगमन तिथि 2021-11-26.

ग्रन्थसूचीसंपादित करें

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें