कमलाकरभट्ट विख्यात स्मृतिसंग्रहकार और एक प्रधान स्मार्त थे। वे रामकृष्णभट्ट के पुत्र, नारायणभट्ट के पौत्र और दिनकर भट्ट के सहोदर थे। बहुत से धर्मग्रंथ इनके निर्माण किये हुए हैं। इनके बनाये हुए निम्नलिखित ग्रंथ प्रधान हैं-

तत्वकमलाकर , पूत्तेकमलाकर , तीर्थकमलाकर , संस्कारमयोग , संस्कारपद्धति , कार्तवीर्यार्जुनदीपदानप्रयोग , शान्तिरत्न , शुद्धमतत्त्व , सहस्रचण्डचादिविधि , निर्णयसिन्धु , विवादताण्डव।

इन ग्रन्थों के देखने से विदित होता है कि कमलाकर भट्ट सन् १५३४ ई० में विद्यमान थे।

सन्दर्भसंपादित करें

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें