मुख्य मेनू खोलें

कैल्साइट पृथ्वी पर सबसे अधिक परिमाण में पाया जाने वाला खनिज है। रासायनिक या जैव-रासायनिक कैल्सियम कार्बोनेट को कैल्साइट कहते हैं। इसका रासायनिक सूत्र CaCO3 है। कैलसाइट विभिन्न रंगों में पाया जाता है। यह खनिज अपने विदलन सतहों, काचोपम चमक, अल्प कठोरता (=3) तथा आपेक्षिक घनत्व (= 2.7) के कारण सरलता से पहचाना जा सकता है। तनु हाइड्रोक्लोरिक अम्ल की एक बूँद से ही इसमें बुदबुद उठने लगते हैं।

कैल्साइट
Calcite-HUGE.jpg
दोहरे परवर्तन वाला, मेक्सिको से प्राप्त कैलसाइट
सामान्य
वर्गकार्बोनेट खनिज
रासायनिक सूत्रCaCO3
पहचान
वर्णवर्णहीन या श्वेत, सलेटी, पीला व हरी भी
क्रिस्टल हैबिटक्रिस्टलाइन, दानेदार,
क्रिस्टल प्रणालीट्राईगोनल, षटकोणीय स्कैलीनोहेड्रल (32/m), स्पेस ग्रुप (R3 2/c)
फ्रैक्चरब्रिटल -म कॉन्कॉएडल
मोह्ज़ स्केल सख्तता3
चमकविट्रस
रिफ्रैक्टिव इंडेक्सnω = 1.640 - 1.660 nε = 1.486
ऑप्टिकल गुणयुनिएक्ज़ियल (-)
बाइरिफ्रिंजैंसδ = 0.154 - 0.174
स्ट्रीकश्वेत
स्पैसिफिक ग्रैविटी2.71
घुलनशीलताडायलूट अम्लों में घुलनशील
डायफनैटीपारदर्शी, दूधिया
सन्दर्भ[1][2][3]

कैल्साइत जब कैलसियम कार्बोनेट शिलाओं की तहों के रूप में पाया जाता है तब इसे 'चूना पत्थर' (limestone) कहते हैं। चूनापत्थर के कायांतरण से संगमरमर बनता है। रंगहीन पारदर्शक किस्म को आइसलैंड स्पार (Iceland spar) कहते हैं। द्विअपवर्तक होने के कारण इसका उपयोग सूक्ष्मदर्शी, फोटोमीटर तथा अन्य प्रकाशीय यंत्रों में किया जाता है।

कैल्साइट की क्रिस्टलाइन संरचना
सीप में कैल्साइट


सन्दर्भसंपादित करें