चिट फंड का अभ्यास भारत में एक बचत योजना के रूप में किया जाता है। एक कंपनी जो चिटफंड का प्रबंधन, आयोजिन और पर्यवेक्षण करता है, इस तरह के कंपनी को, चिट फंड अधिनियम की धारा १९८२ के द्वारा चिट फंड कंपनी के नाम से परिभाषित किया जाता है। चिट फंड अधिनियम , १०८२ की धारा २ ( ख) के अनुसार: "चिट का मतलब लेन-देन है जो चाहे चिट , चिट फंड , चिट्टि , कुरी या किसी अन्य नाम से, जिस्के द्वारा या जिसके तहत एक व्यक्ति, व्यक्तियों के एक निर्धारित संख्या के साथ एक समझौते में प्रवेश करता है कि उनमें से हर एक पैसे की एक निश्चित राशि का सदस्यता करेगा (या अनाज की एक निश्चित मात्रा), समय-समय पर किश्तों के माध्यम से एक निश्चित अवधि तक और ऐसे प्रत्येक ग्राहक को अपनी बारी के दौरान बेतरतीब ढंग से चुनाव, या नीलामी से, या निविदा द्वारा या इस तरह के अन्य तरीकों के रूप में जो चिट समझौते में निर्दिष्ट किया गया हो, पुरस्कार राशि के हकदार बनेंगे।"[1]

इस तरह के चिट फंड योजनाओं संगठित वित्तीय संस्थाओं द्वारा आयोजित किया जा सकता है, या दोस्तों या रिश्तेदारों के बीच आयोजित असंगठित योजनाओं से भी हो सकता है।चिट फंड के कुछ रूपों में, बचत विशिष्ट प्रयोजनों के लिए किया जाता है।चिट फंड, ऋण सुविधा के लिए आसान पहुँच प्रदान करके दक्षिण भारतीय राज्य केरल के लोगों की वित्तीय विकास में भी एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। केरल में चिट्टि (चिट फंड) एक आम घटना समाज के सभी वर्गों द्वारा अभ्यास किया जाता है।केरल राज्य वित्तीय उद्यम नामक एक कंपनी है जो केरल सरकार द्वारा चलाया जाता है जिसका मुख्य कारोबारी कार्यकलाप चिट्टि है। चिट फंड की अवधारणा १८०० में लोगों की आँखों के सामने आयी जब राजा राम वर्मा- तत्कालीन कोचीन राज्य के शासक, एक सीरियाई ईसाई व्यापारी को एक ऋण दिया था, जिसमें खुद के अन्य खर्चों के लिए उस में का एक निश्चित भाग रख कर और बाद में वह समानता के सिद्धांत के आधार पर बाकी पैसे भी ले लिय।

राजा राम वर्मा

चिटफंड का इतिहाससंपादित करें

चिट फंड प्रणाली जो पूरी तरह से एक भारतीय अवधारणा है, अब विश्व स्तर पर संचालित है और सार्वभौमिक प्रशंसा को भी जीत चुका है। कई साल पहले भारत के केरल नामक राज्य के गांवों में, एक छोटे से किसानों के समूह द्वारा एक अनूठी योजना संचालित हुई थी। प्रत्येक किसान अनाज की एक निश्चित मात्रा समय समय पर एक चयनित ट्रस्टी को सौंप दे देते थे। वह ट्रस्टी उस अनाज के एक हिस्से को स्वयं रख लेता था, और बचा हिस्सा समूह के एक सदस्य को अपने सामाजिक प्रतिबद्धताओं और दूसरी जरूरतों को पूरा करने के लिए दे देता था। किसान जिसे अनाज का हिस्सा प्रप्त होत है, उसे अनाज का निश्चित मात्रा देने का कार्य जारी रखना पढता है जब तक समूह के हर सदस्य को अपना अपना हिस्सा नहीं मिल जाता। अतिरिक्त लाभ प्राप्त करने पर, उनके भीतर प्रतियोगिता उत्पन्न होने लगी।कई सदस्य क्रम में जलदी मौका पाने के लिये अनाज का एक निश्चित भाग (एक डिस्काउंट की तरह) त्यागना करने के लिए तैयार थे। इसलिए, एक नीलामी आयोजित की गई थी और सबसे कम बोली लगानेवाले को माल मिलता था।

 
चिट पहले किसानो द्वरा शुरू की गई प्रणाली है

आदिम सभ्यताओं के अनुसार, एक किताब जो एडिथ जेमिमा सिम्कोस् ने लिखा था, ' मालाबार कुरी ' प्रणाली प्राचीन द्रविड़ काल से अस्तित्व में है और कुछ हद तक चीनी प्रणालियों के समान है। चीन में यह चीनी लॉटरी के नाम से विकसित जो आज भी उसी नाम से लोक प्रिय है। चिट फंड राजा राम वर्मा के काल में ही अस्तित्व में आया था। धीरे-धीरे अभ्यास देश के अन्य भागों में फैल गया और यहां तक ​​कि विदेश में, जिसमें म्यांमार और श्रीलंका शामिल हैं। लेकिन आपरेशन के वास्तविक व्यवस्थित १८३० और १८३५ के बीच कहीं हुआ था, जब कलडीन सीरियाई चर्च अपने नाम के तहत Kuries शुरू कर दिया और नामांकन के सबूत के रूप में ग्राहकों को पासबुक जारी किए हैं।चिट फंड की मूल की एक और संस्करण है चीन से आए पुर्तगाली मिशनरियों, जिन्होंने ईसाई धर्म प्रचार लिए मुजिरिस ( कोदुन्गल्लुर ) का दौरा किया और १५५७ में वैपीनकोट्टा गांव में एक मदरसा स्थापित वे कथित कोदुन्गल्लुर में चिट फंड को बढ़ावा देने के लिए प्रोत्साहित किया। चिट फंड एक ठेठ देसी वित्तीय संस्था है जो दक्षिण भारत के लिए अनोखा है खासकर आंध्र प्रदेश, तमिलनाडु और केरल के लिये। चिट फंड उस समय में वृद्धि हुई है जब बैंकिंग और ऋण सुविधाएं अपर्याप्त थे और अनेक लोग उनके कई उत्पादक और खपत जरूरतों के लिए स्वदेशी स्रोतों पर काफी हद तक निर्भर होना पड़ा। चिट फंड लोगों की वास्तविक ऋण जरूरतों को शहरी और ग्रामीण दोनों क्षेत्रों में पूरा करता है। यह कई लोगों के लिए बचत का एक माध्यम के रूप में कार्य किया है। तमिल में शब्द 'चिट ' और शब्द 'चिट्टि ' और ' कुरी ' मलयालम में पर्याय बन गया है , जिसका अर्थ है एक कागज का टुकड़ा है। आंध्र प्रदेश में यह चीटी के नाम से जाना जाता है। तमिलनाडु में चिट फंड के प्रजनक मोय मुरै के रूप में जाने जाते हैं। मोय पद का मतलब कॉल मनी जमा और मुरै का मतलब है रिवाज। इस प्रणाली के तहत, एक गांव या इलाके का एक समूह, जो एक दूसरे को जानते हैं, समूह के एक व्यक्ति की जरूरत को पूरा करने के लिए एक साथ शामिल हो कर अपने संसाधनों का संचय करते हैं। उस समय कुछ अच्छी तरह से परिभाषित किए गये ज़रूरतें थीं, जैसे कि भूमि की खरीदी, घरों के निर्माण और मवेशियों की खरीदी आदि जो प्रणाली के तहत निर्धारित किए गए थे। यह सहकारी भावना का एक मजबूत तत्व के साथ एक सहाय - निधि भी था। समय के पाठ्यक्रम में, शब्द मोय, शब्द चिट या ओलै ( ताड़ के पत्ते ) से बदल दिया गया था जो कुल जमा करने के लिए एक सदस्य के योगदान के भुगतान के लिए मांग का नोटिस था। बाद में समूह के सदस्यों के नामों को चिट या कागज या ताड़ के पत्ते के छोटे टुकड़े पर लिखा जाता है, एक व्यक्ति के नाम को, जिसे निधि की राशि दी जानी थी बाहर निकालने के लिए लुढ़का और फेरबदल कर दिया जाता है। यही चिट फंड की उत्पत्ति थी।

चिट फंड पूरी दुनिया मेंसंपादित करें

घूर्णन की बचत और क्रेडिट संघ' (ROSCA) भारतीय चिट फंड के बराबर है, जो दुनिया भर में प्रसिद्ध हैं। ROSCA अनौपचारिक वित्तीय संस्थाएँ हैं, जो दुनिया के हर कोने में पाए जा सकते हैं। वे विकसित देशों बहुत आम है, लेकिन यह भी अमेरिका में आप्रवासी समूहों द्वारा उपयोग किया जाता है। पैसा क्लब मराठी स्थानीय भाषा में 'बिशी' के नाम से जाना जाता है। यह घूर्णन के साथ ही साथ गैर - घूर्णन , बचत और क्रेडिट एसोसिएशन के लिए सामूहिक नाम है। इन संगठनों में सदस्य आवधिक योगदान देते हैं जो एक कोष में जमा हो जाता है,जिसमें से ऋण दिया जाता है। घूर्णन बिशी में, कुल निधि रोटेशन में सदस्यों में से प्रत्येक को दिया जाता है जब तक हर एक का अवसर नही आ जाता। इसलिए, केवल एक ऋण दिया जाता है जब सदस्य एक साथ जमा हो जाते हैं। गैर घूर्णन बिशी में कई ऋण, बचत के संचय से उत्पन्न किया जा रहा है। समय के साथ, कुछ सदस्य एक से अधिक ऋण ले सकता है, अन्य लोगों को फंड से उधार लेने की जरूरत कभी नहीं हो सकती है और एक बचत क्लब के रूप में केवल अपने समाज का उपयोग करेंगे। समाज के दोनों प्रकार विकासशील देशों में आम हैं लेकिन यह घूर्णन बचत और ऋण संघ है जो अधिक लोकप्रिय है और यह लोकप्रिय ROSCA के रूप में जाना जाता है। भारतीय ROSCA आमतौर पर चिट फंड या चिट्टी के रूप में जाना जाता है। इसका मूल आधुनिक बैंकिंग की स्थापना के तारीख से पहले का है। मूल रूप से, योगदान तरह, धान या चावल में थे। इसलिए, यह चिट्टी महिलाओं के बीच बहुत लोकप्रिय बन गया जो उनके चावल बैंक में योगदान करने के लिए प्रत्येक दैनिक भोजन से चावल की एक मुट्ठी बचाया करतीं थीं। वे सोने के गहने, घर के बर्तन या छोटे पशुओं में चिट्टी की आय का निवेश किया करती थीं। ROSCA के इस प्रकार को धान-बिशी रूप में जाना जा रहा था क्योंकि योगदान अनाज में था। अर्थव्यवस्था के मुद्रीकरण के साथ , नकद में योगदान धीरे-धीरे चावल या अनाज से बदल दिया। चिट्टी किसानों के अलावा अन्य पेशेवरों के बीच लोकप्रिय हो गया है, और इसकी प्रकृति एक शुद्ध बचत क्लब से एक बचत और ऋण समाज से बदल दिया है। भारतीय पैसा - ROSCA रोटेशन सिद्धांत के तीन बुनियादी बदलाव को जानता है। पहली लॉटरी प्रकार, जिसमें लॉटरी के माध्यम से एक विजेता खोजने की कोशिश करदी जाती है। दूसरी छूट के साथ लॉटरी , जो उसी तरह काम करता है, सिवाय इसके कि एक छोटी राशि फंड से काट और सदस्यों को जो अभी तक फंड नहीं मिला है, उनके बीच वितरित किया जाता है। वह छूट बचत पर ब्याज के रूप में देखा जा सकता है और सरल लॉटरी प्रणाली पर एक सुधार है जो सदस्यों को लाभांश देता है। तीसरे प्रकार नीलामी- ROSCA जिसमें सदस्यों निधि के लिए बोली लगाते हैं। अंततः, निधि उच्चतम छूट की पेशकश कर के बोली लगाने को चला जाता है जो बाद में अन्य सदस्यों के बीच बांटा जाता है।

चिट फंड की उत्पतिसंपादित करें

चिट की उत्पत्ति एक प्राचीन इतिहास रहा है। तथाकथित आधुनिक बैंकिंग प्रणाली को पश्चिमी देशों से उधार लिया गया है।लेकिन चिट वित्त, एक स्वदेशी उत्पाद है जो हमारे देश की आवश्यकताओं के अनुरूप विकसित और् अपनाया गया है। चिट का केंद्रीय विचार सहयोग पर आधारित है। चिट एकमात्र वित्तीय उपकरण है, जिसमें ऋण देनेवाला कमाता है। चिट फंड की अवधारणा १००० से अधिक साल पहले जन्म लिया है।शुरू-शुरू में यह समुदायों के भीतर व्यापारियों और परिवारों की एक अनौपचारिक संघ के रूप में था। जिसमें, सदस्यों को कार्यकाल के अंत में एक संचित राशि पाने के बदले में कुछ पैसे का योगदान करना पडता है। चिट फंड में भागीदारी मुख्य रूप से कुछ संपत्ति खरीद ने के उद्देश्य से, या दूसरे शब्दों में 'खपत' उद्देश्यों के लिए किया जाता है। लेकिन, हाल के दिनों में संविधान और चिट फंड के कामकाज में जबरदस्त परिवर्तन किया गया है। चिट का पहला अधिनियमन साल १९१४ में त्रावणकोर के सरकार द्वारा किया गया था। इसके बाद हमारे देश में कई राज्यों ने चिट अधिनियम को सूत्रित और अधिनियमित कर दिया था। सत्तर के दशक के शुरू में, जब कई चिट फंड कंपनियों का पतन हुवा था, भारत सरकार ने, देश की अर्थव्यवस्था के ऊपर चिट ,उसके प्रभाव , लाभ या समस्याओं का अध्ययन करने के लिए एक विशेष समिति गठित कियइस समिति की सिफारिशों पर एक विशेष चिट अधिनियम तैयार किया गया था और एक समान चिट फंड अधिनियम 'चिट फंड अधिनियम १९८२' के नाम के तहत केन्द्र सरकार की संसद द्वारा पेश किया गया था।कर्नाटक में इस केंद्रीय चिट फंड अधिनियम, चिट फंड (कर्नाटक) नियम, १९८३ के साथ-साथ १९८४ में लागू किया गया था। नई चिटफंड एक्ट यह सुनिश्चित किया कि चिट ऑपरेटर को अधिनियम में स्थापित मानदण्डों का कड़ाई से पालन करें और पूरी तरह से सदस्यता लेने वाले सार्वजनिक लोगों के चिट की रक्षा करना। चिट फंड स्कीमों का भारत के दक्षिणी राज्यों में एक लंबा इतिहास है।ग्रामीण असंगठित चिट फंड अभी भी कई दक्षिणी गांवों में देखा जा सकता है।मगर, संगठित चिट फंड कंपनियाँ अब पूरे भारत में प्रचलित हैं। शब्द ' चिट ' हिंदी से है और एक छोटा सा नोट या किसी वस्तु के टुकड़े को दर्शाता है। शब्द ब्रिटिश औपनिवेशिक शब्दकोश में डाल दिया गया और अभी भी कागज का एक छोटा सा टुकड़ा, एक बच्चे को या छोटी सी लड़की को बुलाने के काम आता है।

चिट फंड के प्रकारसंपादित करें

चिट फंड के तीन प्रकार होते हैं। (१) सरल चिट (२) व्यापार चिट (३) पुरस्कार चिट

सरल चिटसंपादित करें

यह भी बहुत (lots) से चिट के रूप में जाना जाता है। यह सब चिट्टीस का एक सबसे पुराना रूप है। यह भी चिट्टीस के सभी लोकप्रिय रूपों में सबसे आसान और कम जटिल संस्करण है। एक साधारण चिट में, पूरे संग्रह , जिसे चिट राशि कहा जाता है, हर सदस्य को रोटेशन द्वारा दिया जाता है, किसी भी कटौती के बिना। यहाँ पर किस्तों की संख्या के बराबर सदस्यों की संख्या होती हैं। हर सदस्य को निर्धारित राशि जिसे चिट या शेयर कहते हैं, सदस्यता के रूप में, आयोजक के निर्णय के अनुसार देने के लिए सहमत रहना पडता है। पुरस्कार विजेता का निर्णय लॉटरी के माध्यम से लिया जाता है। किसी भी किस्त में पुरस्कार राशि ही पूंजी या चिट्टि राशि होती है, जिससे फोरमैन के कमीशन निकाल ली जाती है।

व्यापार चिटसंपादित करें

व्यापार चिट नीलामी चिट के रूप में भी जाना जाता है। पंजीकृत चिट कंपनियों और फर्मों द्वारा चलाए चिट ज्यादातर व्यवसाय या नीलामी प्रकार के चिट होते हैं। एक चिट निधि योजना को आम तौर पर एक पूर्व निर्धारित मूल्य और अवधि होती है। प्रत्येक योजना सदस्यों की आवश्यक संख्या आम तौर पर इस योजना की अवधि के बराबर स्वीकारी जाती है। फोरमैन आम तौर पर अक्षर या संख्या से हर एक समूह को एक नाम देते हैं।

पुरस्कार चिटसंपादित करें

पुरस्कार चिट लॉटरी चिट के रूप में भी जाना जाता है। फोरमैन किस्तों की संख्या से अधिक सदस्यों को भरती करता है। नामांकित सदस्यों की संख्या किस्तों की संख्या की एक बहु होती है। नियमित अंतराल पर, एक ड्रा आयोजित किया जाता है जिससे एक भाग्यशाली संख्या को बाहर निकाला जाता है। केवल उन सदस्यों के नाम ड्रॉ में शामिल किए जाते हैं, जो अपने आवधिक सदस्यता का भुगतान किया हो। भाग्यशाली सदस्य जिसका नाम ड्रा में बाहर निकाला जाता है, एक पुरस्कार राशि नकद या एक उपयोगिक वस्तु के रूप में उसे दिया जाता है जो अपने ही सदस्यता से अधिक होता है। पुरस्कार विजेता जीतने के बाद एक सदस्य नहीं रहता है और आगे की किस्तों का भुगतान करने के लिए बाध्य नहीं है। गैर- विजेता सदस्य अंतिम किस्त का भुगतान के वक्त, अपनी सदस्यता के साथ साथ एक नाममात्र ब्याज वापस प्राप्त करने के हकदार है। पहले ड्रा में भाग्यशाली व्यक्ति को अधिक से अधिक लाभ हो जाता है।

चिट फंड के अधिनियमसंपादित करें

भारत में चिट फंड विभिन्न राज्य एवं केंद्रीय कानूनों द्वारा नियंत्रित किया जा रहा है। संगठित चिट फंड योजनाओं को रजिस्ट्रार या फर्म, सोसायटी और चिट के अंतर्गत रजिस्टर करना आवश्यक है।

  • केंद्र सरकार: चिट फंड अधिनियम १९८२ (जम्मू -कश्मीर राज्य को छोड़कर)
  • केरल : केरल चिट निधि नियम २०१२ और २०१६ संशोधन
  • तमिलनाडु : तमिलनाडु चिट फंड अधिनियम, १९६१
  • कर्नाटक : चिट फंड (कर्नाटक) नियम, १९८३
  • आंध्र प्रदेश : आंध्र प्रदेश चिट फंड अधिनियम, १९७१
  • नई दिल्ली : चिट फंड अधिनियम, १९८२ और दिल्ली चिट फंड नियम, २००७
  • महाराष्ट्र : महाराष्ट्र चिट फंड अधिनियम १९७५

चिट फंड के फायदेसंपादित करें

  • चिट फंड लचीलेपन के साथ एक अनूठी अवधारणा है जो पैसे बचाने और उधार लेने के लिए श्रेष्ठ है
  • ब्याज दर ( जिसे लाभांश कहा जाता है), ग्राहकों द्वारा परस्पर निर्धारित किया जाता है और प्रत्येक नीलामी के लिए अलग-अलग होता है
  • उधार के पैसे अपने स्वयं के भविष्य के योगदान के खिलाफ दिए जाते हैं
  • राशि व्यक्तिगत जमानत पर भी दिया जाता है
  • व्यक्तिगत जरूरतों को भी पूरा करने का विश्वास दिलाता है, क्योंकि एक ग्राहक किसी भी उद्देश्य के लिए उसकी / उसके चिट फंड से पैसे निकाल सकता है, चाहे वह व्यापार निवेश के लिये या घर खरीदने , या परिवार में एक शादी करने के लिये ही क्यों न हो
  • न्यूनतम कागजी कार्रवाई की जरूरत होती है अन्य निवेश विकल्पों की तुलना में
  • यह एक आवर्ती जमा (आरडी) की तरह है, जिसमें आप परिपक्वता राशि का आनंद समय से पहले ही उठाया जा सकता है (यदि आप बोली लगायें) और जमा पर एक अलग ऋण खाते की जरूरत नहीं होती है
  • वापस माल बैंक में जमा राशि की तुलना में अधिक होतीं हैं

चिट फंड के नुकसानसंपादित करें

  • कमजोर नियामक ढाँचे क्योंके अधिनियमों, बेईमान चिट फंड कंपनियों / सदस्यों के लिए सजा के रूप में कुच नही प्रदान करते
  • चिट निवेश प्रभावित हो जाता अगर चिट जीतने के बाद विजेता गायब हो जाता है तो
  • ऐसे मामलों में,फोरमैन जिसे ' चूक ' योगदान के बिना चिट व्यवसाय चलाने का कार्य जारी रखने के लिए मजबूर कर दिया जाता है, जिस्से उसका बहुत बडा नुकसान होत है
  • एक चिट नीलामी हमेशा एक जमानत द्वारा समर्थित नहीं होता है , बेईमान ग्राहकों चिट फंड की भावना के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए उनका हौसला बढ़ाया मिलता है, जिससे घाटा हो सकता है
  • चिट फंड आय को पैसा शोधन गतिविधियों के लिए इस्तेमाल किए जाने के संभावनाएँ बहुत अधिक हैं
  • केन्द्रीय अधिनियम की धारा १२ (२) के अनुसार चिट - फंड कंपनी द्वारा किसी अन्य व्यापार का संचालन पर प्रतिबंध है, जब चिट व्यापार के संचालन पर कार्य कर रहे हो, जिस्से नए खिलाड़ियों के दायरे की सीमा घट जाती है
  • कोई चिट - फंड कंपनी दस लाख रुपये से ऊपर चिट नही दे रही है

चिट फंड के तथ्य और आंकड़ेसंपादित करें

  • भारत में लगभग १५,००० से अधिक चिट फंड समूह / कंपनियाँ हैं
  • केरल राज्य की अपनी ही चिट फंड कंपनी जो केरल राज्य वित्तीय उद्यम कंपनी का नाम से जाना जाता है और पूरे राज्य में उसका संचालन है
  • १५,००० चिट फंड कंपनियों / समूहों में, केवल एक प्रतिशत, पेशेवर व्यापार इकाई के रूप में इसे चलाते हैं
  • चिट फंड पैसा भारत में मुख्य रूप से शादी , संपत्ति और खरीदी, वाहन खरीदी, परिसंपत्तियों की खरीदी, उपभोक्ता अल्पजीवी वस्तुओं आदि के लिए निवेशक द्वारा प्रयोग किया जाता है

सन्दर्भसंपादित करें

[2][3][4]Naga Santhi Sree, V. "A study of non banking financial companies with special reference to chit fund companies in Andhra Pradesh." (2013).[5]

  1. "Chit Funds Act, 1982". Financial Intelligence Unit – India. मूल से 3 सितंबर 2009 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2010-02-15.
  2. "संग्रहीत प्रति". मूल से 24 दिसंबर 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 23 नवंबर 2016.
  3. "संग्रहीत प्रति". मूल से 25 अगस्त 2017 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 23 नवंबर 2016.
  4. http://hdl.handle.net/10603/8650
  5. "संग्रहीत प्रति". मूल से 18 नवंबर 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 23 नवंबर 2016.