टार्न या सर्क झील अथवा गिरिताल एक हिमनद निर्मित स्थलरूप है। सर्क या हिमगह्रवर की घाटी में स्थित चट्टानों पर अत्यधिक हिम के दबाव तथा अधिक गहराई तक अपरदन की क्रिया सम्पन्न होने के कारण छोटे-छोटे अनेक गड्ढ़ों का निर्माण हो जाता है और जब हिम पिघल जाती है तो इसका जल इन गड्ढ़ों में भर जाता है तथा झीलों का निर्माण होता है, इन्हीं झीलों को टार्न या सर्क झील कहते है।[1]

अमेरिका के कोलोरोडो प्रान्त स्थित पैसिफिक टार्न
गंगाबल झील, काश्मीर
हिमनद द्वारा टार्न की उत्पत्ति का सरल निरूपण

टार्न शब्द नार्वेजियन भाषा (के tjörn) से निकला है और इसका अर्थ छोटा तालाब होता है।

सामान्यतः ये झीलें छोटे आकार की होती हैं।[2] भारत के हिमालय क्षेत्र में कश्मीर घाटी में गंगाबल झील इस स्थलरूप का एक सुन्दर उदाहरण है।


सन्दर्भसंपादित करें

  1. माजिद हुसैन, भारत का भूगोल Archived 29 जुलाई 2014 at the वेबैक मशीन., अभिगमन तिथि 21-07-2014
  2. झीलें Archived 28 जुलाई 2014 at the वेबैक मशीन., इण्डिया वाटर पोर्टल, अभिगमन तिथि 21-07-2014