मुख्य मेनू खोलें

दिल आशना है

हिन्दी भाषा में प्रदर्शित चलवित्र

दिल आशना है 1992 में बनी हिन्दी भाषा की प्रेमकहानी फ़िल्म है जिसका निर्देशन और निर्माण हेमामालिनी ने किया। इसमें शाहरुख खान और दिव्या भारती मुख्य भूमिका में और जीतेन्द्र, मिथुन चक्रवर्ती, डिंपल कपाड़िया, अमृता सिंह और सोनू वालिया सहायक भूमिकाओं में शामिल है। यह पहली फिल्म थी जिसे शाहरुख खान ने 1991 में साइन किया। लेकिन देरी के कारण दीवाना पहले रिलीज हुई और इस तरह उन्होंने बॉलीवुड में अपनी शुरुआत की।

दिल आशना है
दिल आशना है.jpg
दिल आशना है का पोस्टर
निर्देशक हेमामालिनी
निर्माता हेमामालिनी
लेखक इकबाल दुर्रानी
अभिनेता दिव्या भारती,
शाहरुख़ ख़ान,
जितेन्द्र,
मिथुन चक्रवर्ती,
डिम्पल कपाड़िया,
अमृता सिंह,
सोनू वालिया
संगीतकार आनंद-मिलिंद
प्रदर्शन तिथि(याँ) 22 अक्तूबर, 1992
देश भारत
भाषा हिन्दी

संक्षेपसंपादित करें

लैला (दिव्या भारती) वेश्यालय में पाली गई, दिग्विजय सिंह (कबीर बेदी) के पांच सितारा होटल में एक कैबरे नर्तक है। एक दिन, लैला को अपनी मां से एक फोन कॉल प्राप्त होता है जो मरने वाली है। वह उसे चौंकाने वाली खबर बताती हैं; कि वह उसकी असली मां नहीं थी और लैला को गोद लिया गया था। करण (शाहरुख खान) लैला के साथ प्यार में पड़ता है। लैला को अपनी असली मां की तलाश में करण द्वारा सहायता मिलती है। उनकी खोज उन्हें रजिया (फरीदा ज़लाल) की ओर ले जाती है जो कहती है कि 18 साल पहले उनके कॉलेज में तीन शरारती लड़कियां थीं: बरखा (डिंपल कपाड़िया), राजलक्ष्मी (अमृता सिंह) और सलमा (सोनू वालिया)। वे अपने संबंधित बॉयफ्रेंड से प्यार करती थी: सुनील (मिथुन चक्रवर्ती), प्रिंस अर्जुन (जीतेन्द्र) और अकरम (नसीर अब्दुल्ला)। एक दिन उन्हें पता चला कि उनमें से एक गर्भवती है। वे रजिया से एक घर लेते हैं और बच्चे को पैदा करते हैं। जल्द ही जब बच्चा छह महीने का हो जाता है, उसे रजिया के पास भेजा जाता है और वे वादा करती हैं कि जो भी सबसे पहले शादी करेगा, वह उसे अपनाने वाला पहला होगा। उन्होंने उसे सितारा नाम दिया। करण ने पाया कि बरखा अब स्वास्थ्य और कल्याण मंत्री हैं, राजलक्ष्मी पोलो के लिए घोड़ों को प्रशिक्षित कर रही है और अर्जुन से विवाह कर चुकी है और सलमा सेंट टेरेसा (वह कॉलेज जिसमें उन्होंने पढ़ाई की) की प्रिंसिपल है और अकरम से विवाहित है। वे अब एक-दूसरे के संपर्क में नहीं हैं। करण और लैला ने तीनों महिलाओं को निमंत्रण के लिए अलग-अलग कारण बताते हुए आमंत्रित किया। जब लैला / सितारा उनसे सवाल करती है, तो वे चले जाते हैं। यह पता चला है कि सलमा शादी करने वाले पहली व्यक्ति थी, लेकिन सितारा के बारे में अपने ससुराल वालों को बताने में डर गई थी। दिग्विजय सिंह ने अपने होटल से लैला को फेंक दिया और जब उसपर गिरोह द्वारा हमला किया जाने ही वाला था तभी प्रिंस अर्जुन उसे बचाता है और उसे घर ले जाता है। दीवाली पार्टी के दौरान, एक व्यक्ति सितारा को हर किसी के सामने अपमानित करता है और फिर बरखा कबूल करती है कि वह सितारा की मां है। सीतारा उसे अपने पिता के बारे में पूछती है और बरखा उसे बताती है कि वह किसी तरह के सैन्य प्रशिक्षण के लिए संयुक्त राज्य अमेरिका चले गए और उसकी कोई खबर नहीं है। राजलक्ष्मी और सलमा सितारा से मिलने आते हैं, जबकि बरखा अपने पद से इस्तीफा देने जाती है।

मुख्य कलाकारसंपादित करें

संगीतसंपादित करें

संगीतकार - आनंद-मिलिंद
गीतकार - मजरुह सुल्तानपुरी
# शीर्षक गायक
1 "दिल आशना है" सुरेश वाडकर, साधना सरगम
2 "हो अभी तो हुई जवान" कविता कृष्णमूर्ति
3 "भूल के दिन" सुदेश भोंसले, अभिजीत, बल्बिंदर, कविता कृष्णमूर्ति, साधना सरगम, पद्मिनी
4 "ये दिल आशना है" साधना सरगम
5 "रंगीन हसीन रात को" कविता कृष्णमूर्ति
6 "एक दिल एक जान एक है हमारा" (भाग I) कविता कृष्णमूर्ति, साधना सरगम, अपर्णा
7 "एक दिल एक जान एक है हमारा" (भाग II) कविता कृष्णमूर्ति, साधना सरगम, अपर्णा
8 "डांस म्यूजिक" वाद्य संगीत
9 "किसी ने भी तो नहीं देखा" पंकज उधास

परिणामसंपादित करें

दिल आशना है फिल्म बुरी तरफ फ्लॉप साबित हुई थी।[1]

सन्दर्भसंपादित करें

  1. "शाहरुख खान की 10 फ्लॉप फिल्में, किसी ने कमाए 1.3 तो किसी ने 2 करोड़". दैनिक भास्कर. 4 अगस्त 2017. अभिगमन तिथि 15 जून 2018.

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें