प्रवेशद्वार:खगोलशास्त्र

खगोलशास्त्र प्रवेशद्वार

खगोल शास्त्र, एक ऐसा शास्त्र है जिसके अंतर्गत पृथ्वी और उसके वायुमण्डल के बाहर होने वाली घटनाओं का अवलोकन, विश्लेषण तथा उसकी व्याख्या की जाती है। यह वह अनुशासन है जो आकाश में अवलोकित की जा सकने वाली तथा उनका समावेश करने वाली क्रियाओं के आरंभ, बदलाव और भौतिक तथा रासायनिक गुणों का अध्ययन करता है। बीसवीं शताब्दी के दौरान, व्यावसायिक खगोल शास्त्र को अवलोकिक खगोल शास्त्र तथा काल्पनिक खगोल तथा भौतिक शास्त्र में बाँटने की कोशिश की गई है। बहुत कम ऐसे खगोल शास्त्री है जो दोनो करते है क्योंकि दोनो क्षेत्रों में अलग अलग प्रवीणताओं की आवश्यकता होती है, पर ज़्यादातर व्यावसायिक खगोलशास्त्री अपने आप को दोनो में से एक पक्ष में पाते है। विस्तार से पढ़ें…

चयनित लेख

एंड्रोमेडा आकाशगंगा या‌ देवयानी आकाशगंगा (अंग्रेज़ी: Andromeda, उच्चारित/ænˈdrɒmədə/) एंड्रोमेडा तारामंडल (देवयानी तारामंडल) में स्थित, पृथ्वी से 2,500,000 प्रकाश वर्ष (1.6×1011 खगोलीय इकाई) दूर मौजूद एक महान तारापुंज है, जो साफ आसमान में नग्न आंखों से देखा जा सकता है। यह मैसीयर ३१, एम३१ या एनजीसी २२४ कहलाता है और अक्सर ग्रंथों में इसका संदर्भ महान एंड्रोमेडा निहारिका के रूप में दिया जाता है। एंड्रोमेडा सर्पिलाकार तारा पुंज, हमारी सबसे निकटतम आकाशगंगा है लेकिन औसत सिरों की दूरी को कुल मिलाकर यह सबसे निकटतम नहीं है। इसे अमावस की रात को धब्बे के रूप में देखा जा सकता है और दूरबीन से शहरी क्षेत्रों में भी देखा जा सकता है। इसके नाम को उस आकाश क्षेत्र से लिया गया है जहां यह प्रकट होता है, एंड्रोमेडा तारामंडल (जिसे हिन्दी में देवयानी तारामंडल कहते हैं) और जिसका नाम पौराणिक राजकुमारी एंड्रोमेडा के नाम पर रखा गया है। एंड्रोमेडा स्थानीय समूह का सबसे बड़ा तारापुंज है जिसमें एंड्रोमेंडा आकाशगंगा, मिल्की वे आकाशगंगा, ट्रियांगुलम आकाशगंगा और ३० अन्य छोटी आकाशगंगाऐं शामिल हैं। हालांकि, इनमें सबसे बड़ा, एंड्रोमेडा, बहुत विशालकाय नहीं है, क्योंकि हाल ही खोजों से पता चला है कि आकाशगंगा में बहुत से ऐसे मामले हैं जिनके उससे भी विशालकाय स्वरूप हो सकते हैं। स्पित्ज़र स्पेस टेलीस्कोप द्वारा २००६ में देखने पर यह पता लगा है कि M३१ में करोड़ों (१०१२) तारे शामिल हैं जिनकी संख्या हमारी आकाशगंगा, मिल्की वे, जिनकी संख्या लगभग c. २००-४०० अरब है, से कहीं अधिक है। अधिक पढ़ें…


चयनित जीवनी

ऍडविन पावल हबल (अंग्रेज़ी: Edwin Powell Hubble, जन्म: २० नवम्बर १८८९, देहांत: २८ सितम्बर १९५३) एक अमेरिकी खगोलशास्त्री थे जिन्होनें हमारी गैलेक्सी (आकाशगंगा या मिल्की वे) के अलावा अन्य गैलेक्सियाँ खोज कर हमेशा के लिए मानवजाती की ब्रह्माण्ड के बारे में अवधारणा बदल डाली। उन्होंने यह भी खोज निकाला के कोई गैलेक्सी पृथ्वी से जितनी दूर होती है उस से आने वाले प्रकाश का डॉप्लर प्रभाव उतना ही अधिक होता है, यानि उसमे लालिमा अधिक प्रतीत होती है। इस सच्चाई का नाम "हबल सिद्धांत" रखा गया और इसका सीधा अर्थ यह निकला के हमारा ब्रह्माण्ड निरंतर बढ़ती हुई गति से फैल रहा है। अधिक पढ़ें…


क्या आप जानते हैं?
नोवा का निर्माण
नोवा का निर्माण


चयनित चित्र
Schwarzschild black hole


एक कृष्ण विवर, किसी आकाशगंगा के सामने से गुज़रते हुए (एनीमेशन)। कृष्ण विवर के चारों ओर एक प्रकार का गुरुत्वीय लैंस होता है जिसके कारण यदि कोई तारा मण्डल उसके पीछे से गुज़रता है तो उसकी छवि विकृत हो जाती है।
सम्बंधित लेख व श्रेणियाँ
आप किस प्रकार सहायता कर सकते हैं
Things you can do
  • हाल में हुए परिवर्तनों की समीक्षा कर पृष्ठों के सुधर में सहायता कर सकते हैं।
  • प्रवेशद्वार:खगोलशास्त्र के वार्ता पृष्ठ पर आवश्यक विषयों हेतु पृष्ठ निर्मित करने के लिए आवेदन दे सकते हैं।
  • खगोलशास्त्र व इससे सम्बंधित पृष्ठों का विस्तार कर सकते हैं।
  • पहले से निर्मित पृष्ठों पे चित्र व उद्धरण जोड़ कर उन्हें अधिक सूचनात्मक बना सकते हैं।
  • खगोलशास्त्र सम्बंधित पृष्ठों में सटीक श्रेणी जोड़कर उनका बेहतर श्रेणीकरण कर सकते हैं।
  • प्रवेशद्वार:खगोलशास्त्र से जुड़े विकिपरियोजना (विकिपीडिया:विकिपरियोजना खगोलशास्त्र) से जुड़ कर खगोलशास्त्र के विषयों से जुड़े अन्य कार्यों में सहयोग कर सकते हैं
अन्य परियोजनाओं में
विकिसमाचार पर खगोलशास्त्र प्रवेशद्वार     विकि-उद्धरण पर खगोलशास्त्र     विकिताब पर खगोलशास्त्र विषय     विकिस्रोत पर खगोलशास्त्र प्रवेशद्वार     कॉमन्स पर खगोलशास्त्र श्रेणियाँ     विक्षनरी पर खगोलशास्त्र प्रवेशद्वार     विकि-विश्वविद्यालय पर खगोलशास्त्र
समाचार उद्धरण हस्तचालित विषय चित्र परिभाषा सीखना