मुख्य मेनू खोलें

प्राण सुख यादव (1802–1888) एक सेना नायक [1], 1857 की क्रांति में भागीदार क्रांतिकारी[2] तथा सिख कमांडर हरी सिंह नलवा के मित्र थे।[3][4] अपने पूर्व के समय में वह सिख खालसा सेना व फ्रेंच आर्म्स की तरफ से लड़ते थे। महाराजा रणजीत सिंह के निधन के बाद उन्होने प्रथम व द्वितीय ब्रिटिश-सिख संघर्ष में भागीदारी निभाई।.[5]

1857 की क्रांतिसंपादित करें

1857 की क्रांति में, राव तुलाराम व प्राण सुख यादव नसीब पुर के युद्ध में ब्रिटिश सेना से लड़े थे।[6][7] राव तुला राम उसके बाद सैन्य सहायता हेतु रूस गए जहाँ रास्ते में ही उनकी मृत्यु हो गयी।[8]

एरीपुरा रेजीमेंट में बगावत की खबर पाकर प्राण सुख यादव ने जोधपुर लेजियन के कमांडर से संपर्क किया व तय किया कि नारनौल में ब्रिटिश सेना से लड़ने का यही सही समय है। वह एक कुशल सेना नायक व रननीतिज्ञ थे, बहादुरी से लड़ते हुये उन्होने कर्नल गेरार्ड अपनी पसंदीदा राइफल से मार गिराया था। उन्होने जब लाल कोट पहने कर्नल पर निशाना साधा जिसके बाकी के सैनिक खाकी वर्दी में थे, पहली बार उनका निशाना चूक गया था परंतु दूसरी बार सही लगा व कर्नल गेरार्ड नारनौल में मारा गया। यद्यपि भारतीय इस लड़ाई में हार गए थे, प्राण सुख बाकी के बागियों के साथ दो-तीन साल तक छिपे रहे व बाद में अपने पैतृक गाँव अलवर (राजस्थान) जिले के निहालपुर में आकर वापस बस गए।[9] अपने आखिरी वर्षों में वह आर्य समाज के अनुयायी बन गए थे।[10][11][12]

संदर्भ सूत्रसंपादित करें

  1. "Pran: Pran News in Hindi, Videos, Photo Gallery – IBN Khabar". khabar.ibnlive.com. ibnlive.com. अभिगमन तिथि 12 July 2016.
  2. Books, Hephaestus (2011). Revolutionaries of Indian Rebellion of 1857, Including: Rani Lakshmibai, Bahadur Shah II, Nana Sahib, Mangal Pandey, Tantya Tope, Begum Hazrat Mahal, Azimullah Khan, Bakht Khan, Rao Tula RAM, Raja Nahar Singh, Jhalkaribai, Mirza Mughal, Pran Sukh Yadav (अंग्रेज़ी में). Hephaestus Books. पृ॰ Book title. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9781242761577. अभिगमन तिथि 12 July 2016.
  3. "13th November 1780: Maharaja Ranjit Singh, founder of the Sikh Empire, was born". mapsofindia.com. अभिगमन तिथि 26 February 2016.
  4. Nayyar, Gurbachan Singh; Bureau, Punjabi University Publication (1995). The campaigns of General Hari Singh Nalwa (अंग्रेज़ी में) (1st ed. संस्करण). Patiala: Punjabi University. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9788173801419. अभिगमन तिथि 11 July 2016.
  5. Six Battles for India: The Anglo-Sikh Wars, 1848-6, 1848-9 (अंग्रेज़ी में). Arthur Barker Limited. अभिगमन तिथि 11 July 2016.
  6. M.K. Singh (2009). Encyclopaedia Of Indian War Of Independence (1857-1947) (Set Of 19 Vols.). Anmol Publications Pvt. Ltd,. पृ॰ 80. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9788126137459.
  7. "Revolutionary Movements in India and their Aims" (PDF). shodhganga. shodhganga. पृ॰ 21. अभिगमन तिथि 26 February 2016.
  8. Saran, Renu (2008). Freedom Struggle of 1857 (अंग्रेज़ी में). Delhi: Diamond Pocket Books Pvt Ltd. पृ॰ THE REVOLT. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9789350830659. अभिगमन तिथि 12 July 2016.
  9. Antiques International. "ALWAR INDIA PRINCELY STATE VICTORIA EMPRESS SILVER ONE RUPEE 1880". Antiques International. अभिगमन तिथि 26 February 2016.
  10. "Modern Indian Political Thought" (PDF). Rai Technology University. Rai Technology University e-content. पृ॰ 199. अभिगमन तिथि 23 March 2016.
  11. "Maharshi Dayanand Saraswati Rishi Gatha". Youtube. अभिगमन तिथि 26 February 2016.
  12. Jawaharlal Nehru University, Centre for Historical Studies (1997). Studies in History Vol 13 (अंग्रेज़ी में). नई दिल्ली: Sage. अभिगमन तिथि 11 July 2016.