भरतपुर जिला

राजस्थान का जिला
भरतपुर ज़िला
Bharatpur district
मानचित्र जिसमें भरतपुर ज़िला Bharatpur district हाइलाइटेड है
सूचना
राजधानी : भरतपुर
क्षेत्रफल : 5,066 किमी²
जनसंख्या(2011):
 • घनत्व :
25,49,121
 503/किमी²
उपविभागों के नाम: तहसील
उपविभागों की संख्या: 13
मुख्य भाषा(एँ): हिंदी बृजभाषा मेवाती, राजस्थानी


भरतपुर राजस्थान राज्य का एक ज़िला है। ज़िले का मुख्यालय भरतपुर है। भरतपुर का कुछ भाग मेवात क्षेत्र कहलाता है।भरतपुर मध्यकाल में एक स्वतंत्र राज्य था। जिसकी स्थापना जाट महाराजा सूरजमल ने की थी।भरतपुर जिले में विश्व प्रसिद्ध केवलादेव राष्ट्रीय उद्यान है जिसे यूनेस्को द्वारा विश्व विरासत सूची में शामिल किया गया है जिसे अन्य नामों जैसे भरतपुर बर्ड सेंचुरी, घना पक्षी विहार से जाना जाता है। भरतपुर जिले के सबसे बड़े बांध का नाम बांध बारेठा है जो बारेठा गांव के निकट स्थित है। भरतपुर जिले की सबसे बड़ी नदी गंभीर नदी है जो कि करौली जिले से निकलती है जहा पाचना बांध बना हुआ है। बयाना तहसील के बिरहटा गांव के निकट सेवला हैड पर पुल बना हुआ है जहां से घना के लिए नहर निकाली गई है।

जिले की अन्य नदियां जैसे - बाणगंगा, रूपारेल, पार्वती आदि हैं। भरतपुर जिले की तहसील भरतपुर, बयाना, डीग, कम्हेर, कामा, पहाड़ी, उचैन, रूपवास, नदबई, वैर, भुसावर है।

प्रसिद्ध खानवा का युद्ध भरतपुर जिले की रूपवास तहसील के खानवा के मैदान में लड़ा गया था।

बयाना का युद्ध भी भरतपुर जिले में ही लड़ा गया था।

भरतपुर जिले का बयाना शहर मुगलकाल में नील की खेती के लिए विश्व प्रसिद्ध था।

भरतपुर जिले के प्रमुख व्यक्तित्व जैसे - डॉ सुभाष गर्ग, जाहिदा खान, भजनलाल जाटव, विश्वेंद्र सिंह, अमरसिंह जाटव, डॉ ऋतु बनावत, कृष्णेन्द्र कौर, डॉ शैलेश सिंह, जोगिंदर सिंह अवाना, डॉ अनूप शर्मा , डॉ दिगंबर सिंह, पंडित रामकिशन शर्मा आदि हैं।

जिले के प्रमुख गांव- हलेना, जघीना, बिरहटा, सिनपिनी, सूपा, पीलूपुरा, वंशी पहाड़पुर, खरेरी, कनावर , मिलकपुर आदि हैं।





इन्हें भी देखेंसंपादित करें

सन्दर्भसंपादित करें