भूटान का प्राचीन इतिहास मिथकों के रूप में है। अनुमानतः भूटान की में 2,000 ईसापूर्व बस्तियाँ बसनीं शुरू हुईं। दन्थकाथाओं के अनुसार इस पर 7वीं शती ईसापूर्व में कूच बिहार के राजा का अधिकार था। किन्तु 9वीं शताब्दीं में यहाँ बौद्ध धर्म आने के पूर्व का इतिहास अधिकांशतः अज्ञात ही है। इस काल में तिब्बत में अशान्ति होने के कारण बहुत से बौद्ध भिक्षु यहाँ आ गये।

ट्रोंग्सा का दुर्ग

12वीं शताब्दी में स्थापित ड्रुक्पा कग्युपा सम्प्रदाय आज भी यहाँ का प्रमुख सम्प्रदाय है। इस देश का राजनीतिक इतिहास इसके धार्मिक इतिहास से निकट सम्बन्ध रखता है।

सत्रहवीं सदी के अन्त में भूटान ने बौद्ध धर्म को अंगीकार किया। 1865 मे ब्रिटेन और भूटान के बीच सिनचुलु संधि पर हस्ताक्षर हुआ, जिसके तहत भूटान को सीमावर्ती कुछ भूभाग के बदले कुछ वार्षिक अनुदान के करार किए गए। ब्रिटिश प्रभाव के तहत 1907 में वहाँ राजशाही की स्थापना हुई। तीन साल बाद एक और समझौता हुआ, जिसके तहत ब्रिटिश इस बात पर राजी हुए कि वे भूटान के आन्तरिक मामलों में हस्त्क्षेप नहीं करेंगे लेकिन भूटान की विदेश नीति इंग्लैंड द्वारा तय की जाएगी। बाद में 1947 के पश्चात यही भूमिका भारत को मिली। दो साल बाद 1949 में भारत भूटान समझौते के तहत भारत ने भूटान की वो सारी जमीन उसे लौटा दी जो अंग्रेजों के अधीन थी। इस समझौते के तहत भारत का भूटान की विदेश नीति एवं रक्षा नीति में काफी महत्वपूर्ण भूमिका दी गई।

औपचारिक लोकतन्त्रसंपादित करें

संविधानसंपादित करें

26 मार्च, 2005 को, "एक शुभ दिन जब सितारे और तत्व सद्भाव और सफलता का वातावरण बनाने के लिए अनुकूल रूप से एकत्रित होते हैं", राजा और सरकार ने देश के पहले संविधान का एक मसौदा वितरित किया, जिसमें अनुरोध किया गया कि प्रत्येक नागरिक इसकी समीक्षा करे। संसद का एक नया सदन, राष्ट्रीय परिषद, राजा द्वारा चुने गए व्यक्तियों में से प्रत्येक dzonghags के 20 निर्वाचित प्रतिनिधियों से मिलकर चार्टर्ड है। राष्ट्रीय परिषद को पहले से मौजूद दूसरे सदन, नेशनल असेम्बली के साथ जोड़ा जाएगा।

संविधान के अनुसार, जब तक राजा अपनी प्रतिबद्धता और राज्य और उसके लोगों के हितों की रक्षा करने की क्षमता का प्रदर्शन करेगा, तब तक राजशाही को सरकार की दिशा निर्धारित करने में नेतृत्व की भूमिका दी जाती है।

जिग्मे खेसर नामग्याल वांगचुकसंपादित करें

15 दिसम्बर, 2006 को, चौथे ड्रुक ग्यालपो, महामहिम जिग्मे सिंग्ये वांगचुक, ने अपने बेटे, राजकुमार जिग्मे खेसर नामग्याल वांगचुक को राजा के रूप में अपनी सभी शक्तियों को त्याग दिया, एक विशिष्ट इरादे से युवा राजा को देश के पूर्ण परिवर्तन के लिए तैयार करने के लिए। 2008 में होने वाली सरकार का विकसित, लोकतान्त्रिक स्वरूप।

अपने बेटे के पक्ष में पिछले राजा का त्याग मूल रूप से 2008 में भी होने वाला था, लेकिन एक स्पष्ट चिन्ता थी कि नए राजा को देश के सरकार के रूप में परिवर्तन की अध्यक्षता करने से पहले देश के नेता के रूप में अनुभव होना चाहिए। . राष्ट्रीय समाचार पत्र, कुएन्सेल के अनुसार, पिछले राजा ने अपने मन्त्रिमण्डल से कहा था कि "जब तक वह स्वयं राजा बने रहेंगे, क्राउन प्रिंस को मुद्दों से निपटने और एक प्रमुख की जिम्मेदारियों को निभाने का वास्तविक अनुभव प्राप्त नहीं होगा। राज्य। 2008 में संसदीय लोकतन्त्र की स्थापना के साथ, बहुत कुछ किया जाना था, इसलिए यह आवश्यक था कि उन्हें यह मूल्यवान अनुभव प्राप्त हो।"

सन्दर्भसंपादित करें

इन्हें भी देखेंसंपादित करें

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें