मुख्य मेनू खोलें

ये दिल्लगी

1994 की नरेश मल्होत्रा की फ़िल्म

ये दिल्लगी 1994 में बनी हिन्दी भाषा की नाटकीय प्रेमकहानी फ़िल्म है। इसका निर्माण उदय चोपड़ा द्वारा किया गया और निर्देशन नरेश मल्होत्रा का है। इस फिल्म में मुख्य भूमिकाओं में अक्षय कुमार, काजोल और सैफ अली खान हैं। यह इकलौती फिल्म है जिसमें काजोल और अक्षय ने एक साथ अभिनय किया था। इसे सैफ अली खान की पहली सफल फिल्म भी माना जाता है।[1]

ये दिल्लगी
ये दिल्लगी.jpg
ये दिल्लगी का पोस्टर
निर्देशक नरेश मल्होत्रा
निर्माता यश चोपड़ा
उदय चोपड़ा
लेखक सचिन भौमिक
अभिनेता अक्षय कुमार,
काजोल देवगन,
सैफ़ अली ख़ान,
संगीतकार दिलीप सेन-समीर सेन
वितरक यश राज फिल्म्स
प्रदर्शन तिथि(याँ) 6 मई 1994
समय सीमा 154 मिनट
देश भारत
भाषा हिन्दी

संक्षेपसंपादित करें

सैगल परिवार के ड्राइवर की पुत्री सपना (काजोल) साधारण सादगी भरी खुशनुमा लड़की है, लेकिन उसके सपने उतने सरल नहीं हैं। वह सैगल परिवार की समृद्ध और आरामदायक जीवन शैली को देखकर खुद समृद्ध होने का सपना देखती है।

विजय सैगल (अक्षय कुमार) और विकी सैगल (सैफ अली खान) सैगल इंडस्ट्रीज के उत्तराधिकारी हैं। विजय जो व्यवहार से अंतर्मुखी है पूरे सैगल परिवार के व्यवसाय को चलाता है। जबकि विकी एक गैर जिम्मेदार लड़कीबाज़ और एक सख्त इश्कबाज है। एक घटना उनके बीच घर्षण का कारण बनती है, जब विकी सपना को चोट पहुँचाता है और उसे उसकी हैसियत की याद दिलाता है।

सपना अपने छोटे शहर को छोड़कर बॉम्बे जाती है। सपनों के शहर में उसकी किस्मत उसका साथ देती है और सफलता उसे गले लगाती है। प्रतिभा और कड़ी मेहनत से वह देश की सबसे बड़ी मॉडल बन जाती है। यही वह समय है जब वह विकी क्र सपनों की लड़की बन जाती है। वह अपने अपमान का बदला लेने के लिए अपने शहर वापस जाती है।

बड़ा भाई विजय सपना की सादगी से आकर्षित हो जाता है और खुद को उसके प्यार में पाता है। दूसरी तरफ, विकी सपना की मोहकता से उसे पसंद करने लगता है और अपने इश्कबाज स्वभाव के विपरीत, खुद को ऐसे व्यक्ति में बदल लेता है जो सच्चे प्यार के अर्थ को समझता है।

इन तीन व्यक्तियों के बीच इस जटिल परिस्थिति में कहानी कैसे विकसित होती है, इस चीज पर फिल्म का निर्माण होता है। एक भाई प्यार के लिए अपना जीवन देने के लिए तैयार होता है और दूसरा अपने भाई के जीवन के लिए अपने प्यार को त्यागने के लिए तैयार होता है।

मुख्य कलाकारसंपादित करें

संगीतसंपादित करें

संगीतकार - दिलीप सेन - समीर सेन
गीतकार - समीर
# शीर्षक गायक अवधि
1 "देखो जरा देखो" लता मंगेश्कर, कुमार सानु 04:45
2 "गोरी कलाई" लता मंगेश्कर, उदित नारायण 05:15
3 "होंठों पे बस" लता मंगेश्कर, कुमार सानु 04:54
4 "लगी लगी ये दिल की लगी" लता मंगेश्कर, उदित नारायण, अभिजीत 04:21
5 "मैं दीवाना हूँ" पंकज उधास 05:07
6 "नाम क्या है" लता मंगेश्कर, कुमार सानु 03:28
7 "ओले ओले" अभिजीत 04:32
8 "डांस म्यूज़िक" वाद्य संगीत 01:05

नामांकन और पुरस्कारसंपादित करें

सन्दर्भसंपादित करें

  1. "हैप्पी बर्थडे सैफ अली खान: बॉक्स ऑफिस पर असफल हुई थी पहली फिल्म, 'ये दिल्लगी' से मिली पहचान". जनसत्ता. अभिगमन तिथि 6 जुलाई 2018.

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें