लद्दाख़ी (तिब्बती भाषा : ལ་དྭགས་སྐད་, Wylie: La-dwags skad) भारत के लद्दाख क्षेत्र के लेह जिले की प्रमुख भाषा है। इसे भोटी भी कहते हैं। यह तिब्बती परिवार की भाषा है किन्तु मानक तिब्बती तथा लद्दाखी जानने वाले एक दूसरे को नहीं समझ सकते।

Ladakhi
ལ་དྭགས་ཀྱི་སྐད།
Ladaks Skat
बोलने का  स्थान India, Nepal, China, Pakistan
तिथि / काल 2000–2001
क्षेत्र Ladakh (Leh and Kargil districts of Jammu & Kashmir), Baltistan
मातृभाषी वक्ता 1,30,000
भाषा परिवार
लिपि Tibetan script
भाषा कोड
आइएसओ 639-3 इनमें से एक:
lbj – Ladakhi
zau – [[Zangskari]]

लद्दाख़ के गान्चे क्षेत्र में तिब्बती मूल के बलती व लद्दाख़ी लोग रहते हैं। सांस्कृतिक रूप से यह भारत के लद्दाख़ क्षेत्र का भाग है, हालांकि यहाँ के अधिकतर लोग धार्मिक दृष्टि से मुस्लिम हैं। यहाँ अधिकतर बलती भाषा बोली जाती है जो लद्दाख़ी भाषा के क़रीब है और अक्सर तिब्बती भाषा की उपभाषा समझी जाती है।[1]

सन्दर्भसंपादित करें

  1. Anna Akasoy, Charles S. F. Burnett, Ronit Yoeli-Tlalim (2011). Islam and Tibet: Interactions Along the Musk Routes. Ashgate Publishing, Ltd. पृ॰ 353. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0-7546-6956-2.सीएस1 रखरखाव: एक से अधिक नाम: authors list (link)

इन्हें भी देखेंसंपादित करें

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें