विकिपीडिया:आम सहमति

Nutshell.png इस लेख का सार: संपादकीय निर्णय लेने के लिए आम सहमति विकिपीडिया का मौलिक मॉडल है, और विकिपीडिया नीतियों का पालन करते हुए समझौता की प्रक्रिया के माध्यम से संपादकों द्वारा रखी गई वैध चिंताओं को संबोधित करके चिह्नित किया जाता है।

विकिपीडिया पर निर्णय मुख्य रूप से सर्वसम्मति से किए जाते हैं, जिसे विकिपीडिया के लक्ष्यों को, अर्थात पाँच स्तंभ को, प्राप्त करने के लिए सर्वोत्तम विधि के रूप में स्वीकार किया जाता है। विकिपीडिया पर आम सहमति का अर्थ एकमत नहीं है (जो आदर्श है लेकिन हमेशा प्राप्त हो नहीं पाता), न ही यह एक वोट का परिणाम है। निर्णय लेने और आम सहमति तक पहुँचने में विकिपीडिया की नीतियों और दिशानिर्देशों का सम्मान करते हुए सभी संपादकों की वैध चिंताओं को शामिल करने का प्रयास शामिल है।

यह नीति बताती है कि विकिपीडिया पर सर्वसम्मति को कैसे समझा जाता है, यह कैसे निर्धारित किया जाता है कि सर्वसम्मति हासिल हुई है या नहीं (और अगर नहीं हुई है तो कैसे आगे बढ़ें), और इस सिद्धांत के अपवादों का वर्णन करती है कि सभी निर्णय सर्वसम्मति से किए जाते हैं।

आम सहमति हासिल करनासंपादित करें

संपादक आमतौर पर प्राकृतिक रूप से आम सहमति तक पहुंचते हैं। किसी एक सदस्य द्वारा कोई पृष्ठ में बदलाव करने के बाद, उसे पढ़ने वाले अन्य लोग यह निर्णय ले सकते हैं कि आगे संपादन करना है या नहीं। जब सम्पादक सम्पादन द्वारा सहमति पर नहीं पहुँचते हैं, तो सम्बद्ध वार्ता पृष्ठों पर चर्चा सर्वसम्मति की ओर पहुंचने का प्रयास जारी रखती है।

एक आम सहमति से बनाया निर्णय संपादकों द्वारा उठाई गई सभी उचित चिंताओं को ध्यान में रखकर बनाया जाता है। आदर्श रूप से, यह आपत्तियों की अनुपस्थिति के साथ आता है, लेकिन अक्सर हमें जितना हो सके उतना व्यापक समझौता करना चाहिए। जब कोई व्यापक समझौता नहीं होता है, तो सर्वसम्मति-निर्माण में प्रारंभिक प्रस्ताव को स्वीकार करने वालों को खोए बिना असंतुष्टों को शामिल करने के प्रस्ताव को अपनाना शामिल है।

संपादन के माध्यम सेसंपादित करें

 
सर्वसम्मति कैसे प्राप्त की जाती है इसका एक सरल आरेख। जब कोई संपादन किया जाता है, तो अन्य संपादक या तो इसे स्वीकार कर सकते हैं, इसे बदल सकते हैं या इसे पूर्ववत कर सकते हैं। एक समझौता की तलाश का अर्थ है "एक आम तौर पर स्वीकार्य समाधान खोजने का प्रयास", या तो निरंतर संपादन के माध्यम से या चर्चा के माध्यम से।

विकिपीडिया सर्वसम्मति आमतौर पर परोक्ष रूप से होती है। एक संपादन ने आम सहमति मान ली है जब तक कि यह विवादित या पूर्ववत न हो। यदि कोई अन्य संपादक उस संपादन को संशोधित करता है तो नए संपादन को तब तक सर्वसम्मति माना जाएगा जब तक कि उस पर कोई असहमति न व्यक्त करे। इस तरह समय के साथ ज्ञानकोश में धीरे-धीरे सुधार होता है।

सभी संपादनों की व्याख्या की जानी चाहिए (जब तक कि उनका कारण बिल्कुल स्पष्ट न हो)—या तो स्पष्ट संपादन सारांशों द्वारा, या संबद्ध वार्ता पृष्ठ पर चर्चा द्वारा। सारगर्भित, सूचनात्मक स्पष्टीकरण से संकेत मिलता है कि आम सहमति तक पहुंचने के लिए बाद के प्रयासों में किन मुद्दों को संबोधित करने की आवश्यकता है। किसी अन्य संपादक के सद्भावना पूर्वक किए कार्य को पूर्ववत करते समय स्पष्टीकरण विशेष रूप से महत्वपूर्ण होते हैं।

सामग्री नीतियों या दिशानिर्देशों से प्रभावित मामलों को छोड़कर, सामग्री पर अधिकांश विवादों को सभी–या–कुछ नहीं की स्थिति में लाने के बजाय मामूली परिवर्तनों के माध्यम से हल किया जा सकता है। यदि आपका पहला संपादन पूर्ववत किया गया है, तो एक समझौता संपादन के बारे में सोचने का प्रयास करें जो दूसरे संपादक की चिंताओं को भी संबोधित करता है। यदि आप नहीं कर सकते हैं, या यदि आप करते हैं और आपका दूसरा संपादन भी वापस कर दिया जाता है, तो विवाद पर चर्चा करने के लिए संबंधित वार्ता पृष्ठ पर एक नया अनुभाग बनाएं।

निर्भीक बनो, लेकिन लापरवाह नहीं। परिवर्तन चाहे संपादन के माध्यम से आए या चर्चा के माध्यम से, ज्ञानकोश में सहयोग और आम सहमति के माध्यम से सबसे अच्छा सुधार किया जाता है, न कि युद्ध और समर्पण के माध्यम से। विशिष्ट नीति-आधारित सामग्री (जैसे जीवित व्यक्तियों की जीवनी पर अपवाद) और बर्बरता के प्रत्यावर्तन को छोड़कर, बार-बार पूर्ववत करना संपादन युद्ध नीति के तहत विकिपीडिया नीति के विपरीत है। संपादन सारांश उपयोगी हैं, लेकिन कई संपादन सारांशों में विवादों पर चर्चा करने का प्रयास न करें; इसे आम तौर पर संपादन युद्ध के रूप में देखा जाता है और उस कारण आप पर प्रतिबंध लग सकते हैं।

चर्चा के माध्यम सेसंपादित करें

जब अकेले संपादन के माध्यम से समझौता नहीं किया जा सकता है, तो आम सहमति बनाने की प्रक्रिया अधिक स्पष्ट हो जाती है: संपादक संबंधित वार्ता पृष्ठ पर एक अनुभाग खोलते हैं और नीति, स्रोतों, और सामान्य ज्ञान के आधार पर कारणों का उपयोग करके चर्चा के माध्यम से विवाद को हल करने का प्रयास करते हैं; वे वैकल्पिक समाधान या समझौता भी सुझा सकते हैं जो सभी चिंताओं को संतुष्ट कर सकता हो। परिणाम एक समझौता हो सकता है जो किसी को पूरी तरह से संतुष्ट नहीं करता है, लेकिन उसे सभी एक उचित समाधान के रूप में स्वीकार कर सकते हैं। विकिपीडिया पर आम सहमति एक सतत प्रक्रिया है; किसी विशेष पसंदीदा संस्करण को तुरंत लागू करने के लिए संघर्ष करने की तुलना में पूर्ण-से-कुछ कम समझौता स्वीकार करना अक्सर बेहतर होता है — ये समझते हुए कि पृष्ठ में धीरे-धीरे सुधार हो रहा है।

सर्वसम्मति बनानासंपादित करें

एक तटस्थ, असम्बंधित और सभ्य रवैया बनाए रखने वाले संपादक आमतौर पर ऊपर वर्णित प्रक्रिया के माध्यम से एक लेख पर आम सहमति तक पहुंच सकते हैं। वे फिर भी कभी-कभी खुद को गतिरोध में पा सकते हैं, या तो इसलिये क्योंकि वे किसी विवाद को निपटाने के लिए तर्कसंगत आधार नहीं खोज पाते हैं या इसलिये क्योंकि चर्चा के एक या दोनों पक्ष भावनात्मक रूप से या वैचारिक रूप से किसी तर्क को जीतने पर केंद्रित हो जाते हैं। इस स्थिति में ये किया जा सकता है कि कई औपचारिक और अनौपचारिक प्रक्रियाओं के विवरण के साथ-साथ कठिन विवाद को हल करने के लिए सुझाव दिए जाएं जो वहां मदद कर सकते हैं।

वार्तापृष्ठों मेंसंपादित करें

सर्वसम्मति का निर्धारण करने में, तर्कों की गुणवत्ता, उनके बारे में इतिहास, असहमत लोगों की आपत्तियों और मौजूदा नीतियों और दिशानिर्देशों पर विचार करें। किसी तर्क की गुणवत्ता इस बात से अधिक महत्वपूर्ण है कि वह अल्पसंख्यक दृष्टिकोण का प्रतिनिधित्व करती है या बहुसंख्यक दृष्टिकोण का। ऐसे तर्क कि "मुझे बस ये पसंद नहीं" और "मुझे बस ये पसंद है" आमतौर पर कोई विशेष मदद नहीं करते हैं।

लेख के वार्ता पृष्ठ पर चर्चा को स्रोतों, लेख और नीति की चर्चा तक सीमित रखें। यदि किसी संपादन को चुनौती दी जाती है, या चुनौती दिए जाने की संभावना है, तो संपादकों को वार्ता पृष्ठों का उपयोग यह समझाने के लिए करना चाहिए कि क्यों कुछ जोड़ने, परिवर्तन करने, या हटाने से लेख में, और फलस्वरूप ज्ञानकोश में, सुधार होता है। यदि कोई संपादक किसी परिवर्तन पर आपत्ति नहीं करता है तो सहमति मानी जा सकती है। संपादक जो वार्ता पृष्ठ चर्चाओं को अनदेखा करते हैं, फिर भी विवादित सामग्री को संपादित करना या पूर्ववत करना जारी रखते हैं, या जो चर्चाओं में बाधा डालते हैं, वे विघटनकारी संपादन के दोषी हो सकते हैं और प्रतिबंध लगवा सकते हैं। सर्वसम्मति को हमेशा केवल इसलिए नहीं माना जा सकता है क्योंकि संपादक उन वार्ता पृष्ठ चर्चाओं का जवाब देना बंद कर देते हैं जिनमें वे पहले भाग ले चुके हैं।

आम सहमति बनाने वाली चर्चा का लक्ष्य विवादों को इस तरह से सुलझाना है जो विकिपीडिया के लक्ष्यों और नीतियों को दर्शाता हो और जितना संभव हो उतने कम संपादक उससे नाराज़ हों। अच्छे सामाजिक कौशल और अच्छे समझोता कौशल वाले संपादकों के सफल होने की संभावना अधिक होती है।

सामान्य गलतियाँसंपादित करें

आम सहमति बनाने की कोशिश करते समय संपादकों द्वारा की जाने वाली सामान्य गलतियाँ निम्नलिखित हैं:

  • ऑफ-विकी चर्चाएं: ऑन-विकी चर्चा या संपादन के माध्यम से सहमति प्राप्त की जाती है। अन्यत्र चर्चाओं पर ध्यान नहीं दिया जाता है। कुछ मामलों में, इस तरह के ऑफ-विकी संचार से संदेह और अविश्वास पैदा हो सकता है।
  • प्रचार और कठपुतली: किसी समुदायिक चर्चा में प्रतिभागियों को इकट्ठा करने का कोई भी प्रयास, जिससे उस चर्चा को पूर्वाग्रहित करने का प्रभाव हो, अस्वीकार्य है। हालांकि यह ठीक है - प्रोत्साहित भी - कि नई अंतर्दृष्टि और तर्क प्राप्त करने के लिए लोगों को चर्चा में आमंत्रित किया जाए, लेकिन केवल एक विशेष दृष्टिकोण के अनुकूल लोगों को आमंत्रित करना, या लोगों को इस तरह से आमंत्रित करना जो उनकी राय को पूर्वाग्रहित करे, स्वीकार्य नहीं है। आम सहमति को प्रभावित करने के लिए एक वैकल्पिक व्यक्तित्व ("कठपुतली") का उपयोग करना बिल्कुल मना है। विकिपीडिया के सूचनापट, विकिपरियोजना, या संपादकों को तटस्थ, सूचनात्मक संदेश भेजने की अनुमति है; लेकिन ऐसी कार्रवाई जिन्हें उचित रूप से "मतदान पेटी भरने" के प्रयास के रूप में व्याख्यायित किया जा सकता है या अन्यथा आम सहमति-निर्माण प्रक्रिया में बाधा कर सकता है, उन्हें विघटनकारी माना जाता है।
  • साभिप्राय संपादन: एक संपादकीय लक्ष्य की निरंतर, आक्रामक खोज को विघटनकारी माना जाता है, और इससे बचा जाना चाहिए। एक बेहतर लेख बनाने के लिए संपादकों को सुनना, जवाब देना और सहयोग करना चाहिए। संपादक जो किसी अन्य आम सहमति को (सिवाय उस के जिस पर वे जोर देते हैं) अनुमति देने से इनकार करते हैं, और उस लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए अनिश्चित काल तक बाधा पहुंचाते हैं, वे आम सहमति प्रक्रिया को नुकसान पहुंचाते हैं।
  • मंच की खरीदारी, प्रबंधक की खरीदारी, और स्पिन-डॉक्टरिंग: विशेष रूप से एक ही मुद्दे को कई सूचनापटों और वार्ता पृष्ठों पर, या कई प्रबंधकों या समीक्षकों, या इनमें से किसी एक को भी, बार-बार उठाना, आम सहमति खोजने और प्राप्त करने के लिए अनुपयोगी है। अलग-अलग मंचों को इस उद्देश्य से आज़माने के लिए कि यहां आपको मनचाहा जवाब मिल सकता है, आम सहमति विकसित करने में मदद नहीं करता है। सूचनापटों और वार्ता पृष्ठों पर रखे गए प्रश्नों के उत्तर को यथासंभव तटस्थ रूप से अतिरिक्त राय प्रदान करने के लिए वाक्यांशबद्ध किया जाना चाहिए। जहां कई मुद्दे मौजूद हैं, तो अलग-अलग मुद्दों को उचित पृष्ठों पर उठाना सही हो सकता है, लेकिन इस स्थिति में, सामान्य रूप से, यह दिखाने के लिए कड़ी देना सबसे अच्छा है कि आपने और कहां यह सवाल उठाया है।

सर्वसम्मति का निर्धारणसंपादित करें

विकिपीडिया नीतियों को मध्यनज़र रखते हुए किसी मुद्दे के विभिन्न पक्षों पर दिए गए तर्कों की गुणवत्ता से सहमति का पता लगाया जाता है।

आम सहमति के स्तरसंपादित करें

संपादकों के एक सीमित समूह के बीच एक स्थान और समय पर सहमति बनाना, व्यापक पैमाने पर सामुदायिक सहमति को ओवरराइड नहीं कर सकता। उदाहरण के लिए, जब तक वे व्यापक समुदाय को यह विश्वास नहीं दिला सकते कि ऐसी कोई कार्रवाई सही है, किसी विकिपरियोजना के प्रतिभागी यह तय नहीं कर सकते कि कुछ आम तौर पर स्वीकृत नीति या दिशानिर्देश इस विकिपरियोजना के दायरे वाले लेखों पर लागू नहीं होते हैं। विकिपरियोजनाओं के सलाह पृष्ठ, सहायता और सूचना पृष्ठ, और साँचे दस्तावेज़ीकरण पृष्ठ समुदाय द्वारा नीति और दिशानिर्देश प्रस्ताव प्रक्रिया के माध्यम से औपचारिक रूप से अनुमोदित नहीं किए गए हैं, इस कारण से ये एक निबंध से अधिक कुछ नहीं हैं।

विकिपीडिया में नीतियों और दिशानिर्देशों में बदलाव के लिए भागीदारी और आम सहमति के लिए एक मानक है। उनकी स्थिरता और निरंतरता समुदाय के लिए महत्वपूर्ण है। तदनुसार, संपादक अक्सर परिवर्तन को लागू करने से पूर्व चर्चा शुरू करने के लिए पहले वार्ता पृष्ठ पर महत्वपूर्ण परिवर्तनों का प्रस्ताव रखते हैं। नीति के पन्नों पर बड़े बदलावों का शायद ही कभी स्वागत किया जाता है। नीति में सुधार धीरे-धीरे और रूढ़िवादी तरीके से, दूसरों से इनपुट और सहमति प्राप्त करने के सक्रिय प्रयासों के साथ करना सबसे अच्छा होता है।

कोई सहमति नहींसंपादित करें

चर्चाओं के परिणामस्वरूप कभी-कभी कोई कार्रवाई करने या न करने की सहमति नहीं बनती है। आगे क्या होता है यह संदर्भ पर निर्भर करता है:

  • लेखों, मीडिया, या अन्य पृष्ठों को हटाने के प्रस्तावों की चर्चा में, आम सहमति की कमी के परिणामस्वरूप सामग्री को सामान्यतः रखा जाता है।
  • लेखों में सामग्री को जोड़ने, संशोधित करने या हटाने के प्रस्तावों की चर्चा में, आम सहमति की कमी आमतौर पर लेख के संस्करण को बनाए रखने का परिणाम देती है क्योंकि यह संस्करण प्रस्ताव या निर्भीक संपादन से पहले ही बना था। हालांकि:
    • जीवित लोगों से संबंधित चर्चाओं में, सर्वसम्मति की कमी के परिणामस्वरूप अक्सर विवादास्पद सामग्री को हटा दिया जाता है, भले ही प्रस्ताव इसे जोड़ने, संशोधित करने या हटाने का था या नहीं।
    • बाहरी कड़ियों पर विवादों में, विवादित लिंक तब तक हटा दिए जाते हैं जब तक कि उन्हें शामिल करने के लिए आम सहमति न हो।
  • लेख के शीर्षक की चर्चाओं में, आम सहमति की कमी की स्थिति में लागू नीति सबसे हाल के पूर्व स्थिर शीर्षक को बरकरार रखती है। यदि कोई पूर्व स्थिर शीर्षक नहीं है, तो डिफ़ॉल्ट शीर्षक वह शीर्षक होगा जिसका उपयोग लेख के आधार-रूप से विस्तारीत होने के बाद प्रथम प्रमुख योगदानकर्ता द्वारा रखा गया था।

आम सहमति बदल सकती हैसंपादित करें

संपादक वर्तमान सर्वसम्मति में बदलाव का प्रस्ताव रख सकते हैं, विशेष रूप से पहले के अविचारित तर्कों या परिस्थितियों को उठाने के लिए। वहीं दूसरी ओर, हाल ही में स्थापित सर्वसम्मति को बदलने का प्रस्ताव विघटनकारी हो सकता है।

संपादक चर्चा या संपादन द्वारा आम सहमति परिवर्तन का प्रस्ताव रख सकते हैं। हालांकि, ज्यादातर मामलों में, एक संपादक अगर ये जानते हैं कि प्रस्तावित परिवर्तन पिछली चर्चा द्वारा हल किए गए मामले को संशोधित करेगा, तो उस परिवर्तन को चर्चा द्वारा प्रस्तावित करना चाहिए। संपादक जो किसी संपादन द्वारा प्रस्तावित परिवर्तन को पूर्ववत् करते हैं, उन्हें आम तौर पर ऐसी संक्षिप्त व्याख्याओं से बचना चाहिए (जैसे "आम सहमति के विरुद्ध") जो परिवर्तन प्रस्तावित करने वाले संपादक को कम मार्गदर्शन प्रदान करते हैं (या, यदि आप इस तरह की संक्षिप्त व्याख्याओं का उपयोग करते हैं, तो इसके लिए उस चर्चा की एक कड़ी भी शामिल करना सहायक होता है जहां सर्वसम्मति बनाई गई थी)।

निर्णय जो संपादकों की सहमति के अधीन नहींसंपादित करें

विकिमीडिया फाउंडेशन (WMF) और इसके अधिकारियों द्वारा बनाई गई कुछ नीतियां और निर्णय संपादकों की सहमति के दायरे से बाहर हैं। यह एक विस्तृत सूची नहीं है, बस यह याद दिलाता है कि इस परियोजना के तहत लिए गए निर्णय केवल हिंदी विकिपीडिया के स्वशासी समुदाय के कामकाज पर लागू होते हैं।

  • WMF का विकिपीडिया पर कानूनी नियंत्रण और दायित्व है। WMF बोर्ड के निर्णय, नियम और कार्य और इसके विधिवत रूप से नियुक्त किए गए अभिकर्ता सर्वसम्मति पर पूर्वता लेते हैं। संपादकों के बीच इस विषय में आम सहमति कि ऐसा कोई निर्णय, नियम, या कार्य विकिमीडिया फाउंडेशन की नीतियों का उल्लंघन करता है, WMF को लिखित रूप में सूचित किया जा सकता है।
  • कार्यालय की कार्रवाइयों को संपादकों द्वारा, स्पष्ट रूप से कार्यालय की अनुमति के बिना, पूर्ववत करने की अनुमति नहीं है।
  • कुछ मामले जो हिंदी भाषा के विकिपीडिया ( hi.wikipedia.org ) पर समुदाय की सहमति के अधीन लग सकते हैं, वे एक अलग डोमेन में हैं। विशेष रूप से, मीडियाविकि सॉफ्टवेयर डेवलपर्स का समुदाय, जिसमें दोनों शामिल हैं: विकिमीडिया फाउंडेशन के पेड कर्मचारी और स्वयंसेवक, और बन्धु प्रकल्प, काफी हद तक अलग-अलग परियोजनाएं हैं। ये स्वतंत्र, सह-समान समुदाय अपने अनुसार काम करते हैं जिस तरह वे आवश्यक या उपयुक्त समझते हैं, उदाहरण के लिए सॉफ़्टवेयर सुविधाओं को जोड़ना, हटाना या बदलना या कोई संपादन स्वीकार करना या हटाना(देखें meta:Limits to configuration changes), या कुछ योगदानों को स्वीकार या अस्वीकार करना, भले ही उनके कार्यों का यहां संपादकों द्वारा समर्थन न किया गया हो।