सभ्यता द्वार (English: Sabhyata Dwar) भारतीय राज्य बिहार में पटना शहर में गंगा नदी के तट पर स्थित एक बलुआ पत्थर आर्क स्मारक है। सभ्यता द्वार को मौर्य-शैली वास्तुकला के साथ बनाया गया है जिसमें बिहार राज्य की पाटलिपुत्र और परंपराओं और संस्कृति की प्राचीन महिमा दिखाने के उद्देश्य से बनाया गया है। सभ्यता द्वार का निर्माण राजस्थान से रेड एंड वाइट सैंड स्टोन मगाकर किया गया है।[1] भवन निर्माण विभाग ने सभ्यता द्वार के आसपास काफी खूबसूरत गार्डेन बनाया है। गार्डेन भी पर्यटकों को अपनी तरफ आकर्षित कर रहा है। मुंबई के गेटवे ऑफ इंडिया, नई दिल्ली का इंडिया गेट और फतेहपुर सीकरी के बुलंद दरवाजा की श्रृंखला में ही यह सभ्यता द्वार भी है।[2] पटना का लैंडमार्क सभ्यता द्वार पर बिहार से जुड़े चार महापुरुषों के सदेशों को लिखा गया है। बौद्ध धर्म के प्रवर्तक महात्मा बुद्ध, जैन धर्म के 24वें तीर्थकर भगवान महावीर, सम्राट अशोक, मेगस्थनीज की वाणी पर्यटकों को अपनी तरफ आकर्षित कर रही है। सीएम नीतीश कुमार ने 20 May 2018 को गांधी मैदान के पास स्थित सम्राट अशोक कन्वेंशन सेंटर कैंपस में सभ्यता द्वार का लोकार्पण किया।[3]

सभ्यता द्वार
Sabhyatadwarpatna.png
Sabhyata Dwar
सभ्यता द्वार is located in पटना
सभ्यता द्वार
पटना में अवस्थिति
सभ्यता द्वार is located in बिहार
सभ्यता द्वार
सभ्यता द्वार (बिहार)
सभ्यता द्वार is located in भारत
सभ्यता द्वार
सभ्यता द्वार (भारत)
अन्य नाम Civilization Gate
सामान्य विवरण
प्रकार Triumphal arch
वास्तुकला शैली Indo-Saracenic
स्थान Patna, Bihar
निर्देशांक 25°36′N 85°06′E / 25.6°N 85.1°E / 25.6; 85.1निर्देशांक: 25°36′N 85°06′E / 25.6°N 85.1°E / 25.6; 85.1
अवनती 10 मी॰ (33 फीट)
निर्माणकार्य शुरू 20 May 2016
निर्माण सम्पन्न 2018
उद्घाटन 20 May 2018
लागत 50 million (2018)
ऊँचाई 32 मी॰ (105 फीट)
प्राविधिक विवरण
व्यास 15 मीटर (49 फीट)

इन्हें भी देखेंसंपादित करें

सन्दर्भसंपादित करें

  1. "पटना का लैंडमार्क : हरियाली और रोशनी के साथ पटनावासी करेंगे 'सभ्यता द्वार' का दीदार". मूल से 23 मई 2018 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 22 मई 2018.
  2. "सीएम नीतीश ने किया सभ्यता द्वार का लोकार्पण, कहा- बिहार का रहा है गौरवशाली इतिहास". मूल से 23 मई 2018 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 22 मई 2018.
  3. "इंडिया गेट की तरह बिहार में 'सभ्यता द्वार', सीएम नीतीश कुमार ने किया उद्घाटन". मूल से 23 मई 2018 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 22 मई 2018.

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें