सेंट जेम्स का महल (अंग्रेज़ी: St James's Palace) यूनाइटेड किंगडम की साम्राज्ञी का आधिकारिक निवास स्थान है। विभिन्न शाही निवास के महलों में यह बेहद प्रमुख और वरिष्ठ है। सिटी ऑफ़ वेस्टमिंस्टर में अवस्थित यह महल फिलहाल साम्राज्ञी का वास्तविक निवास स्थल तो नहीं है लेकिन ब्रिटिश शाही परिवार और उत्तराधिकार निर्धारण समिति के प्रमुख मिलन स्थलों में से एक है।

सेंट जेम्स का महल
St james palace.jpg
सेंट जेम्स के महल का मुख्य द्वार, पाल माल
स्थानसिटी ऑफ़ वेस्टमिंस्टर, लंदन, इंग्लैंड, यूनाइटेड किंगडम
निर्माण1531-1536
वास्तुशैलीट्यूडर वास्तुकला
सेंट जेम्स पैलेस is located in मध्य लंदन
सेंट जेम्स पैलेस
केंद्रीय लंदन में सेंट जेम्स के महल की अवस्थिति

एक अस्पताल की भूमि पर इंग्लैंड के हेनरी अष्टम द्वारा बनवाया गया यह महल संत जेम्स द लेस को समर्पित था। ट्यूडर और स्टुअर्ट शासन के दौरान व्हाइटहाल का महल के बाद यह दूसरा सबसे प्रमुख महल और शाही निवास था। इस महल का महत्व हैनोवर सम्राटों के शासनकाल के काल में बढा लेकिन एक बार फिर बकिंघम पैलेस के हाथों अठ्ठारहवीं और उन्नीसवीं शताब्दी में अपना प्रमुख स्थान गवाँ बैठा। दशकों तक मात्र आधिकारिक और औपचारिक अवसरों पर इस्तेमाल होने के बाद १८३७ ई. में महारानी विक्टोरिया ने इसे आधिकारिक रूप से इन्हीं कार्यों के लिये अधिकृत कर दिया। आज ये तमाम शाही कार्यालयों के लिये इस्तेमाल होता है।

इतिहाससंपादित करें

ट्यूडरसंपादित करें

एक अस्पताल की भूमि पर इंग्लैंड के हेनरी अष्टम द्वारा बनवाया गया यह महल संत जेम्स द लेस को समर्पित था। [n 1] नया महल जो हेनरी के प्रिय व्हाइटहाल महल के बाद दूसरे क्रम पर आता था, का सन 1531 और 1536 के मध्य एक छोटे घर के रूप में निर्माण कराया गया था ताकि प्रतिदिन के दरबारी कार्यों से पृथक समय बिताया जा सके।[2] यह पास ही के व्हाइटहाल महल से आकार में छोटा था। इसे तमाम दरबारों, सरकारी कार्यालयों, राजदूतों के आवासों व कार्यालयों के इर्द-गिर्द बनाया गया था। इसकी सबसे प्रमुख विशेषता इसका उत्तरी द्वार है; जो एक चार मंज़िला इमारत है और जिसके दोनों ओर अष्टभुजी मीनारें हैं। इसके उपरी तल पर एक बड़ी घड़ी लगी हुई है। इस विशालकाय दीवाल घड़ी को बाद के वर्षों में सन् 1731 में लगाया गया था।[3] इस पर हेनरी और उसकी दूसरी पत्नी एन के नामों के प्रथमाक्षर H.A. मुद्रित हैं। हेनरी ने इस महल को लाल ईंटों से बनवाया था।[2]

महल का रंगरूप सन् 1544 में दोबारा बदला गया। इसकी छतों को शाही चित्रकार हैन्स होल्बाईन द्वारा रंगा गया। इसे मनमोहक शाही भवन ("pleasant royal house") की संज्ञा दी गई।[4] हेनरी अष्टम के दो बच्चों हेनरी फित्ज़रॉय, रिचमंड और सोमरसेट का पहला ड्यूक[5] और मैरी प्रथम[6] की सेंट जेम्स में मृत्यु हुई थी। एलिज़ाबेथ प्रथम अक्सर इस महल में रहा करती थीं और कहा जाता है कि स्पेनी अर्माडा के इंग्लिश चैनल पार करने से पहले की रात उन्होंने यहीं इंतजार में बितायी थीं। [4]

स्टुअर्टसंपादित करें

 
सेंट जेम्स का महल, बायें, और द माल, 1715
 
भावी शासक जॉर्ज पंचम का विवाह, राजकुमारी मैरी से। संत जेम्स पैलेस के शाही चैपल में।

1638 में चार्ल्स प्रथम ने यह महल अपनी सास मैरी डी मेडिसि को दे दिया। मैरी यहाँ तीन वर्षों तक रहीं लेकिन एक कैथोलिक पूर्व रानी का यहाँ रहना संसद को पसंद नहीं आया और उन्हें जल्द ही यह महल छोड़कर कोलोग्न चले जाने को कहा गया। चार्ल्स प्रथम ने अपनी घोषित मृत्यु से पहले की अपनी रात सेंट जेम्स में ही बितायी थी।[1] ओलिवर क्रॉमवेल ने इसके बाद इसे अंग्रेजी राष्ट्रकुल के दौरान सैन्य छावनी में बदल दिया। चार्ल्स द्वितीय, जेम्स द्वितीय, मैरी द्वितीय और ऐन इन सभी का जन्म इसी महल में हुआ था। [1]

राष्ट्रकुल की समाप्ति के बाद महल को चार्ल्स द्वितीय द्वारा पुन:स्थापित करवाया गया। उसी वक्त सेंट जेम्स उद्यान का निर्माण भी करवाया गया। 1698 में व्हाइटहाल महल के आग में नष्ट हो जाने के बाद विलियम और मैरी के शासनकाल में यह इंग्लैंड के महाराज का प्रमुख शाही निवास व प्रशासनिक भवन बन चुका था। शाही प्रशासनिक भवन की जिम्मेदारी यह महल अभी भी निभा रहा है।

बीसवीं शताब्दीसंपादित करें

12 जून 1941 को यूनाईटेड किंगडम, कनाडा, ऑस्ट्रेलिया, न्यूज़ीलैंड, दक्षिण अफ्रीकी यूनियन के प्रतिनिधियों और बेल्जियम, चेकोस्लोवाकिया, यूनान, लक्ज़मबर्ग, नीदरलैंड, नॉर्वे, पोलैंड और युगोस्लाविया की निर्वासित सरकारों के प्रतिनिधियों व फ्रांस के जनरल डी गॉल ने यहाँ सेंट जेम्स में मुलाकात की और सेंट जेम्स का घोषणापत्र पर हस्ताक्षर किया। यह संधि संयुक्त राष्ट्र व उसके अधिकारपत्र के निर्माण के लिये हस्ताक्षरित छ: संधियों में से पहली थी।[7]

इन्हें भी देखेंसंपादित करें

टिप्पणीसंपादित करें

  1. The uncertainty as to which Saint James was intended is expressed in the 1874 work Old and New London, where the author refers to the dedication as to "St. James the Less, Bishop of Jerusalem". James the Just, brother of Jesus, was referred to as Bishop of Jerusalem, not James the Less[1]

सन्दर्भसंपादित करें

  1. एडवर्ड वाल्फोर्ड (1878). "St James's Palace". Old and New London: Volume 4. Institute of Historical Research. मूल से 18 अक्तूबर 2014 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 10 अक्टूबर 2014.
  2. वैग्नर, जॉन; वाल्टर्स स्क्मिड, सूजन (2011). Encyclopedia of Tudor England. कैलिफोर्निया: एबीसी क्लिओ. पपृ॰ 1054–1055. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 1598842994.
  3. British History online Chapter IX: St Ja,es's Palace Archived 2014-10-21 at the Wayback Machine Access date 15 October 2014
  4. पेरी, मारिया (1999). The Word of a Prince: A Life of Elizabeth I from Contemporary Documents. सफॉक, यूके: बॉयडेल प्रेस. पृ॰ 15. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0851156339.
  5. "St James's Palace: History". The British Monarchy. n.d. मूल से 9 मार्च 2009 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 10 October 2014.
  6. Wheatley, H.; Cunningham, P (2011) [1891]. London Past and Present: Its History, Associations, and Traditions. Cambridge, UK: Cambridge University Press. पपृ॰ 285–287. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 1108028071.
  7. "History of the UN Charter - History of the United Nations". यूएन.ऑर्ग. मूल से 13 नवंबर 2015 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि ३०-११-२०१५. |accessdate= में तिथि प्राचल का मान जाँचें (मदद)