स्टुअर्ट घराना, मूल नाम:स्टीवर्ट, स्कॉटलैंड, इंग्लैंड, आयरलैंड और बाद में ग्रेट ब्रिटेन का एक शाही घर था, जिसमें ब्रिटनी के साथ ऐतिहासिक संबंध थे।.[1] परिवार का नाम स्वयं स्कॉटलैंड के हाई स्टीवर्ड के कार्यालय से आता है, जो परिवार के स्कोनियन वाल्टर फिट्ज़ एलन (1150) के पास था। "स्टीवर्ट" और विविधताएं नाम उनके पोते, वाल्टर स्टीवर्ट के समय तक एक पारिवारिक नाम के रूप में स्थापित हो गए थे। स्टीवर्ट लाइन के पहले राजा रॉबर्ट द्वितीय थे जिनके वंशज 1371 में स्कॉटलैंड के राजा और रानी थे, जब तक कि 1707 में इंग्लैंड के साथ संघ नहीं बन गया। मैरी, स्कोट्स की रानी को फ्रांस में लाया गया था जहां उन्होंने स्टुअर्ट नाम की फ्रांसीसी वर्तनी को अपनाया था।

अंतिम स्टुअर्ट संप्रभु ऐनी का शाही कुलांक

इतिहाससंपादित करें

स्टुअर्ट घराना एलिजाबेथ प्रथम की 1603 में मृत्यु के बाद इंग्लैंड में स्थापित राजवंश था। स्टुअर्ट वंश के पहला शासक जेम्स प्रथम थे जिसका पुत्र इंग्लैंड के चार्ल्स प्रथम थे जिनकी पत्नी का नाम हेनरिटा मारिया था। वह चार्ल्स की प्रमुख सलाहकार थी जिसके चरित्र ने पयूरिटिन क्रांति में विस्फोट की भूमिका निभाई थी तथा जेम्स प्रथम के पुत्र चार्ल्स प्रथम को 30 जनवरी 1649 को राजद्रोह के आरोप में फांसी की सजा दी गई थी जबकि उसे युद्ध में पराजित करने का श्रेय ऑलिवर क्रॉमवेल को दिया जाता है और ऐसा माना जाता है कि चार्ल्स प्रथम ने अवैध तरीके से धन इकट्ठा किया था उसने संसद की स्वीकृति के बगैर अनेक कर लगाएं तथा अनेक व्यापारिक कंपनियों को कुछ चीजों के व्यापार का एकाधिकार देकर उनसे धन वसूल किया और साथ ही साथ जिन लोगों ने राजा के आदेश को नहीं माना उन पर भी भारी जुर्माना लगाया इस प्रकार चार्ल्स प्रथम ने धन कमाने के अवैध तरीके अपनाएं। इंग्लैंड में चार्ल्स प्रथम और संसद के बीच जो युद्ध हुआ था उस युद्ध में संसद की विजय हुई थी ।चार्ल्स प्रथम तथा संसद के बीच झगड़े का प्रमुख कारण जेम्स प्रथम की देवी अधिकारों के सिद्धांत, चार्ल्स प्रथम की निरंकुश तथा अत्याचार पूर्ण नीति थे। स्टुअर्ट वंश के राजाओं का कैथोलिक धर्म के प्रति झुकाव था जबकि संसद कैथोलिक धर्म की विरोधी थी। यह भी राजा और संसद के बीच झगड़े का एक कारण था इसके पूर्व में भी जेम्स प्रथम तथा संसद के बीच संघर्ष हुआ था तब जेम्स प्रथम के समय 4 बार संसद बुलाया गया था सर्वप्रथम 1604 ईस्वी में फिर 1614 ईसवी में फिर 1621 ईसवी में और फिर 1624 में। इस विवाद के प्रमुख दो कारण थे पहला यह कि क्या राजा को शासन करने के अधिकार ईश्वर से मिले हैं या संसद से, दूसरा कारण क्या राजा अपनी इच्छा अनुसार शासन कर सकता है या देश के कानून का उल्लंघन कर सकता है राजा के विरोधियों ने कहा कि राजा को शासन का अधिकार संसद से प्राप्त होता है ना कि ईश्वर से दूसरा उन्होंने कहा कि राजा की शक्ति कानून द्वारा सीमित होनी चाहिए ना कि राजा को मनमानी करने का अधिकार होना चाहिए इन सैद्धांतिक प्रश्नों के अतिरिक्त कुछ व्यावहारिक तथा कुछ तात्कालिक समस्याएं भी थी जिन्हें लेकर जेम्स प्रथम और संसद के बीच झगड़ा चलता रहा।

सिंहासन के हारने के बाद, जेम्स सप्तम और द्वितीय के वंशजों को जैकबाइट्स के रूप में जाना जाने लगा और कई पीढ़ियों तक अंग्रेजी (और बाद में ब्रिटिश) को फिर से सही उत्तराधिकारी के रूप में सिंहासन पर बिठाने का प्रयास जारी रहा, हालाँकि 19 वीं सदी के प्रारंभ से ही स्टुअर्ट परिवार से अधिक सक्रिय दावेदार नहीं रहे हैं।

सूचिसंपादित करें

नाम चित्र जन्म विवाह मृत्यु दावा
जेम्स प्रथम
24 मार्च
1603–1625
  19 जून 1566
एडिनबर्ग किला
का पुत्र हेनरी स्टुअर्ट, लॉर्ड डार्न्ले, and स्कॉटों की रानी मैरी
डेनमार्क की ऐन
ओस्लो
23 नवम्बर 1589
७ बच्चे
27 मार्च 1625
थिओबाल्ड्स घराना
उम्र 58
हेनरी सप्तम के पड़पोते
चार्ल्स १
27 मार्च
1625–1649
  19 नवम्बर 1600
डुनफर्मलिन महल
डेनमार्क की ऐन और जेम्स प्रथम के पुत्र
फ्रांस की हेनरीता मारिया
सेंट आगस्टिन्स ऐबी
13 जून 1625
९ बच्चे
30 जनवरी 1649
व्हाइटहॉल महल
उम्र 48 (सिर कटवाया गया)
जेम्स प्रथम के ज्येष्ठ पुत्र -देखें:(ज्येष्ठाधिकार)
चार्ल्स द्वितीय
1660–1685[2]
राजवादियों द्वारा 1649 में प्रमाणित
  29 मई 1630
सेंट जेम्स का महल
चार्ल्स प्रथम और फ्रांस की हेनेरीटा मारिया का पुत्र
ब्रैगैन्ज़ा की कैथरीन
पोर्ट्समाउथ
21 मई 1662
निसंतान
6 फरवरी 1685
वाइटहॉल महल
उम्र 54
चार्ल्स प्रथम का पुत्र(ज्येष्ठाधिकार; अंग्रेज़ी धर्मसुधार)
जेम्स द्वितीय
6 फरवरी 1685 –
23 दिसम्बर 1688 (अपदस्थकृत)
  14 अक्टूबर 1633
सेंट जेम्स का महल
चार्ल्स प्रथम और फ्रांस की हेनेरीटा मारिया का पुत्र
(1) ऐन हाएड
स्ट्रैंड
3 सितम्बर 1660
आठ संतान

(2) मोडेना की मैरी
डोवर
21 नवम्बर 1673
सात संतान

16 सितम्बर 1701
शैटु दे सैं-जरमें-औं-ले
(Château de Saint-Germain-en-Laye)
उम्र 67
चार्ल्स प्रथम का पुत्र (ज्येष्ठाधिकार)
मैरी द्वितीय
13 फरवरी
1689–1694
  30 अप्रैल 1662
सेंट जेम्स का महल
जेम्स द्वितीय और ऐन हायड की बेटी
सेंट जेम्स का महल
4 नवम्बर 1677
निसंतान
28 दिसम्बर 1694
केन्सिंग्टन महल
उम्र 32
चार्ल्स प्रथम की पोती (संसद द्वारा नामित)
विलियम तृतीय
ऑरेंज के विलियम
13 फरवरी
1689–1702
  4 नवम्बर 1650
द हेग
का पुत्र विलियम द्वितीय और मैरी, शाही राजकुमारी[3]
8 मार्च 1702
केंसिंगटन महल
उम्र 51, घोड़े से गिरकर गर्दन टूटने से।
ऐन
8 मार्च
1702–1 मई 1707[4]
ग्रेट ब्रिटेन और आयरलैंड की महारानी
1 मई 1707–1 अगस्त 1714
  6 फरवरी 1665
सेंट जेम्स का महल
जेम्स द्वितीय और ऐन हायड की बेटी
डेनमार्क के जॉर्ज
सेंट जेम्स का महल
28 जुलाई 1683
पाँच संतान
1 अगस्त 1714
केन्सिंग्टन महल
उम्र 49
जेम्स २ की बेटी (ज्येष्ठाधिकार; अधिकार का कानून, १६८९)
1707 के बाद के शासक देखें ब्रिटेन के शासक

इन्हें भी देखेंसंपादित करें

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें

  1. "संग्रहीत प्रति". मूल से 9 अप्रैल 2017 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 22 जुलाई 2020.
  2. "Britannia: Monarchs of Britain". मूल से 21 नवंबर 2008 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 9 नवंबर 2015.
  3. "WILLIAM III - Archontology.org". मूल से 25 जून 2009 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 25 अक्टूबर 2007.
  4. "Anne (England) - Archontology.org". मूल से 16 दिसंबर 2009 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 25 अक्टूबर 2007.