अरब संघ; (Arab Union), 22 मार्च सन 1945 ईस्वी को मिस्र की राजधानी काहिरा में सीरिया, इराक़, सउदी अरब, मिस्र, और यमन के हस्ताक्षर से अरब संघ का गठन हुआ। यह संघ मिस्र के तत्कालीन नरेश मलिक फ़ारुक़ के प्रस्ताव पर बनाया गया। इस संघ के गठन का प्रस्ताव मिस्र के एलेकज़न्डरिया नगर में एक बैठक में तैयार किया गया था और ये संघ अरब लीग का एक अंग है।

अरब लीग का ध्वज

उद्देश्यसंपादित करें

इस संघ का सदस्य देशों की संप्रभुता की रक्षा करना तथा आपस में निकट राजनैतिक आर्थिक और सांस्कृतिक संबंध बनाना था। सन 1950 में अरब संघ की बैठक में सदस्य देशों ने संयुक्त सुरक्षा प्रस्ताव पारित किया। सन 1962 में संघ का शिखर सम्मेलन हुआ जिसमें संयुक्त सैनिक कमान बनाने का निर्णय लिया गया किंतु इस संघ में सैनिक सहकारिता व्यवहारिक नहीं हो सकी और सदस्य देश इजराइल शासन से युद्ध में अकेले रह गये इसके अतिरिक्त आंतरिक मतभेदों के कारण यह संघ अधिक शक्तिशाली नहीं हो सका।

सन्दर्भसंपादित करें