कांकरोली (Kankroli) भारत के राजस्थान राज्य के राजसमन्द ज़िले में स्थित एक नगर है। यह उदयपुर से 68 किलोमीटर (42 मील) उत्तर में है और राजसमन्द का जुड़वा शहर है।[1][2]

कांकरोली
Kankroli
कांकरोली is located in राजस्थान
कांकरोली
कांकरोली
राजस्थान में स्थिति
कांकरोली is located in भारत
कांकरोली
कांकरोली
कांकरोली (भारत)
निर्देशांक: 25°03′14″N 73°53′28″E / 25.054°N 73.891°E / 25.054; 73.891निर्देशांक: 25°03′14″N 73°53′28″E / 25.054°N 73.891°E / 25.054; 73.891
देश भारत
प्रान्तराजस्थान
ज़िलाराजसमन्द ज़िला
ऊँचाई546 मी (1,791 फीट)
भाषा
 • प्रचलितहिन्दी, राजस्थानी
समय मण्डलभारतीय मानक समय (यूटीसी+5:30)

अवस्थिति संपादित करें

कांकरोली शहर रणनीतिक रूप से राजस्थान के दक्षिण में स्थित है और उदयपुर से ६५ किमी दूर है। कांकरोली २५ डिग्री ४ '० "उत्तरी अक्षांश और ७३ डिग्री ५३' 0" पूर्व रेखांश और ५४७ मीटर की औसत ऊंचाई पर स्थित है। कांकरोली राजस्थान के राजसमंद जिले के प्रशासनिक प्रमुख क्वार्टर हैं। कांकरोली शहर उत्तर की ओर अरावली रेंज और पाली जिले से घिरा हुआ है, पूर्व में भीलवाड़ा और चित्तौड़गढ़ जिलों और उदयपुर दक्षिण की ओर स्थित है।

जलवायु संपादित करें

जलवायु: ग्रीष्मकालीन: अधिकतम ,४२ ºC और न्यूनतम २७ ºC शीतकालीन: अधिकतम २५ ºC, न्यूनतम ९.५ ºC और औसत वर्षा ४२१ मिमी है।

भाषा संपादित करें

कांकरोली में सर्वाधिक बोली जाने वाली भाषाएं हिंदी, अंग्रेजी और राजस्थानी हैं।

इतिहास संपादित करें

खांखाजी चौहान राजपूत यहां के जागीरदार थे। खांखाजी के नाम से इस नगर का नाम खांखारोली हुआ जो बाद में कांकरोली हो गया।

कांकरोली नाम अपभं रस से सुधर कर बना है। वर्षों पूर्व यहां रावतों की बस्ती थी और खाका गौत्र के रावतों को मेवाड़ महाराणा द्वारा डोली यानी जमीन दी जाने से खाकाडोली प्राचीन नाम था। ख का क और डोली की अंग्रेजों द्वारा कोमल रोली हो गया। आज भी गांवों के लोग खांकडोली उच्चारण करते है।

मंदिर संपादित करें

कांकरोली में चारभुजानाथ जी का मंदिर विद्यमान है जहां प्रतिवर्ष देवझुलनी एकादशी पर भव्य रथ की सवारी निकाली जाती है जिसका नेतृत्व छापली और कालागुमान के खांखावत चौहान राजपूत करते है। यहां प्रसिद्ध द्वारिकाधीश का मन्दिर भी है। कांकरोली को द्वारिकाधीश प्रभु की हवेली भी कहा जाता है। द्वारिकाधीश मंदिर भारत के वैष्णव मंदिरों के बीच महत्वपूर्ण मंदिरों में से एक है। जन्माष्टमी (भगवान कृष्ण का जन्मदिन), अन्नकुट्टा, और झलजुल्नी ग्यारा यहां प्रसिद्ध त्यौहार हैं। भक्त कांकरोली जाते हैं और सितंबर के महीने के दौरान झील में धार्मिक स्नान करते हैं।

झील संपादित करें

यहां से १ कि.मी. दूर राजसमन्द झील स्थित है। राजसमंद झील (जिसे राजसममुरा झील भी कहा जाता है) १७ वीं शताब्दी में निर्मित, यह लगभग १.७५ मील (२.८२ किमी) चौड़ा, ४ मील (६.४ किमी) लंबा और ६० फीट (१८ मीटर) गहरा है। यह झील गोमाटी, केल्वा और ताली नदियों में लगभग १९६ वर्ग मील (५१० किमी २) के एक पकड़ क्षेत्र के साथ बनाई गई थी। राजसमंद के शहर और जिले का नाम राजसमंद झील के नाम पर रखा गया है। यह कृत्रिम झील १७ वीं शताब्दी के दौरान महाराणा राजा सिंह -१ द्वारा बनाई गई थी। राजसमंद जिला १० अप्रैल १९९१ को गठित किया गया था।

व्यवसाय संपादित करें

१९९१ में कांकरोली शहर उदयपुर जिले से संबंधित था, इसे जिला प्रमुख के रूप में अलग किया गया था। राजनगर और कांकरोली जुड़वां शहर हैं। कांकरोली शहर भारत में रेडियल टायर क्रांति के लिए भी प्रसिद्ध है। पहला रेडियल टायर १९८० के दशक के दौरान जे के टायर कारखाने से बाहर हो गया था। कांकरोली के पास एक महान शोध संस्थान हैरिशंकर सिंघानिया टायर और एलिस्टोमर रिसर्च इंस्टीट्यूट (HASETRI) भी है।

इन्हें भी देखें संपादित करें

सन्दर्भ संपादित करें

  1. "Lonely Planet Rajasthan, Delhi & Agra," Michael Benanav, Abigail Blasi, Lindsay Brown, Lonely Planet, 2017, ISBN 9781787012332
  2. "Berlitz Pocket Guide Rajasthan," Insight Guides, Apa Publications (UK) Limited, 2019, ISBN 9781785731990