चैत्र | वैशाख | ज्येष्ठ | आषाढ़ | श्रावण | भाद्रपद | आश्विन | कार्तिक | अग्रहायण | पौष | माघ | फाल्गुन


<< चैत्र >>
सो मं बु गु शु
१ शु २ शु
३ शु ४ शु ५ शु ६ शु ७ शु ८ शु ९ शु
१० शु ११ शु १२ शु १३ शु १४ शु पूर्णिमा १ कृ
२ कृ ३ कृ ४ कृ ५ कृ ६ कृ ७ कृ ८ कृ
९ कृ १० कृ ११ कृ १२ कृ १३ कृ १४ कृ अमावस्या
2021


चैत्र हिंदू पंचांग का पहला मास है।

चेत्र का महीना इस ब्रह्मांड का पहला दिन माना जाता है इसी महीने से होती है हिंदू नववर्ष की शुरूआत। जिसे संवत्सर कहा जाता है।

हिंदू वर्ष का पहला मास होने के कारण चैत्र की बहुत ही अधिक महता होती है। अनेक पावन पर्व इस मास में मनाये जाते हैं। चैत्र मास की पूर्णिमा चित्रा नक्षत्र में होती है इसी कारण इसका महीने का नाम चैत्र पड़ा।

मान्यता है कि सृष्टि के रचयिता भगवान ब्रह्मा ने चैत्र मास की शुक्ल प्रतिपदा से ही सृष्टि की रचना आरंभ की थी। वहीं सतयुग की शुरुआत भी चैत्र माह से मानी जाती है।

पौराणिक मान्यताओं के अनुसार इसी महीने की प्रतिपदा को भगवान विष्णु के दशावतारों में से पहले अवतार मतस्यावतार अवतरित हुए एवं जल प्रलय के बीच घिरे मनु को सुरक्षित स्थल पर पंहुचाया था। जिनसे प्रलय के पश्चात नई सृष्टि का आरंभ हुआ।[1]


  1. "हिंदी महीनों के अनुसार व्रत एव त्योहार (Hindu festivals)". राधे राधे. 2021-02-15. अभिगमन तिथि 2021-02-16.