पूर्णिमा संस्कृत का शब्द है। पूर्णिमा का दिन प्रत्येक महीने में तब (दिन) तीथ का होता है जब पूर्णिमा होती है, और प्रत्येक महीने में दो चंद्र नक्षत्रों (पक्षा) के बीच के विभाजन को चिह्नित करता है, और चंद्रमा एक सीधी रेखा में सूर्य और के साथ संरेखित होता है पृथ्वी। पूर्णिमा को चंद्रमा के चार प्राथमिक चरणों में से तीसरा माना जाता है; अन्य तीन चरण हैं अमावस्या, पहली तिमाही चंद्रमा और तीसरी तिमाही चंद्रमा। पूर्णिमा 100% रोशनी दिखाती है, उच्च ज्वार का कारण बनती है, और चंद्र ग्रहण के साथ मिल सकती है।[1]

पूर्णिमा

पूर्णिमा के पर्वसंपादित करें

  • चैत्र की पूर्णिमा के दिन हनुमान जयंती मनाई जाती है।
  • चैत्र की पूर्णिमा के दिन प्रेम पूर्णिमा पति व्रत मनाया जाता है।
  • वैशाख की पूर्णिमा के दिन बुद्ध जयंती मनाई जाती है।
  • ज्येष्ठ की पूर्णिमा के दिन वट सावित्री मनाया जाता है।
  • आषाढ़ मास की पूर्णिमा को गुरू-पूर्णिमा कहते हैं। इस दिन गुरु पूजा का विधान है। इसी दिन कबीर जयंती मनाई जाती है।
  • श्रावण की पूर्णिमा के दिन रक्षाबन्धन का पर्व मनाया जाता है।
  • भाद्रपद की पूर्णिमा के दिन उमा माहेश्वर व्रत मनाया जाता है।
  • अश्विन की पूर्णिमा के दिन शरद पूर्णिमा का पर्व मनाया जाता है।
  • कार्तिक की पूर्णिमा के दिन पुष्कर मेला और गुरुनानक जयंती पर्व मनाए जाते हैं।
  • मार्गशीर्ष की पूर्णिमा के दिन श्री दत्तात्रेय जयंती मनाई जाती है।
  • पौष की पूर्णिमा के दिन शाकंभरी जयंती मनाई जाती है। जैन धर्म के मानने वाले पुष्यभिषेक यात्रा प्रारंभ करते हैं। बनारस में दशाश्वमेध तथा प्रयाग में त्रिवेणी संगम पर स्नान को बहुत महत्वपूर्ण माना जाता है।
  • माघ की पूर्णिमा के दिन संत रविदास जयंती, श्री ललित और श्री भैरव जयंती मनाई जाती है। माघी पूर्णिमा के दिन संगम पर माघ-मेले में जाने और स्नान करने का विशेष महत्व है।
  • फाल्गुन की पूर्णिमा के दिन होली का पर्व मनाया जाता है।

सन्दर्भसंपादित करें

  1. "The Full Moon". www.timeanddate.com (अंग्रेज़ी में). अभिगमन तिथि 25 November 2017.