जबलपुर भारत के मध्यप्रदेश राज्य का एक शहर है। यहाँ पर मध्य प्रदेश उच्च न्यायालय तथा राज्य विज्ञान संस्थान है। इसे मध्यप्रदेश की संस्कारधानी भी कहा जाता है। थलसेना की छावनी के अलावा यहाँ भारतीय आयुध निर्माणियों के कारखाने तथा पश्चिम-मध्य रेलवे का मुख्यालय भी है।

जबलपुर
—  नगर  —
Jabalpur udit.jpg
समय मंडल: आईएसटी (यूटीसी+५:३०)
देश Flag of India.svg भारत
राज्य मध्य प्रदेश
महापौर डा. स्वाति सदानंद गोडबोले[कृपया उद्धरण जोड़ें]
नगर पालिका अध्यक्ष सुमित्रा बाल्मीकी[कृपया उद्धरण जोड़ें]
जनसंख्या
घनत्व
11,17,200
• 110/किमी2 (285/मील2)
क्षेत्रफल 10,160 कि.मी²
आधिकारिक जालस्थल: http://www.jabalpur.nic.in

निर्देशांक: 23°09′N 79°58′E / 23.15°N 79.97°E / 23.15; 79.97

इतिहाससंपादित करें

पुराणों और किंवदंतियों के अनुसार इस शहर का नाम पहले जबालिपुरम् था, क्योंकि इसका सम्बंध महर्षि जाबालि से जोड़ा जाता है। जिनके बारे में कहा जाता है कि वह यहीं निवास करते थे। 1781 के बाद ही मराठों के मुख्यालय के रूप में चुने जाने पर इस नगर की सत्ता बढ़ी, बाद में यह सागर और नर्मदा क्षेत्रों के ब्रिटिश कमीशन का मुख्यालय बन गया। यहाँ 1864 में नगरपालिका का गठन हुआ था। एक पहाड़ी पर मदन महल का किला स्थित है, जो लगभग 1100 ई. में राजा मदन सिंह द्वारा बनवाया गया एक पुराना गोंड किला है जिसका निर्माण सामरिक उद्देश्य से किया गया था. इसमें आवासीय व्यवस्था नहीं । इसके ठीक पश्चिम में गढ़ है, जो 14वीं शताब्दी के चार स्वतंत्र गोंड राज्यों का प्रमुख नगर था। भेड़ाघाट, ग्वारीघाट और जबलपुर से प्राप्त जीवाश्मों से संकेत मिलता है कि यह प्रागैतिहासिक काल के पुरापाषाण युग के मनुष्य का निवास स्थान था। मदन महल, नगर में स्थित कई ताल और गोंड राजाओं द्वारा बनवाए गए कई मंदिर इस स्थान की प्राचीन महिमा की जानकारी देते हैं। इस क्षेत्र में कई बौद्ध, हिन्दू और जैन भग्नावशेष भी हैं। कहते है कि जबलपुर में स्थ‍ित ५२ प्राचीन ताल तलेैयों ने यहाँ की पहचान को बढाया, इनमें से अब कुछ ही तालाब शेष बचे हैं परन्तु उन प्राचीन ताल तलैयों के नाम अभी तक प्रचलित हैं। जिनमें से कुछ निम्न हैं; अधारताल, रानीताल, चेरीताल, हनुमानताल, फूटाताल, मढाताल, हाथीताल, सूपाताल, देवताल, कोलाताल, बघाताल, ठाकुरताल, गुलौआ ताल, माढोताल, मठाताल, सुआताल, खम्बताल, गोकलपुर तालाब, शाहीतालाब, महानद्दा तालाब, उखरी तालाब, कदम तलैया, भानतलैया, श्रीनाथ की तलैया, तिलकभूमि तलैया, बैनीसिंह की तलैया, तीनतलैया, लोको तलैया, ककरैया तलैया, जूडीतलैया, गंगासागर, संग्रामसागर। जबलपुर भेड़ाघाट मार्ग पर स्थित त्रिपुर सुंदरी मंदिर, हथियागढ़ संस्कृत के कवि राजशेखर से सम्बंधित है ।


जबलपुर में जगहें - धुआंधार फ़ॉल्स ,जबलपुर हार्ट ,हनुमानताल एवं मदन महल।

भौगोलिक स्थितिसंपादित करें

विंध्य पर्वत श्रृंखला में स्थित यह नगर पवित्र नर्मदा नदी के तट पर स्थित है। जबलपुर भारत के प्रमुख शहरों दिल्ली हैदराबाद अहमदाबाद कोलकाता तथा मुंबई से हवाई मार्ग से जुड़ा हुआ है।[कृपया उद्धरण जोड़ें]

जनसंख्यासंपादित करें

2001 की जनगणना के अनुसार जबलपुर नगर निगम क्षेत्र की जनसंख्या 9,51,469 है, जबलपुर छावनी क्षेत्र की जनसंख्या 66,482 और जबलपुर ज़िले की कुल जनसंख्या 23,67,469 है।

उद्योग और व्यापारसंपादित करें

यह नगर सामरिक दृष्टि से भी महत्त्वपूर्ण है, यहाँ तोपगाड़ी बनाने का केंद्रीय कारख़ाना शस्त्र निर्माण कारख़ाना और एक शस्त्रागार स्थित है। यहाँ के प्रमुख उद्योगों में खाद्य प्रसंस्करण, आरा मिल और विभिन्न निर्माण शामिल हैं। रेडीमेड वस्त्र उत्पादन जबलपुर रेडीमेड वस्त्र उद्योग - सलवार-सूट , शर्ट, का प्रमुख उत्पादक केंद्र बन गया है.

कृषि तथा खनिजसंपादित करें

इसके आसपास के क्षेत्रों में नर्मदा नदी घाटी के पश्चिमी छोर पर स्थित एक अत्यधिक उपजाऊ, गेहूँ की खेती वाला इलाक़ा हवेली शामिल है। चावल, ज्वार चना और तिलहन आसपास के क्षेत्रों की अन्य महत्त्वपूर्ण फ़सलें हैं। यहाँ लौह अयस्क, चूना-पत्थर बॉक्साइट, चिकनी मिट्टी, अग्निसह मिट्टी, शैलखड़ी, फ़ेल्सपार, मैंगनीज और गेरू का व्यापक पैमाने पर खनन होता है।

शिक्षासंपादित करें

इस शहर में पांच विश्वविद्यालय हैं -

चिकित्सा महाविद्यालयसंपादित करें

आभियांत्रिकी महाविद्यालयसंपादित करें

  • पी.डी.पी.एम. भारतीय सूचना प्रौद्योगिकी, अभिकल्पन एवं विनिर्माण संस्थान
  • हितकारिणी प्रौद्योगिकी व अभियांत्रिकी महाविद्यालय
  • श्री राम प्रौद्योगिकी संस्थान - [एसआरआईटी], आईटीआई के पास, माधोटल, जबलपुर, मध्य प्रदेश 482002
  • Guru ramdas khalsa institute of science and technology jabalpur

कृषि महाविद्यालयसंपादित करें

संगीत कलासंपादित करें

भातखंडे संगीत कला महाविद्यालय

संभागीय बालभवन जबलपुर

शासकीय ललित कला महाविद्यालय, जबलपुर

प्रसिद्ध स्थलसंपादित करें

 
भेड़ाघाट
 
हनुमान ताल बड़ा जैन मन्दिर
 
मदन महल

मंदिरसंपादित करें

  • त्रिपुर सुन्दरी मन्दिर
  • बाजना मठ: बाजना मठ, रेलवे स्टेशन से करीब ८ कि॰मी॰ की दूरी पर मेडीकल कालेज से, तिलवारा घाट रोड पर स्तिथ है, इस मन्दिर में "श्री बाबा बटुक भैरवनाथ जी"* विराजमान हैं। प्रति शनिवार को इस मन्दिर में भक्तों की इतनी भीड होती है कि मन्दिर के अन्दर उनके द्वारा जलाई गयी अगरबत्तीयों से निकले धुएं के कारण कुछ भी दिखायी नहीं देता। कुछ लोग इस मन्दिर को तान्त्रिक मन्दिर मानते हैं।
  • गुप्तेश्वर मन्दिर
  • पच-मठा
  • शनि मंदिर तिलवारा
  • बूढी खेरमाई

घाटसंपादित करें

  • भेड़ाघाट
  • तिलवारा घाट
  • जिलहरी घाट
  • ग्वारीघाट
  • उमा घाट
  • खारी घाट
  • लम्हेटा घाट
  • सिध्दघाट
  • दरोगा घाट
  • सरस्वती घाट
  • झांसीघाट
  • गौरैयाघाट
  • घाट पिंडरई
  • भि‍टौली घाट इसे भटौलीघाट नाम से जानते हैं
  • जमतरा घाट
  • नन्द‍िकेश्वर घाट

प्रसिद्ध व्यक्तिसंपादित करें

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें

जबलपुर क्षेत्र ब्लॉक : जबलपुर, वार्ड : 29-आचार्य विनोवा भावे