तेरे नाम

2003 की सतीश कौशिक की फ़िल्म
(तेरे नाम (2003 फ़िल्म) से अनुप्रेषित)

तेरे नाम एक भारतीय हिन्दी फ़िल्म है, जिसका निर्देशन सतीश कौशिक ने और निर्माण सुनील मंचन्दा व मुकेश तलरेजा ने किया था। इसमें मुख्य किरदार में सलमान खान और अपनी पहली हिन्दी फिल्म में भूमिका चावला हैं।[1] यह सिनेमाघरों में 15 अगस्त 2003 में प्रदर्शित हुई। यह एक तमिल भाषा में बनी फिल्म सेतु (1999) का पुनः निर्माण है।[2]

तेरे नाम
तेरे नाम (2003 फ़िल्म).jpg
प्रचार छवि
निर्देशक सतीश कौशिक
निर्माता सुनील मंचन्दा
मुकेश तलरेजा
अभिनेता सलमान ख़ान,
भूमिका चावला,
महिमा चौधरी
संगीतकार हिमेश रेशमिया
साजिद-वाजिद
छायाकार तपन मालवीय
संपादक संजय वर्मा
वितरक एमडी प्रोडक्शन
प्रदर्शन तिथि(याँ) 15 अगस्त, 2003
समय सीमा 138 मिनट
देश भारत
भाषा हिन्दी
कुल कारोबार 24 करोड़ (US$3.5 मिलियन)

संक्षेपसंपादित करें

राधे मोहन (सलमान खान) कॉलेज का पूर्व आवारा छात्र है जो लोगों से निपटने के लिये एकमात्र तरीका हिंसा का उपयोग करता है। वह अपने भाई, एक मजिस्ट्रेट (सचिन खेडेकर) और अपनी भाभी (सविता प्रभुने) के साथ रहता है, जो एकमात्र व्यक्ति है जो उसे सही ढंग से समझती है। राधे कॉलेज के छात्र संघ का चुनाव जीतता है, जिसके बाद प्रतिद्वंद्वी उम्मीदवारों के बीच समारोह और परिसर में लड़ाई होती है।

राधे के पास कई चापलूस व्यक्ति हैं। वह एक डरी हुई लड़की निर्जला (भूमिका चावला) से मिलता है, जो एक मंदिर के गरीब पुजारी की बेटी है। वह उसकी सादगी और भोलेपन के कारण उसके साथ प्यार में पागल हो जाता है और उसे लुभाने लगता है। राधे उसके लिए अपनी भावनाओं को व्यक्त करता है लेकिन शुरुआत में वह उसे अस्वीकार कर देती है। राधे का दिल टूट जाता है। एक दिन, निर्जला के मंगेतर रामेश्वर (रवि किशन) निर्जला को बताता है कि राधे बाहर से कठोर लगता है लेकिन अंदर से अच्छा है और वह वास्तव में उससे प्यार करता है। लेकिन फिर राधे उसका अपहरण करता है, उसके लिए अपनी गहरी और भावुक भावनाओं को व्यक्त करता है और उसे उससे प्यार में पड़ने के लिए मजबूर करता है।

निर्जला के साथ प्यार करने के बाद, राधे पर वेश्याओं के गुंडों द्वारा हमला किया जाता है, जो अपने व्यापार में उसके हस्तक्षेप करने के बाद उस से बदला लेते हैं। राधे के मस्तिष्क के नुकसान का सामना करना पड़ता है और मानसिक संस्थान में भर्ती किया जाता है। वहाँ से सफलता न मिलने पर उसे एक आश्रम में भेजा जाता है। एक बार वह सामान्य हो जाता है और दरवाज़ों पर चढ़कर भागने की कोशिश करता है, लेकिन वह गिर जाता है और उसे गंभीर चोटों आती है।

निर्जला राधे को सोते हुए मिलती है और उसे ठीक न पाते हुए वापिस जाती है। राधे उठता है और महसूस करता है कि वह उसे देखने आई थी। वह निर्जला को बुलाता है, लेकिन वह उसे नहीं सुन पाती। वह संस्थान छोड़ने का एक और प्रयास करता है और इस बार सफल रहता है। जब वह उसके घर पहुँचाता है, तो देखता है कि निर्जला ने अपनी शादी किसी अन्य व्यक्ति से होने पर आत्महत्या कर ली।

वह बाहर निकलता है और उसके पिछले दोस्त और उसके परिवार उसे अपनी याददाश्त हासिल करने में मदद करने की कोशिश करते है। उस समय, मानसिक संस्थान से वार्डन उसे वापस लेने के लिए आते हैं। राधे उनके साथ चले जाता है क्योंकि उसके असली प्रेम की मृत्यु के बाद उसके पास रहने के लिए कुछ भी नहीं है। सालों बाद, राधे, अब बूढ़ा और अभी भी आश्रम में है।

मुख्य कलाकारसंपादित करें

संगीतसंपादित करें

तेरे नाम
एल्बम हिमेश रेशमिया तथा साजिद-वाजिद द्वारा
जारी 7 जुलाई 2003 (भारत)
संगीत शैली फिल्म साउंडट्रैक
लंबाई 57:42
भाषा हिन्दी
लेबल टी-सीरीज़
हिमेश रेशमिया कालक्रम

फुटपाथ
(2003)
तेरे नाम
(2003)
ज़मीन
(2003)
साजिद-वाजिद क्रमानुक्रम
चोरी चोरी
(2003)
तेरे नाम
(2003)
गर्व
(2004)

फिल्म का संगीत समीर के बोलों के साथ हिमेश रेशमिया द्वारा रचित है। जारी होने पर ये बहुत लोकप्रिय रहा और उस वर्ष का सर्वाधिक बिकने वाला एल्बम है।[3] हिमेश रेशमिया ने स्टार स्क्रीन पुरस्कार और ज़ी सिने पुरस्कार में सर्वश्रेष्ठ संगीत के लिये पुरस्कार जीता था जबकि फ़िल्मफ़ेयर पुरस्कार में भी उन्हें नामांकित किया गया था लेकिन वो जीत नहीं पाए थे।

क्र॰शीर्षकगीतकारसंगीतकारगायकअवधि
1."तुमसे मिलना बातें करना"समीरहिमेश रेशमियाउदित नारायण, अलका याज्ञनिक4:41
2."तेरे नाम हमने किया है" (महिला)समीरहिमेश रेशमियाअलका याज्ञनिक6:30
3."ओढ़नी ओढ़ के नाचूँ"समीरहिमेश रेशमियाअलका याज्ञनिक, उदित नारायण6:53
4."क्यों किसी को वफ़ा के"समीरहिमेश रेशमियाउदित नारायण5:37
5."लगन लगन लग गई"जलीस शेरवानीसाजिद-वाजिदसुखविंदर सिंह4:35
6."ओ जाना कह रहा है दिल"समीरहिमेश रेशमियाशान, अलका याज्ञिक, उदित नारायण, केके, कमाल खान5:29
7."तेरे नाम हमने किया है" (डुएट)समीरहिमेश रेशमियाअलका याज्ञनिक, उदित नारायण6:33
8."तेरे नाम हमने किया है" (दुखद)समीरहिमेश रेशमियाउदित नारायण2:05
9."तूने साथ जो मेरा छोड़ा"जलीस शेरवानीसाजिद-वाजिदउदित नारायण, राघव चटर्जी5:33
10."उस चाँद का मुकाबला क्या होगा"समीरहिमेश रेशमियाउदित नारायण5:35
11."मन बसिया ओ कान्हा"समीरहिमेश रेशमियाअलका याज्ञिक3:04
12."तूने साथ जो मेरा छोड़ा" (दुखद)जलीस शेरवानीसाजिद-वाजिदउदित नारायण1:22
13."ओ जाना कह रहा है दिल" (रिमिक्स)समीरहिमेश रेशमियाकमाल खान, अलका याज्ञिक, उदित नारायण, केके4:17

नामांकन और पुरस्कारसंपादित करें

वर्ष नामित कार्य पुरस्कार परिणाम
2004 फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ फ़िल्म पुरस्कार नामित
सतीश कौशिक फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ निर्देशक पुरस्कार नामित
सलमान ख़ान फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ अभिनेता पुरस्कार नामित
भूमिका चावला फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री पुरस्कार नामित
हिमेश रेशमिया फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ संगीतकार पुरस्कार नामित
समीर ("तेरे नाम हमने किया है") फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ गीतकार पुरस्कार नामित
उदित नारायण ("तेरे नाम हमने किया है") फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ पार्श्व गायक पुरस्कार नामित
अलका याज्ञिक ("ओढ़नी ओढ़ के नाचूँ") फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ पार्श्व गायिका पुरस्कार नामित

सन्दर्भसंपादित करें

  1. "बेहद खूबसूरत दिखती हैं फिल्म 'तेरे नाम' की यह अभिनेत्री, तस्वीरें देखकर आपके भी होश उड़ जाएंगे". पंजाब केसरी. 2 जनवरी 2018. मूल से 17 जून 2018 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 17 जून 2018.
  2. "Bollywood remakes of South Indian films". NDTV. मूल से 6 सितंबर 2012 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 17 August 2012.
  3. "Music Hits 2000–2009 (Figures in Units)". बॉक्स ऑफिस इंडिया. मूल से 15 February 2008 को पुरालेखित.

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें