मुख्य मेनू खोलें

दूल्हे राजा

1998 की हर्मेश मल्होत्रा की फ़िल्म

दुल्हे राजा 1998 की हर्मेश मल्होत्रा द्वारा निर्देशित हिन्दी भाषा की हास्य फ़िल्म है। इसमें गोविन्दा, रवीना टंडन, कादर ख़ान, जॉनी लीवर, प्रेम चोपड़ा और असरानी हैं।

दुल्हे राजा
दुल्हे राजा.jpg
दुल्हे राजा का पोस्टर
निर्देशक हर्मेश मल्होत्रा
निर्माता हर्मेश मल्होत्रा
अभिनेता गोविन्दा,
रवीना टंडन,
कादर ख़ान,
प्रेम चोपड़ा,
मोहनीश बहल,
जॉनी लीवर,
असरानी,
अंजना मुमताज़,
गुड्डी मारुति
संगीतकार आनंद-मिलिंद
प्रदर्शन तिथि(याँ) 1998
देश भारत
भाषा हिन्दी

संक्षेपसंपादित करें

के के सिंघानिया (कादर ख़ान) पी के दीवानी (दिनेश हिंगू) से एक महंगा होटल "महाराजा इंटरनेशनल" खरीदते हैं। बाद में, सिंघानिया को पता चलता है कि होटल के परिसर के अंदर एक ढाबा एक राजा (गोविन्दा) नाम के आदमी द्वारा चलाया जाता है जो होटल की कमाई के लिए नुकसानदायक है। राजा के ढाबा को हटाने के लिए सिंघानिया द्वारा उपयोग की जाने वाली हर चाल विफल होती है।

सिंघानिया की बेटी किरण (रवीना टंडन) राहुल (मोहनीश बहल) नाम के एक आदमी से प्यार करती है। राहुल को आर्थिक रूप से एक सहयोगी बिश्ंबर नाथ (प्रेम चोपड़ा) द्वारा सहायता दी जाती है। उसी समय, राजा किरण को पसंद करने लगता है।

मुख्य कलाकारसंपादित करें

संगीतसंपादित करें

सभी गीत समीर द्वारा लिखित; सारा संगीत आनंद-मिलिंद द्वारा रचित।

गाने
क्र॰शीर्षकगायकअवधि
1."आई बनके ऋत"सोनू निगम, अनुराधा पौडवाल5:35
2."अखियों से गोली मारे"सोनू निगम, जस्पिंदर नरूला5:12
3."कहां राजा भोज"सोनू निगम, विनोद राठौड़8:09
4."क्या लगती है हाय रब्बा"विनोद राठोड5:35
5."दुल्हन तो जाएगी" (दुल्हे राजा)विनोद राठोड, अनुराधा पौडवाल5:17
6."निगाहें क्यों चुराती है"उदित नारायण, राम शंकर6:16
7."लडका दिवाना लगे"उदित नारायण, अनुराधा पौडवाल6:00

नामांकन और पुरस्कारसंपादित करें

वर्ष नामित कार्य पुरस्कार परिणाम
1999 जॉनी लीवर फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ हास्य अभिनेता पुरस्कार जीत

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें