पिहोवा (पेहवा, पेहोवा) हरियाणा के कुरुक्षेत्र जिले का एक नगर है। इसका पुराना नाम 'पृथूदक' है। यह एक प्रसिद्ध तीर्थ है।

पिहोवा (पेहवा)
—  हरियाणा का एक नगर  —
सरस्वती मंदिर की दीवार पर एक मूर्ति
सरस्वती मंदिर की दीवार पर एक मूर्ति
समय मंडल: आईएसटी (यूटीसी+५:३०)
देश Flag of India.svg भारत
राज्य हरियाणा
विधायक Sandeep Singh
सांसद Nayab Singh Saini
जनसंख्या
घनत्व
2,55,307 (2011 के अनुसार )
• 466/किमी2 (1,207/मील2)
क्षेत्रफल
ऊँचाई (AMSL)
548 km² (212 sq mi)
• 227 मीटर (745 फी॰)

निर्देशांक: 29°59′N 76°35′E / 29.98°N 76.58°E / 29.98; 76.58

इतिहाससंपादित करें

महाभारत में कहा गया है कि

पुण्यामाहु कुरुक्षेत्र कुरुक्षेत्रात्सरस्वती।
सरस्वत्माश्च तीर्थानि तीर्थेभ्यश्च पृथुदकम्।।

कुरुक्षेत्र पवित्र माना गया है और सरस्वती कुरुक्षेत्र से भी पवित्र है। सरस्वती तीर्थ अत्यंत पवित्र है, किन्तु पृथूदक इनमें सबसे अधिक पावन व पवित्र है।

महाभारत, वामन पुराण, स्कन्द पुराण, मार्कण्डेय पुराण आदि अनेक पुराणों एवं धर्मग्रन्थों के अनुसार इस तीर्थ का महत्व इसलिए ज्यादा हो जाता है कि पौराणिक व्याख्यानों के अनुसार इस तीर्थ की रचना प्रजापति ब्रह्मा ने पृथ्वी, जल, वायु व आकाश के साथ सृष्टि के आरम्भ में की थी। 'पृथुदक' शब्द की उत्पत्ति का सम्बन्ध महाराजा पृथु से रहा है। इस जगह पृथु ने अपने पिता की मृत्यु के बाद उनका क्रियाकर्म एवं श्राद्ध किया। अर्थात जहां पृथु ने अपने पिता को उदक यानि जल दिया। पृथु व उदक के जोड़ से यह तीर्थ पृथूदक कहलाया।

वामन पुराण के अनुसार गंगा के तट पर रहने वाले रुषंगु नामक ऋषि ने अपना अन्त समय जानकर मुक्ति की इच्छा से गंगा को छोड़कर पृथुदक में जाने के लिए अपने पुत्रों से आग्रह किया था। क्योंकि उसका कल्याण गंगा द्वार पर संभव नहीं था। पद्मपुराण के अनुसार जो व्यक्ति सरस्वती के उत्तरी तट पर पृथुदक में जप करता हुआ अपने शरीर का त्याग करता है, वह नि:संदेह अमरता को प्राप्त करता है।


पेहवा मे गु्र्जर प्रतिहार वंश के महान शासक मिहिर भोज का अश्व केंद्र था,यंहा घोडो का व्यापार होता था उन्हे भोज देव भी कहा गया है पेहवा से गुर्जर प्रतिहार शासक मिहिर भोज का एक अभिलेख भी प्राप्त हुआ है। पेहवा के चारो तरफ गुर्जर समाज के कई गांव बसे हुए हैं जिनमे मुख्यता भटेड़ी, थाना , रूआ , अरनेचा , ककराला , सुरमी प्रमुख हैं।

भौगोलिक स्थितिसंपादित करें

पिहोवा राष्ट्रीय राजमार्ग 65 पर स्थित है। इसकी भौगोलिक स्थिति है - 29.98°N 76.58°E. समुद्रतल से औसत ऊंचाई २२४ मीटर है। पेहवा कुरुक्षेत्र से लगभग 27 किलोमीटर पश्चिम है। पेहवा के दक्षिण में कैथल शहर स्तिथ है जिसकी दुरी लगभग 28 किलोमीटर है

पिहोवा तहसील में गाँवो की सूचि पेहवा तहसील में कुल 106 गांव आते हैं जिनकी सूचि निम्नलिखित है। 1 अधोया 2 अजरावर 3 अजमतपुर 4 बबकपुर 5 बचकी 6 बाखली 7 बलोचपुरा 8 बसंतपुर 9 भटेड़ी 10 भैंसीमाजरा 11 भेरियां 12 भोर सैंदा 13 भौरख 14 भूस्तला 15 बीबीपुर कलां 16 बोधा 17 बोधनी 18 चामुन 19 चनाल हेड़ी 20 छज्जूपुर 21 छावलां 22 धनी रामपुरा 23 धूलगढ़ 24 दिवाना 25 दुनिया माजरा 26 फतेहगढ़ माजरा चमु 27 गंगहेड़ी 28 गढ़ी लांगरी 29 गढ़ी रोड़ान 30 ग्लेडवा 31 गोरखा 32 गुलडेहरा 33 गुमथला गडु 34 हेलवा 35 इस्हाक़ 36 इस्माइलपुर 37 जखवाला 38 जल बेहड़ा 39 झांसा 40 झिंवरहेड़ी 41 जोरासी कलां 42 जोरासी खुर्द 43 ककराला गुजरान 44 कलसा 45 कमोदा 46 कंथला 47 कराह 48 खंजरपुर 49 खानपुर रोड़ान 50 खेड़ी सहीदां 51 खेड़ी शीशगरां 52 खिज़र पुरा 53 कुम्हार माजरा 54 लोहार माजरा 55 लोटनी 56 मदहरन 57 माजरी कलां 58 माजरी खुर्द 59 मलिकपुर 60 मांडी 61 मांगना 62 मेघा माजरा 63 मोहनपुर 64 मोरथली 65 मुकीमपुर 66 मुर्तजापुर 67 नैसी 68 निकतपुरा उर्फ़ गढ़ी सिंहगां 69 निंबवाला 70 नूरपुर बुचि 71 पीपली माजरा 72 रामगढ रोड़ 73 रतनगढ़ उर्फ़ ककराल 74 रोहटी 75 रुआ 76 सैदपुर सहीदां 77 संधोला 78 संधोली 79 सैंसा 80 सारसा 81 सरुस्ती खेड़ा 82 सतौरा 83 स्योंसर 84 शाहपुर 85 शांति नगर उर्फ़ कुरड़ी 86 शेखपुर माजरा चम्मु 87 शेरगढ़ 88 श्री नगर 89 सिआना सैदां 90 सिंह पूरा 91 सुरमी 92 टबरा 93 ताकोरन 94 तलहेड़ी 95 तंगोली 96 टयूकर 97 थाना 98 थंडरान 99 ठसका मिरंजी 100 थेमलबोड़ा 101 ठोल 102 टिकरी 103 उर्णाय 104 उरनैचा 105 उस्मानपुर 106 जुलमत

आवागमनसंपादित करें

वायु मार्ग पिहोवा के सबसे नजदीक चण्डीगढ़ तथा दिल्ली हवाई अड्डा है। चण्डीगढ़, दिल्ली से पर्यटक कार, बस और टैक्सी द्वारा राष्ट्रीय राजमार्ग 65 व राष्ट्रीय राजमार्ग 1 द्वारा आसानी से पिहोवा तक पहुंच सकते हैं।

रेल मार्ग रेलमार्ग से पिहोवा पहुंचने के लिए पर्यटकों को पहले कुरूक्षेत्र या अंबाला आना पड़ता है।

सड़क मार्ग दिल्ली से पर्यटक कार, बस और टैक्सी द्वारा राष्ट्रीय राजमार्ग 1 द्वारा कुरुक्षेत्र तक, तदुपरांत पिहोवा तक पहुंच सकते हैं। चण्डीगढ़ से राष्ट्रीय राजमार्ग 65 से सीधा पिहोवा तक पहुंच सकते हैं। पंजाब से पटियाला से भी सड़क मार्ग द्वारा पिहोवा तक आ सकते हैं।



==बाहरी कड़ियाँ==https://www.laafonlearn.com/2020/07/pehowa-complete-jankari.html

सन्दर्भसंपादित करें