प्रकाशाहारी (Phototroph) ऐसे जीव होते हैं जो प्रकाश के फ़ोटोनों की ऊर्जा से विभिन्न कोशिकीय चयापचय प्रक्रियाएँ चलाते हैं। हालांकि बहुत से प्रकाशाहारी प्रकाश-संश्लेषण (photosynthesis) करते हैं, अन्य इस से भिन्न प्रक्रियाओं से भी ऊर्जा प्राप्त करते हैं।[1][2]

जलीय और थलीय प्रकाशाहारी: शैवाल से भरे पानी में गिरी हुई लकड़ी पर उगते पौधे

इन्हें भी देखेंसंपादित करें

सन्दर्भसंपादित करें

  1. Lwoff, A., C.B. van Niel, P.J. Ryan, and E.L. Tatum (1946). Nomenclature of nutritional types of microorganisms. Cold Spring Harbor Symposia on Quantitative Biology (5th edn.), Vol. XI, The Biological Laboratory, Cold Spring Harbor, NY, pp. 302–303, [1] Archived 7 नवम्बर 2017 at the वेबैक मशीन..
  2. Schneider, С. K. 1917. Illustriertes Handwörterbuch der Botanik. 2. Aufl., herausgeg. von K. Linsbauer. Leipzig: Engelmann, [2] Archived 3 जुलाई 2018 at the वेबैक मशीन..