मुख्य मेनू खोलें

बादल 2000 में बनी हिन्दी भाषा की एक्शन फ़िल्म है। इसका निर्देशन राज कँवर ने किया है और इसमें बॉबी देओल, रानी मुखर्जी, आशुतोष राना और अमरीश पुरी प्रमुख किरदारों को निभाते हैं।[1]

बादल
बादल1.jpg
बादल का पोस्टर
निर्देशक राज कँवर
निर्माता सलीम अख्तर
लेखक संतोष सरोज (संवाद)
पटकथा सुतानू गुप्ता
रोबिन भट्ट
कहानी राज कँवर
अभिनेता बॉबी देओल,
रानी मुखर्जी,
आशुतोष राना,
आशीष विद्यार्थी,
अमरीश पुरी
संगीतकार अनु मलिक
प्रदर्शन तिथि(याँ) 11 फरवरी, 2000
देश भारत
भाषा हिन्दी

संक्षेपसंपादित करें

बादल (बॉबी देओल) 1984 के दंगों का शिकार रहा है, जिसे एक आतंकवादी (आशीष विद्यार्थी) द्वारा पाला गया। राजा अब भोला-भाला गाँव का बालक नहीं रहा है। वो अब आतंकवादियों में शामिल हो गया है और बैंक लूटने में उनकी मदद करता है। कुछ समय के लिए उसे छिपने के लिए कहा जाता है। एक ईमानदार पुलिस अधिकारी (अमरीश पुरी) और उसका परिवार युवा बादल को शरण देता है जहाँ चुलबुली रानी (रानी मुखर्जी) उसके साथ प्यार में पागल हो जाती है। रंजीत सिंह का परिवार अंततः बादल को एक बेटे के रूप में मान लेता है। सिंह परिवार और रानी के माध्यम से बादल को जीवन का एक नया मोड़ मिलता है और वो भावनाओं, प्रेम और रिश्तों के मूल्यों को समझने लगता है, जो उसे अपने जीवन में कभी नहीं मिले।

इसके बाद भी बादल अपने माता-पिता के हत्यारे के बारे में नहीं भूला है। सिंह परिवार से मित्रता करने के बाद बादल अब पुलिस महानिदेशक राणा (आशुतोष राना) को मारने के एकमात्र उद्देश्य के साथ जी रहा है। राणा पंजाब के गांवों में निर्दोष लोगों के क्रूर उत्पीड़न और हत्याओं के लिए जिम्मेदार है, जिसमें बादल का पूरा परिवार भी शामिल है। बादल का उद्देश्य उस विश्वासघाती पुलिस अधिकारी को मारना रह गया है जिसने उसके माता-पिता और उसकी प्यारी बहन की हत्या कर दी थी। कई घुमाव और मोड़ के बाद वह विश्वासघाती जयसिंह राणा से मिलता है जो अब डीआईजी बन गया है। बादल अंत में अपना बदला जयसिंह को मारके लेता है।

मुख्य कलाकारसंपादित करें

संगीतसंपादित करें

सभी गीत समीर द्वारा लिखित; सारा संगीत अनु मलिक द्वारा रचित।

क्र॰शीर्षकगायकअवधि
1."ना मिलो हम से ज्यादा"कविता कृष्णमूर्ति, सोनू निगम6:47
2."यार मेरे यारा मेरे यारम"उदित नारायण, अनुराधा पौडवाल5:40
3."तुझे देख के दिल मेरा"उदित नारायण, जसपिंदर नरुला5:33
4."आय हाय जुगनी जुगनी"सुखविंदर सिंह, जसपिंदर नरुला, अनुराधा पौडवाल7:40
5."अल्लाह अल्लाह मैं हुई जवाँ"कविता कृष्णमूर्ति, डोमिनिक मैनुअल5:30
6."लाल गरारा" (मरे ये सारे सारे)जसपिंदर नरुला, सपना अवस्थी, डोमिनिक मैनुअल6:50
7."सभी गीत का मिश्रण"कविता कृष्णमूर्ति, डोमिनिक मैनुअल5:21
8."ना मिलो हम से ज्यादा" (वाद्य संगीत)N/A6:47

सन्दर्भसंपादित करें

  1. "फिल्में ही नहीं कमाई के लिए ये काम भी करते हैं बॉबी देओल". अमर उजाला. अभिगमन तिथि 1 जनवरी 2019.

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें